Patrika : Leading Hindi News Portal - Jaipur #bharatpages bharatpages.in

Patrika : Leading Hindi News Portal - Jaipur

http://api.patrika.com/rss/jaipur-news 👁 355026

पहले पति से की दोस्ती, फिर पत्नी को ​बनाया शिकार, वीडियो बना लूटता रहा आबरू


जयपुर। सांगानेर सदर थाना इलाके में एक महिला से उसके पति के दोस्त द्वारा नशीला पदार्थ पिलाकर दुष्कर्म करने का मामला सामने आया है। पीड़िता ने इस संबंध में इस्तगासे के जरिए रिपोर्ट दर्ज करवाई है। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

थानाधिकारी हरिपाल सिंह ने बताया कि इलाके निवासी 26 वर्षीय महिला ने रिपोर्ट दर्ज करवाई है कि प्रेम अवस्थी नाम का व्यक्ति उसके पति के साथ ऑफिस में काम करता है। इस वजह से उसका घर पर आना-जाना है। पीड़िता का आरोप है कि करीब सालभर पहले प्रेम ने नशीला पदार्थ पिलाकर उसके साथ दुष्कर्म किया और घटना की अश्लील फोटो वीडियो बना ली। इसके बाद फोटो, वीडियो को सोशल मीडिया में वायरल करने की धमकी देकर आरोपी लगातार देहशोषण करता आ रहा है। पीड़िता के बयानों के आधार पर मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है।

बलात्कार के अभियुक्त पड़ोसी को दस वर्ष का कारावास

उधर नाहरगढ़ रोड थाना इलाके में जून 2012 में एक विधवा को डरा-धमका कर बलात्कार करने के अपराध में गिरफ्तार किए गए पड़ोसी अभियुक्त पुरानी बस्ती निवासी प्रकाश उर्फ सोनू पारीक (36) को महिला उत्पीडऩ मामलों की स्पेशल कोर्ट-एक में जज डॉ. संजय कुमार गुप्ता ने 10 साल के कठोर कारावास एवं 6 हजार रुपए के जुर्माने की सजा सुनाई। अभियुक्तों ने पीडि़ता की मां और भाई को जान से मारने की धमकी देकर पीडि़ता को डरा-धमका कर उसके साथ बलात्कार किया था। अभियोजन ने अदालत में 11 गवाहों के बयान करवाए।

ट्रेन की चपेट में आने से मौत
सांगानेर इलाके में गुरुवार सुबह ट्रेन की चपेट में आने से एक चरवाहे की मौत हो गई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर अस्पताल की मोर्चरी पहुंचाया, जहां पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों के हवाले कर दिया गया। एएसआई लालचंद ने बताया कि मृतक रघुनाथ (40) सांभर का रहने वाला था जिसकी सीतापुरा फाटक के पास करीब दस बजे ट्रेन की चपेट में आने से मौत हो गई।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/jaipur-crime-news-housewife-rape-case-accuse-is-husband-friend-5234890/

दिवाली पर सरकार का तोहफा, यहां सस्ते मिलेंगे पटाखे, सोने-चांदी के सिक्के और अन्य सामान


जयपुर। Diwali 2019 राज्य सहकारी उपभोक्ता संघ ( State Cooperative Consumer Association ) के तीन उपहार केन्द्रों पर 21 अक्टूबर दीपोत्सव ( Deepotsav ) मेला आयोजित होगा। सहकारी समितियों के रजिस्ट्रार नीरज के पवन ने बताया कि 27 अक्टूबर तक चलने वाला यह मेला नवजीवन उपहार सुपर मार्केट (भवानी सिंह रोड), वैशाली नगर एवं करधनी शॉपिंग सेन्टर मालवीय नगर उपहार केन्द्र पर लगाया जा रहा है। इन मेलों में स्वदेशी शिवाकाशी के पटाखे, एमएमटीसी के सोने-चादी के सिक्के ( Gold and Siliver Coin ) एवं बर्तन आकर्षक के केन्द्र होंगे। सहकारिता रजिस्ट्रार डॉ. नीरज के. पवन ने गुरूवार को यहां सहकार भवन में मेले का लोगो एवं पोस्टर का विमोचन किया। उन्होंने बताया कि दीपोत्सव मेले में एक ही छत के नीचे गुणवत्तापूर्ण पटाखों सहित सभी आवश्यक त्योहारी वस्तुएं सस्ते मूल्य पर उपलब्ध होंगी।

जयपुर में तीन केन्द्रों पर लगेंगे मेले

डॉ. पवन ने बताया है कि केन्द्रों पर उपभोक्ताओं के लिए ब्राण्डेड वस्तुओं की ही बिक्री होगी। उन्होंने बताया कि जयपुर में तीन केन्द्रों नवजीवन उपहार सुपर मार्केट (भवानी सिंह रोड), वैशाली नगर एवं करधनी शॉपिंग सेन्टर, मालवीय नगर उपहार केन्द्रों पर दीपावली त्यौहार से सम्बन्धित सभी प्रकार की सामग्री उपलब्ध होंगी। उन्होंने बताया कि पूर्व वर्षों की भांति इस वर्ष भी जयपुर शहर में उपभोक्ता संघ व जिलों में सहकारी उपभोक्ता भंडार व सहकारी विपणन समिति द्वारा दीपोत्सव मेलों का आयोजन किया जा रहा है।

शिवाकाशी के पटाखे एवं एमएमटीसी के सिक्के होंगे आकर्षक केन्द्र

रजिस्ट्रार डॉ. नीरज के. पवन ने बताया कि दीपावली पर आयोजित इन मेलों में स्वदेशी शिवाकाशी (तमिलनाडू) के अच्छी किस्म के पटाखे मंगाये गये हैं। वहीं एमएमटीसी (भारत सरकार के उपक्रम) के सोने-चादी के सिक्के एवं बर्तन आकर्षक के केन्द्र होंगे। उपभोक्ता संघ के प्रबन्ध संचालक वीके वर्मा ने बताया कि दीपावली पूजन सामग्री,पटाखे, मिठाइयां, सूखे मेवे, परिधान, बैडशीट्स, धनतेरस के बर्तन, इलेक्ट्रॉनिक सामान एवं उपयोगी वस्तुएं भी उपभोक्ताओं के लिए उपलब्ध रहेंगी।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/diwali-2019-cooperative-department-to-sell-crackers-gold-silver-coin-5234687/

दारा सिंह एनकाउंटर-हाईकोर्ट ने नौ पुलिसकर्मियों से किया जवाब तलब


जयपुर

कोर्ट ने मृतक की पत्नी सुशीला देवी और दारा के साथी तथा प्रमुख गवाह विजेन्द्र उर्फ टिलिया को भी नोटिस जारी कर पूछा है कि क्यों ना उनके खिलाफ पक्षद्रोही होने के कारण कानूनी कार्रवाई की जाए। न्यायाधीश सबीना और न्यायाधीश इन्द्रजीत सिंह की बैंच ने यह अंतरिम आदेश सीबीआई की तीन अपीलों पर दिए हैं। मामले में अगली सुनवाई 12 दिसंबर को होगी।
यह है मामला-

23 अक्टूबर,2006 को हुए इस एनकाउंटर को मृतक दारा सिंह की पत्नी ने फर्जी बताकर अपने पति की हत्या का आरोप लगाया था। सुशीला की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने जांच सीबीआई को सौंपी थी। सीबीआई ने बीजेपी नेता राजेन्द्र सिंह राठौड़ सहित तत्कालीन अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक ए.के.जैन व आईपीएस ए.पोन्नूचामी सहित कुल 15 पुलिसकर्मियों को आरोपी बनाया था। राठौड़ इस मामले में गिरफ्तार भी हुए लेकिन दो महीने बाद ही ट्रायल कोर्ट ने राठौड़ को डिस्चार्ज कर दिया था। हालांकि हाईकोर्ट ने इस आदेश को रद्द कर दिया था लेकिन,सुप्रीम कोर्ट ने राठौड़ की अपील पर हाईकोर्ट के आदेश पर रोक लगा दी थी। बाद मंे हाईकोर्ट ने एे.के.जैन को भी डिस्चार्ज कर दिया था और 13 मार्च,2018 को ट्रायल कोर्ट ने बाकी सभी 14 आरोपियों को बरी कर दिया था।
सीबीआई का कहना है कि विजेन्द्र सीआपीसी की धारा-164 के तहत मजिस्ट्रेट के समक्ष दिए बयानों से ट्रायल के दौरान पलट गया था और सुशीला देवी स्वयं सीबीआई जांच की मांग लेकर सुप्रीम कोर्ट तक गई थी लेकिन वह भी ट्रायल में बयानों से पलट गई। सीबीआई ने दोनों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की मांग की है।

कोर्ट ने अरशद अली,निसार खान,नरेश शर्मा,राजेश चौधरी,जुल्फिकार,अरविंद भारद्वाज,सुरेन्द्र सिंह,जगराम और सरदार सिंह को नोटिस जारी किए हैं जबकि आईपीएस ए.पोन्नूचामी सहित सुभाष गोदारा,सत्यनारायण गोदारा और बद्रीप्रसाद की ओर से एडवोकेट अजय कुमार जैन के हाजिर हो गए। हालांकि अभी अदालत ने अपील दायर करने में देरी की माफी देने पर कोई फैसला नहीं किया है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/hc-issues-notice-to-9-police-officers-in-dara-singh-encounter-case-5234675/

Delhi Zoo : शेर के पिंजरे में गिरा युवक,कर्मचारियों ने बचाई युवक की जान



दिल्ली स्थित चिडि़याघर में एक युवक गुरुवार को शेर के पिंजरे में जा गिरा। शेर के सामने युवक को देखकर आस.पास मौजूद लोगों में भगदड़ मच गई। आनन.फानन में मौके पर पहुंचे चिडि़याघर के कर्मचारियों ने युवक को शेर के पंजों में जाने से बचाया। हादसा कैसे हुआ इसकी जांच की जा रही है। इसी तरह का एक वाकया दिल्ली केचिडि़याघर घर में सन 2014 में भी हुआ था। उस घटना में शेर ने युवक को मार डाला था।
दिल्ली पुलिस के संयुक्त आयुक्त देवेश चंद्र श्रीवास्तव ने घटना की पुष्टि की है। संयुक्त पुलिस आयुक्त ने आगे कहा, घटना दोपहर करीब 12 बजे घटी। युवक का नाम रेहान है। रेहान बिहार का मूल निवासी है।
देवेश श्रीवास्तव के मुताबिक, रेहान क्या करता है इसका पता नहीं चला है। यह भी जांच की जा रही है कि, रेहान एक हादसे के चलते गिरा या फिर यह घटना किसी शरारत का परिणाम है।
घटना के वक्त मौके पर काफी लोग थे। उसी वक्त अचानक रेहान के शेर के पिंजरे में गिर जाने से भगदड़ मच गई। शेर के पिंजड़े में युवक के गिरने की खबर फैलते ही मौके पर पुलिस और चिडयि़ा घर के कर्मचारी भी पहुंच गए।
देवेश चंद्र श्रीवास्तव ने आगे कहा, अब तक हुई छानबीन में यही पता चला है कि मौत के मुंह में जाते.जाते बचा युवक रेहान दिल्ली घूमने आया था। संयुक्त पुलिस आयुक्त के मुताबिक, मौके पर लकड़ी की एक बल्ली टूटी पाई गई है। जांच इस बात की भी की जा रही है कि आखिर बल्ली कैसे टूटी। उन्होंने युवक रेहान के कुशल होने की पुष्टि करते हुए कहा, लकड़ी की बल्ली कैसे टूटी? क्या लकड़ी की बल्ली को जबरदस्ती दबाब देकर तोड़ा गया या फिर वह कमजोर होने के चलते टूट गई जिससे युवक रेहान शेर के करीब जा पहुंचा। इन तमाम सवालों की पड़ताल चिडि़याघर प्रशासन भी कर रहा है।

पहले भी जा चुकी है जान
उल्लेखनीय है कि इसी तरह की एक लापरवाही पूर्ण घटना में सितंबर 2014 में दिल्ली के 27 साल के एक युवक को जान से हाथ धोना पड़ गया था। इसी चिडि़याघर में घूमने पहुंचा एक युवक सफेद शेर के सामने जा गिरा। 10 मिनट तक शेर और युवक आमने सामने डटे रहे, अंतत: शेर ने युवक को मार डाला था। हादसे में जान गंवाने वाले युवक का नाम मकसूद था। मकसूद दिल्ली के ही आनंद पर्वत इलाके में स्थित एक गत्ता फैक्टरी में नौकरी करता था। वो मूलत: जयपुर रहने वाला था। जिन दिनों मकसूद ने शेर के हाथों अपनी जान गंवाई, तब वो दिल्ली के जखीरा इलाके में माता.पिता के साथ रह रहा था। घटना वाले दिन मकसूद सफेद शेर के पिंजरे में जा गिरा था। उसका पैर फिसल गया था। जब तक सुरक्षाकर्मियों ने मकसूद को शेर के सामने से बचाने के उपाय किए, तब तक बहुत देर हो चुकी थी।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/a-young-man-fell-in-a-lion-cage-employees-saved-the-life-of-a-young-ma-5234652/

खरीदारों ने महंगे सोने से दूरी बनाई


बढ़ती कीमतों की वजह से इस बार धनतेरस पर सोने की चमक फीकी पड़ सकती है। एक्सपट्र्स ने ऐसी उम्मीद जताई है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कीमतों में बढ़ोतरी और इंपोर्ट ड्यूटी में इजाफा इसकी एक बड़ी वजह हो सकता हैं। हर साल धनतेरस के दिन देश में 40 टन सोने की बिक्री होती है। कीमतें बढऩे और इंपोर्ट ड्यूटी में बढ़ोतरी का असर सोने की वजह सोने के आयात में भी गिरावट दर्ज की गई है। आपको बता दें कि भारत ने इस साल सितंबर में केवल 26 टन सोना आयात किया है, जबकि पिछले साल यह 81.71 टन सोना आयात किया गया था। पिछले साल की तुलना में इस बार आयात में 68.18 फीसदी की गिरावट देखी गई है।
एक अक्टूबर 2018 में सोने का भाव 3१,५०० रुपए प्रति दस ग्राम के करीब था, जो अब 3९ हजार रुपए को पार पहुंच गया है। एक साल में सोने भावों में ८००० रुपए प्रति दस ग्राम का उछाल आया है। पिछले १७ दिनों में सोना १२०० रुपए प्रति दस ग्राम तक उछल गया है। चांदी के भाव भी इन १७ दिनों में १४५० रुपए प्रति किलोग्राम तक चढ़ गए। पांच जुलाई को बजट में सोने पर आयात शुल्क 10 से बढ़ाकर 12.5 फीसदी किया गया था। व्यापार युद्ध गहराने और वैश्विक स्तर पर शेयर बाजार में गिरावट के दौर के बाद यह तेजी से चढ़ता रहा।

पुराने सोने की बिक्री
पुराने सोने की बिक्री ने सात साल के ऊंचे स्तर पर पहुंच गई है। वल्र्ड गोल्ड काउंसिल के मुताबिक, ग्राहकों ने 37.9 टन सोना पहली तिमाही में बेचा है। तिमाही के हिसाब से यह बिक्री सितंबर 2016 के बाद सबसे ऊंचे स्तर पर है।

सोना आयात कई सालों के निचले स्तर पर

मार्केट एक्स्पट्र्स का कहना है सरकार द्वारा जुलाई में आयात शुल्क 10 फीसदी से बढ़ाकर 12.5 फीसदी करने के बाद सोने का आयात पिछले कई सालों के निचले स्तर पर पहुंच गया है। सर्राफा कारोबारियों के अनुसार तीन तरह के सोने की मांग होती है। एक शादी के लिए, त्योहारों में और नियमित मांग। नियमित मांग लिक्विडिटी संकट की वजह से पहले ही काफी कम है । लोग बढ़ी कीमतों की वजह से सोने में निवेश भी नहीं कर रहे हैं। इस फेस्टिवल सीजन में भी सोने की डिमांड कम ही रहेगी।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/buyers-distance-themselves-from-expensive-gold-5234507/

इस विभाग ने दिया जनता को दिवाली गिफ्ट


निगम की ओर से प्रकाशित मार्गदर्शिका आपके लिये गाइड का काम करेगी। इसमें आवेदन की प्रक्रिया, आवश्यक शपथ पत्र का प्रारूप एवं आवेदन पत्र जुड़े होंगे। नगर निगम की ओर से आमजन से जुड़ी अलग-अलग तरह की योजनाओं एवं उनका लाभ उठाने की प्रक्रिया और उसके लिये आवश्यक दस्तावेजों की जानकारी देने वाली 11 प्रकार की मिनी गाइड प्रकाशित करवाई गई हैं।
अभी इन कामों में मिलेगी गाइड
जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र, विवाह पंजीयन, फायर एनओसी, थड़ी-ठेले/ जब्त सामान/ जब्त आवारा पशु छुड़वाने, विवाह स्थल पंजीयन/ मीट शॉप लाइंसेस, डेयरी बूथ आंवटन/गृहकर व नगरीय विकास कर स्वनिर्धारण/सामुदायिक केन्द्र किराये पर लेने, दीनदयाल अन्त्योदय योजना/राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन/मृतक आश्रित की नियुक्ति, भवन निर्माण मानचित्र स्वीकृति, सूचना का अधिकार एवं राजस्थान लोकसेवाओं के प्रदान की गांरटी अधिनियम 2011 के लाभ की प्रक्रिया एवं आवेदन पत्र इन मार्गदर्शिकाओं में संलग्न है।
कैसे मिलेगा मार्गदर्शन
मार्गदर्शिका में उस कार्य की प्रक्रिया, उसके आवेदन पत्र एवं उसके लिये आवश्यक शपथ पत्र एवं अन्य दस्तावेजों की जानकारी दी गई है। इसके अलावा मार्गदर्शिका पर निगम से जुड़े महत्वपूर्ण फोन नंबर एवं पते दर्ज किये गये है।
कहां पर मिलेगी ये मिनी गाइड
निगम मुख्यालय एवं जोन कार्यालयों पर आप किसी कार्य के लिये आवेदन करने के लिये सिटीजन हैल्पलाइन जाएंगे तो आपको वहां यह मिनी गाइड दी जाएगी।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/mini-guide-for-citizens-in-jmc-jaipur-5234460/

Delhi Air Pollution : दिल्ली में हवा की गुणवत्ता बहुत खराब



राष्ट्रीय राजधानी में गुरुवार को समग्र रूप से हवा की गुणवत्ता गिरकर बहुत खराब श्रेणी में चली गई और वायु गुणवत्ता सूचकांक का स्कोर 304 हो गया। ऐसा सीजन में पहली बार हुआ है। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि स्थानीय प्रदूषक कण अभी तक बिखरे नहीं हैं। सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड के वायु गुणवत्ता लैब के प्रमुख वीके शुक्ला ने कहा कि हवा की गुणवत्ता बहुत खराब हो गई है, क्योंकि स्थानीय प्रदूषकों को बिखराव नहीं हो रहा है, ऐसा मौसम की प्रतिकूल स्थितियों की वजह से है। शुक्ला ने कहा कि राजधानी में पराली जलाने का स्तर बहुत ज्यादा नहीं है। उन्होंने कहा कि हवा की गुणवत्ता के आकलन के लिए जाड़ा महत्वपूर्ण होगा। सीपीसीबी ने दिल्ली.एनसीआर क्षेत्र में वायु की गुणवत्ता की निगरानी के लिए 46 टीमें बनाई हैं, जो संबंधित अधिकारियों को कार्रवाई के लिए समीर एप से सूचनाएं भेज रही हैं।

इन्वायरमेंट पॉल्यूशन प्रिवेंशन और कंट्रोल अथॉरिटी ने भी अधिकारियों को निर्देश दिए हैं और ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान 15 अक्टूबर से लागू है। सफर इंडिया के पूर्वानुमान के अनुसार, दिल्ली में समग्र रूप से हवा की गुणवत्ता गुरुवार को बहुत खराब श्रेणी के निचले स्तर पर ही और पीएम 2.5 रहा और लेड प्रदूषकों का स्कोर 125 रहा। यह सीजन में पहली बार है कि यह इस जोन में आई है और इसके अगले दो दिनों में इसी श्रेणी में बने रहने की संभावना है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/air-quality-in-delhi-is-very-poor-5234449/

UPPSC PCS Prelims 2019 के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू, फटाफट करें अप्लाइ


UPPSC PCS recruitment 2019 : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (Uttar Pradesh Public Service Commission) (UPPSC) ने संयुक्त राज्य ऊपरी उप अधीनस्थ सेवाएं (Combined State Upper Sub subordinate services) या पीसीएस प्रारंभिक परीक्षा (PCS preliminary exams) के लिए रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर शुरू कर दी है। रजिस्ट्रेशन की आखिरी तारीख 11 नवंबर है। हालांकि, आवेदन 13 नवंबर तक जमा करवाए जा सकते हैं। इस भर्ती प्रक्रिया के तहत कुल 353 पदों को भरा जाएगा। परीक्षा बहुविकल्पीय प्रश्न आधारित होगी, लेकिन ऑफलाइन आयोजित की जाएगी। जो उम्मीदवार प्रारंभिक परीक्षा में सफल होंगे उन्हें मुख्य परीक्षा और फिर इंटरव्यू राउंड के लिए बुलाया जाएगा।

UPPSC PCS recruitment 2019 : पात्रता मानदंड
उम्र सीमा : आवेदन करने के लिए उम्मीदवार की न्यूनतम उम्र कम से कम 21 साल होनी चाहिए। ऊपरी आयु सीमा 40 साल रखी गई है। सरकार के नियमों के तहत आरक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों को उम्र सीमा में छूट दी जाएगी।

शैक्षिक योग्यता : आवेदन करने वाले उम्मीदवारों के पास मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी की कम से कम ग्रेजुएशन डिग्री होनी चाहिए।

UPPSC PCS recruitment 2019 : ऐसे करें अप्लाइ
-आधिकारिक वेबसाइट uppsc.up.nic.in पर लॉग इन करें

-होमपेज खुलने पर UPPSC prelims लिंक पर क्लिक करें

-आपको नए पेज पर भेज दिया जाएगा, exam name के पास दिए गए apply button पर क्लिक करें

-more registration पर क्लिक करें, डिटेल्स भरें, पुष्टि करें

-फॉर्म भरें, images अपलोड करें

-भुगतान करने के बाद सबमिट करें

UPPSC PCS recruitment 2019 : फीस
उम्मीदवाराों को फीस के रूप में 125 रुपए अदा करने होंगे। आरक्षित श्रेणी और दिव्यांग उम्मीदवारों को फीस के रूप में क्रमश: 65 और 25 रुपए अदा करने होंगे। स्वतंत्रता सेनानियों के आश्रितों को, पूर्व सैनिकों और महिला उम्मीदवारों से शुल्क नहीं लिया जाएगा।

UPPSC PCS recruitment 2019 : सैलेरी
जिन उम्मीदवारों का चयन रेंज फॉरेस्ट अधिकारी पद पर चयन होगा, उन्हें ग्रेड पे 4800 रुपए के साथ साथ 9 हजार 300 से 34 हजार 800 रुपए सैलेरी के रूप में दिए जाएंगे। वन सहायक संरक्षक के पद के लिए चयनित उम्मीदवारों को वेतनमान 15 हजार 600 से 39 हजार 100 रुपए और ग्रेड पे 5400 रुपए दिए जाएंगे।

UPPSC PCS recruitment 2019 : परीक्षा पैटर्न
उम्मीदवारों को सलाह दी जाती है कि वे आधिकारिक नोटिफिकेशन का अध्ययन कर लें।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jobs/uppsc-pcs-prelims-2019-353-posts-are-to-be-filled-steps-to-apply-5234371/

दीपावली बाद बाजार में दूसरी तरफ शुरू होगा काम


दीपावली बाद बाजार में दूसरी तरफ शुरू होगा काम

- बाजार में एक तरफ चल रहा है स्मार्ट रोड का काम
- स्मार्ट रोड तैयार, स्मार्ट पार्किंग का काम अधूरा


जयपुर। चांदपोल बाजार (Chandpol Bazar) में सडक़ के एक ओर चल रहा स्मार्ट रोड (Smart Road) का काम दीपावली (Diwali) तक पूरा हो जाएगा। स्मार्ट सिटी के अधिकारियों ने काम को गति देने के लिए पूरा अमला बाजार में लगा दिया है। दीपावली का त्योहार नजदीक आने से व्यापारियों में आक्रोश था, जिसे देखते हुए अधिकारियों ने बाजार में स्मार्ट पार्किंग स्पेस के साथ नालियों के काम को गति दी है। दीपावली के बाद बाजार में दूसरी तरफ स्मार्ट रेाड का काम शुरू होगा।

स्मार्ट सिटी के तहत चांदपोल बाजार में एक तरफ स्मार्ट रोड का काम चल रहा है। इसमें ट्रैफिक चलने के लिए स्मार्ट रोड का काम पूरा हो चुका है, अब स्मार्ट पार्किंग स्पेस बनाई जा रही है। इसे 20 अक्टूबर तक पूरा करने के लिए जयपुर स्मार्ट सिटी के अधिकारियों ने दावा किया है। चांदपोल बाजार में स्मार्ट रोड का काम त्योहार सीजन पर भारी पड़ रहा था। इसे लेकर व्यापारियों में आक्रोश था। इसके बाद विधायक अमीन कागजी और स्मार्ट सिटी के अधिकारियों ने व्यापारियों के साथ बाजार का दौरा किया। अधिकारियों ने बाजार में एक तरफ स्मार्ट रोड का काम पूरा करने के लिए 20 अक्टूबर तक का समय दिया है। बाजार में पार्र्किंग स्पेस का काम करीब आधा कर लिया गया है। इस समय पार्किंग स्पेस के साथ नालियों का काम किया जा रहा है। स्मार्ट सिटी के अधिकारियों की मानें तो नालियों व पार्किंग स्पेस के काम में बिजली की लाइन बाधा बन रही थी, जिसे जयपुर विद्युत वितरण निगम के अधिकारियों से चर्चा कर बाधा को दूर कर लिया गया है। अब काम ने गति पकड़ ली है। दीपावली तक बाजार में एक तरफ स्मार्ट रोड का काम पूरा कर लिया जाएगा।

चांदपोल बाजार में गत 28 मई को स्मार्ट रोड का काम शुरू हुआ था। बाजार में एक तरफ स्मार्ट रोड काम 60 दिन में पूरा करना था। यानी 29 जुलाई तक बाजार में एक तरफ स्मार्ट रोड तैयार करनी थी, लेकिन चार माह में भी अभी स्मार्ट रोड आधी-अधूरी बनी हैं। हालांकि त्योहारी सीजन को देखते हुए स्मार्ट सिटी के अधिकारियों ने बाजार में यातायात चालू कर दिया, लेकिन अभी काम बाकि हैं।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/chandpol-bazar-smart-road-diwali-5234359/

निकाय प्रमुख के चुनाव को लेकर भाजपा हुई हमलावर


जयपुर।
इस नए आदेश के बाद भाजपा नेताओं ने कांग्रेस को कटघरे में खड़ा किया है। भाजपा का आरोप है कि इस संशोधन से निकायों में जोड़-तोड़ की राजनीति शुरू होगी। सरकार के इन निर्णय के साथ ही भाजपा हमलावर हो गई है। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां ने कहा है कि सरकार पार्षदों की खरीद-फरोख्त के मकसद से यह संशोधन लेकर आई है। प्रत्यक्ष चुनाव में हार के डर से पहले ही अप्रत्यक्ष चुनाव का निर्णय हो चुका है और अब यह नया संशोधन लाकर सरकार ने साफ कर दिया है कि वह जोड़ तोड़ करके ज्यादा से ज्यादा निकायों पर कब्जा जमाना चाहती है, लेकिन जनता समझ चुकी है और लोकसभा चुनाव की तरह निकाय चुनाव में भी कांग्रेस का परचम लहराएगा।

जो पार्षद नहीं बन सकता, वह महापौर बनेगा
पूर्व महापौर और सांगानेर विधायक अशोक लाहोटी ने कहा है कि कांग्रेस ने पहले हार के डर से प्रत्यक्ष की बजाय अप्रत्यक्ष चुनाव कराने का निर्णय किया है। अब ऐसे व्यक्ति को महापौर बनाने की तैयारी है जो पार्षद का चुनाव नहीं जीत सकता। इनके नेता ना तो पार्षद का चुनाव लडऩा चाहते हैं और ना ही महापौर का। ये कैसे ही निर्णय ले आए, जनता इनके 10 महीने के शासन से परेशान हो चुकी है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/mayor-election-political-engineering-bjp-attacker-5234331/

तेज रफ्तार की भेंट चढ़ा मासूम, सड़क पर खून से लथपथ पड़ा रहा बच्चा, नहीं रुके वाहन, देखें वीडियो


देवेन्द्र शर्मा / जयपुर। मुरलीपुरा इलाके में गुरुवार सुबह स्कूल जा रहे एक छात्र के तेज रफ्तार स्कूटी सवार ने टक्कर कार दी। टक्कर के बाद सड़क पर गिरे छात्र के सिर को पहियों तले रौंदते हुए चालक मौके से भाग गया। दुर्घटना की आवाज सुनकर आस-पास के लोग पहुंचे। इसी दौरान मॉर्निंग वॉक कर रहे उसका ताऊ भी वहां पहुंच गया और बच्चे को बेसुध खून से लथपथ देखकर उसके होश उड़ गए। उसने टीशर्ट उतार कर बच्चे के चेहरे को ढका। तभी गश्त कर रही पुलिस की चेतक भी पहुंच गई और गंभीर घायल छात्र को अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम करवाके परिजनों को सौंपा, जिसके बाद परिजन उसे गांव ले गए।

पुलिस ने बताया कि हादसा सुबह करीब 6.53 बजे मुरलीपुरा स्थित कैडिया पैलेस के पास हुआ था। रिचा विहार निवासी हिमेश कुमावत (14) की दुर्घटना में मौत हुई है। मूलत: रेनवाल के बधाल स्थित अस्तीकलां निवासी हिमेश के पिता श्याम सुंदर कुमावत बाड़मेर में कम्पाउंडर है। हिमेश अपने बड़े भाई व मां के साथ रिचा विहार में ताऊ रतनलाल के घर पर रहकर के पढ़ाई कर रहा था।

स्कूल जा रहा था छात्र

हिमेश घर से करीब एक किलोमीटर दूर स्थित ब्राइटमून स्कूल में 10वीं की पढ़ाई कर रहा था। एक्स्ट्रा क्लास के लिए रोजना सुबह जल्दी निकलता था। गुरुवार को वह संभवत: देरी की वजह से जल्दी पहुंचना चाहता था और कैडिया पैलेस से पहले ही घुमाव पर रॉग साइड में चल पड़ा। उसकी साइकिल अनियंत्रित हो गई और सामने से आ रही तेज रफ्तार स्कूटी ने उसके टक्कर मारते हुए रौंद दिया। घटना स्थल के पास लगे एक सीसीटीवी कैमरे में दुर्घटना की फुटेज देखने को मिले हैं।

आंखें हो गई नम

ताऊ ने जब उसे सड़क पर बेसुध देखा तो उसकी आंखें छलक गई। रोते हुए वह हिमेश को संभालने लगा। बाड़मेर में उसके पिता को हादसे का पता चला तो वह भी खुद को संभाल नहीं सके। गाड़ी लेकर जयपुर के लिए निकले और ट्रैफिक के चलते पहुंचने में देरी हो गई और अपने बेटे की अंत्येष्टी मे भी शामिल नहीं हो सके।

नजदीक से गुजरा पर नहीं रुका

इस हादसे के दौरान मानवता को शर्मसार कर देने वाला नजारा भी देखने को मिला। हादसे के तुरंत बाद बच्चे के नजदीक से एक बाइक सवार गुजरा। उसने लहुलुहान और बेसुध पड़े बालक की तरफ देखना भी जरूरी नहीं समझा और वहां से निकल गया।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/10-year-old-student-dead-in-road-accident-murlipura-jaipur-5234316/

आठ शहरों में होगी प्रदूषण की जांच


जयपुर.दिवाली पर जलाए जाने वाले पटाखों के धुएं से निकलने वाले खतरनाक तत्वों का पता लगाने के लिए राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल बोर्ड इस बार विशेष वायु गुणवत्ता सूचकांक मॉनिटरिंग करवाएगा। यह मॉनिटरिंग प्राइवेट लैबोरट्री के जरिए होगी जिसकी रिपोर्ट केन्द्रीय पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड को भेजी जाएगी। सीएसओ राजकुमार शर्मा ने बताया कि बोर्ड ने इसके लिए कवायद शुरू कर दी है। जयपुर, जोधपुर, कोटा, उदयपुर, अलवर, भरतपुर, भिवाड़ी और चित्तौडगढ़़ में दिवाली से पूर्व और 27 अक्टूबर को दिवाली के बाद वायु गुणवत्ता सूचकांक की मॉनिटरिंग की जाएगी।

---------------
खतरनाक तत्वों की होगी जांच

शहर में पीएम 2.5 मॉनिटर, यूवी विजिबल स्पेक्ट्रोमर्स, आईसीपी एमएस मशीनों के लिए मॉनिटरिंग होगी। इससे हवा में पीएम (पर्टिकुलेट मैटर) 2.5, 10 सल्फर डाई ऑक्साइड, नाइट्रोजन डाई आक्साइड के साथ साथ पर्यावरण के साथ साथ इंसानों के नुकसान पहुंचाने वाले खतरनाक तत्व लेड, निकल, बैरियम, आयरन, स्ट्रोनियम की मात्रा भी पता चलेगी।
----------

मिला था 37 वां स्थान
आईक्यू एयर विजुअल और ग्रीनपीस की ओर से जारी विश्व के सबसे प्रदूषित टॉप 50 की सूची में जयपुर का 37वां स्थान है। बीते साल जनवरी से दिसम्बर तक 2.5 पीएम कणों का औसत स्तर 67.6 रहा। जोधपुर और पाली में भी प्रदूषण की स्थिति बदहतर है। 2018 में जयपुर में सबसे ज्यादा प्रदूषण जून और जनवरी में रहा। विश्व सूची के हिसाब से प्रदेश में जोधपुर की आबोहवा सबसे खराब है। इस सूची में जोधपुर का 12 वां स्थान है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/pollution-will-be-investigated-in-eight-cities-5234304/

हरियाणा में गरजे पूनियां, बोले भाजपा ने पर्ची और खर्ची सिस्टम को खत्म किया


जयपुर।
पूनियां ने कहा कि हरियाणा किसानों और जवानों की भूमि है। भारतीय जनता पार्टी ने शुरुआत से ही दोनों तबकों की भलाई और तरक्की के लिए काम किया है। अटल बिहारी वाजपेयी ने प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना, किसान क्रेडिट कार्ड योजना शुरू की तो वर्तमान में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी किसानों की भलाई के लिए अनेक योजनाएं चलाई है। साथ ही प्रधानमंत्री आवास योजना, आयुष्मान भारत योजना,ए उज्जवला योजना, जन-धन योजना, बीमा योजना सहित अनेक लोककल्याणकारी योजनाएं चलाकर गरीबों के आंसू पौंछने का काम किया है।

हरियाणा में विकास की राह पकड़ी
पूनियां ने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के नेतृत्व में हरियाणा ने विकास की राह पकड़ी है। यहां पर भ्रष्टाचार समाप्त हुआ है, नौकरियों में पर्ची और खर्ची का सिस्टम खत्म हुआ है। जिससे गरीब परिवारों के एक लाख नौजवानों को ईमानदारी से नौकरी मिली है।

कांग्रेस की लूट खत्म
उन्होंने कहा कि भाजपा ने हरियाणा में कांग्रेस की लूट को खत्म किया है। भाजपा की सरकार बनने पर किसानों को तीन लाख रुपए तक का ऋण बिना ब्याज के मिलेगा। हरियाणा में स्मार्ट सिटी की तर्ज पर स्मार्ट गांव बनेंगे, शिक्षा के लिए बिना गारंटी ऋण मिलेगा व किसानों की आय को 2022 तक दुगना करने सहित अनेक लोकहित के कार्य होंगे।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/satish-poonia-haryana-campaign-election-meeting-congress-5234172/

हाथियों पर मिर्चीबम से हमला किया तो...



हाथियों पर मिर्चीबम से हमला किया तो...

उत्तराखंड हाईकोर्ट ने हाथियों को खदेडऩे के लिए उन पर लाल मिर्च या मिर्चीबम का उपयोग करने पर प्रतिबंध लगा दिया है। राज्य में 11 हाथी कॉरीडोर के बाहरी इलाकों में रहने वाले लोग हाथियों को भगाने और इंसानों पर उनके हमले की घटनाओं को कम करने के लिए मिर्ची पाउडरों और मिर्ची बम का उपयोग करते थे। हाईकोर्ट ने इस पर रोक लगा दी है।
नेपाल के साथ-साथ उत्तर प्रदेश के तराई क्षेत्र के हाथी रामनगर, कॉर्बेट और कोसी नदी पहुंचकर राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 121 का हिस्सा पार करते हैं, जहां तीन हाथी कॉरीडोर- कोटा, चिलकिया-कोटा और दक्षिण पटलिदुन-चिलकिया स्थित हैं। मानवीय जनसंख्या बढऩे के कारण कॉरीडोर्स सालों में सिकुड़ गए हैं, जिससे हाथी इंसानी बस्तियों के करीब पहुंच गए हैं। इन कॉरीडोर के बाहरी इलाकों में रह रहे लोगों ने सालों से जंगली हाथियों से बचाने के लिए एक तरीका अपनाया। वे कॉरीडोर के बाहरी क्षेत्रों में मिर्ची के पाउडर के बैग रखते थे, और जब वे हाथियों का झुंड देखते तो मिर्ची को हवा में उड़ा देते, जिसके बाद हाथियों को पीछे हटना पड़ता।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/elephant-chilli-bomb-attack-5234078/

मिलावट के खिलाफ युद्ध की हकीकत: कोई नहीं बता रहा 90 लाख का घी असली है या नकली


जयपुर. दूदू थाना पुलिस की ओर से पकड़ा गया 90 लाख रुपए का देसी घी असली है या नकली, इसका दो दिन बीतने के बाद भी पता नहीं चल सका है। इस अवधि में पुलिस स्वास्थ्य महकमे से लेकर रसद, खाद्य और जिला प्रशासन अधिकारियों के यहां गुहार लगाती रही। एसपी ग्रामीण शंकरदत्त शर्मा ने कलक्टर को भी सूचित किया। अब पुलिस ही दबी जबान से बोल रही है कि दीपावली पर मिलावट खोरों के खिलाफ यह कारवाई कर कहीं उसने ही अपने गले में घंटी नहीं बांध ली हो। दूदू पुलिस ने मंगलवार रात धौलपुर से जोधपुर सप्लाई के लिए गए घी के 1200 पीपों से भरा ट्रक पकड़ा था। यह माल जोधपुर से वापसआ रहा था, क्योंकि जोधपुर में संबंधित व्यापारी ने इसे नकली कह लौटा दिया था। इसके बाद पुलिस ने नाकाबंदी के दौरान दूदू में यह ट्रक पकड़ा। थाना पुलिस ने खाद्य विश्लेषक विभाग से भी संपर्क साधा, लेकिन जवाब मिला कि उनके यहां मोबाइल वैन चलाने वाला ड्राइवर ही नहीं है। इसके बाद रसद, चिकित्सा विभाग से संपर्क साधा गया, लेकिन वहां से भी कोई जवाब नहीं मिला है।

ड्राइवर वैक्सिन की सप्लाई करने गया
मुख्य खाद्य विश्लेषक पंकज कुमार ने बताया कि उनके पास जो वाहन है, वह भारी है और उसे हर कोई नहीं चला सकता है। बीमारियों के चलते इस वाहन को चलाने वाला ड्राइवर राजस्थान में वैक्सिन की सप्लाई करने के लिए ट्रक लेकर गया है। दो-तीन दिन में उसके लौटने के बाद प्रयोगशाला वाहन सुचारू चलने लगेगा।

क्या बोले अफसर
जयपुर ग्रामीण डीएसओ को भेजकर जांच कराने के निर्देश दिए थे, लेकिन अभी रिपोर्ट तैयार नहीं हुई है। रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।-जगरूप सिंह यादव, जिला कलक्टर, जयपुर

-----------------
संबंधित विभागों को घी की जांच के लिए अवगत करा दिया गया है। जांच रिपोर्ट मिलते ही सख्ती से कार्रवाई की जाएगी।
-शंकरदत्त शर्मा, एसपी ग्रामीण जयपुर


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/the-reality-of-war-against-adulteration-no-one-is-telling-90-million-5234064/

दीपावली पर सहकार मेले में मिलेंगी ये खास चीजें


जयपुर

Cooperative Fair on Deepawali : दीपावली के त्योहार को देखते हुए सहकारिता विभाग की ओर से दीपोत्सव मेला लगाया जाएगा। इस मेले का हर साल शहरवासियों को इंतजार रहता है। इस मेले में बाजार से सस्ते दामों पर पटाखे मिलने के साथ ही शुद्ध सोने चांदी के सिक्के मिलने के दावे सहकारिता विभाग की ओर से किए जाते हैं। इस बार यह मेला 21 अक्टूबर से शुरू होगा और 27 अक्टूबर को दीपावली के दिन तक चलेगा। रजिस्ट्रार सहकारिता डॉ नीरज कुमार पवन ने गुरूवार को इस मेले के पोस्टर का विमोचन किया। दरअसल, सहकारिता विभाग सहकारी उपभोक्ता भण्डार सहित तीन सहकारी उपभोक्ता केन्द्रों पर उपहार सहकार दीपोत्सव मेले आयोजित करेगा। सहकारिता रजिस्ट्रार डॉ. नीरज कुमार पवन ने बताया कि दीपोत्सव मेले में एक ही छत के नीचे गुणवत्तापूर्ण पटाखों सहित सभी आवश्यक त्योहारी वस्तुएं सस्ते मूल्य पर उपलब्ध होंगी। मेले का शुभारंभ 21 अक्टूबर को होगा।

जयपुर में तीन केन्द्रों पर मेले लगेंगे।रजिस्ट्रार डॉ. पवन ने बताया है कि केन्द्रों पर उपभोक्ताओं के लिए ब्राण्डेड वस्तुओं की ही बिक्री होगी। शहर में भवानी सिंह रोड स्थित नवजीवन उपहार सुपर मार्केट, वैशाली नगर और करधनी शॉपिंग सेन्टर, मालवीय नगर उपहार केन्द्रों पर दीपावली त्यौहार से सम्बन्धित सभी प्रकार की सामग्री मेलों में उपलब्ध होगी। पिछले सालों की तरह इस बार भी मेले का आयोजन उपभोक्ता संघ व जिलों में सहकारी उपभोक्ता भंडार, सहकारी विपणन समिति की ओर से किया जाएगा।
मेले में यह होगा खास
इस मेले में शिवाकाशी के पटाखे और एमएमटीसी के सिक्के आर्कषण का केन्द्र होंगे। इन मेलों में स्वदेशी शिवाकाशी (तमिलनाडू) के अच्छी किस्म के पटाखे मंगवाए गए हैं। वहीं एमएमटीसी (भारत सरकार के उपक्रम) के सोने-चादी के सिक्के और बर्तन आकर्षक के केन्द्र होंगे। उपभोक्ता संघ के प्रबन्ध संचालक वी.के. वर्मा ने बताया कि दीपावली पूजन सामग्री,पटाखे, मिठाइयां, सूखे मेवे, परिधान, बैडशीट्स, धनतेरस के बर्तन, इलेक्ट्रॉनिक सामान एवं उपयोगी वस्तुएं भी उपभोक्ताओं के लिए उपलब्ध रहेंगी।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/festival-of-deepawali-deepotsav-mela-cooperative-departmentregistrar-5233992/

junior lineman recruitment 2019 : 10वीं पास वालों के लिए 2500 पदों पर निकली भर्ती


TSSPDCL junior lineman recruitment 2019 : तेलंगाना राज्य दक्षिणी विद्युत वितरण लिमिटेड (Telangana State Southern Power Distribution Limited) (TSSPDCL) ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर नोटिफिकेशन जारी कर इच्छुक और पात्र उम्मीदवारों से जूनियर लाइनमैन (junior lineman) पदों के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं। आवेदन प्रक्रिया 22 अक्टूबर को शुरू होगी, जो 10 नवंबर (रात 11.59 बजे) तक चलेगी। ऑनलाइन फीस भुगतान विंडो 21 अक्टूबर को खुलेगी और 10 नवंबर (शाम 5 बजे तक) को बंद हो जाएगी। नौकरी के लिए पात्र होने के लिए उम्मीदवारों को भर्ती परीक्षा में शामिल होना होगा जो 15 दिसंबर, 2019 को आयोजित होगी।

TSSPDCL junior lineman recruitment 2019 : पात्रता मानदंड
उम्र सीमा : आवेदन करने की न्यूनतम उम्र 18 साल है। ऊपरी आयु सीमा 35 साल रखी गई है। उम्र सीमा की गणना 1 जुलाई, 2019 से की जाएगी।

शैक्षिक योग्यता : उम्मीदवार ने 10वीं या समकक्ष इलेक्ट्रीकल ट्रेड में आइटीआइ कर रखी हो। जिन्होंने wireman या इलेक्ट्रीकल ट्रेड में दो वर्षीय इंटरमीडिएट वोकेशनल कोर्स कर रखा हो वे भी इन पदों के लिए आवेदन कर सकते हैं।

TSSPDCL junior lineman recruitment 2019 : ऐसे करें अप्लाइ
-आधिकारिक वेबसाइट tssouthernpower.com पर लॉग इन करें

-होमपेज खुलने पर ‘hot links’ के तहत application link पर क्लिक करें

-नया पेज खुलेगा, बुनियादी डिटेल्स भरकर रजिस्टर करें

-फॉर्म भरें, images अपलोड करें

-भुगतान करने के बाद सबमिट करें

TSSPDCL junior lineman recruitment 2019 : फीस
उम्मीदवारों को आवेदन फीस के रूप में 100 रुपए और 120 रुपए परीक्षा के रूप में अदा करने होंगे। फीस non-refundable होगी। आरक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों से कोई फीस नहीं ली जाएगी।

TSSPDCL junior lineman recruitment 2019 : सैलेरी
चयनित उम्मीदवारों को 24 हजार 340 से 39 हजार 405 रुपए सैलेरी के रूप में दिए जाएंगे।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jobs/junior-lineman-recruitment-2019-10th-pass-can-apply-for-2500-posts-5233909/

पंचायत चुनाव से पहले राष्ट्रीयकृत बैंकों के कर्ज माफ करने की कवायद


तीन राज्यों में भेजी अधिकारियों की टीम

जयपुर. लोकसभा चुनाव से पहले सहकारी बैंकों के कर्ज माफ करने के बाद अब सरकार पंचायत चुनाव से पहले किसानों के राष्ट्रीयकृत बैंकों के कर्जमाफ करने की कवायद में जुटी है। राष्ट्रीयकृत बैंकों के कर्जमाफ करने की स्कीम तैयार करने के लिए उद्देश्य से बैंक व वित्त विभाग के अधिकारियों की टीम तीन राज्यों में भेजी गई हैं। यहां हुई कर्जमाफी का अध्ययन कर ये टीमें अपनी रिपोर्ट पेश करेगी, जिसके बाद राज्य की कर्जमाफी स्कीम को अन्तिम रूप दिया जाएगा। विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने किसानों के कर्जमाफ करने का वादा किया था। सरकार बनने के बाद सरकार ने सहकारी बैंकों के दो लाख रुपए तक के कर्ज माफ कर दिए। करीब आठ हजार करोड़ रुपए के कर्जमाफ किए गए। कर्जमाफी के समय सरकार ने राष्ट्रीयकृत बैंकों से लोन लेने वाले उन किसानों को राहत देने की घोषणा की थी जो कर्ज चुकाने में सक्षम नहीं हैं। हालांकि कई माह निकलने के बाद भी सरकारी की यह घोषणा पूरी नहीं हुई।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/exercise-to-waive-loans-of-nationalized-banks-before-panchayat-electio-5233900/

आंखों के तरल में रुकावट आने से होती है ग्लूकोमा की समस्या


अंधेपन का दूसरा व अहम कारण है ग्लूकोमा। इसके लक्षणों की पहचान आसानी से न हो पाने से आंखों में सामान्यत: बहने वाले तरल पदार्थ जो आंखों के लैन्स, आयरिस व कॉर्निया को पोषण देता है, इसके बहाव में बाधा आती है। बहाव के संचालन में मददगार नाजुक जाल या छोटी-छोटी शिराओं में खराबी आने या इनके बिल्कुल बंद होने पर यह पदार्थ आंखों से बाहर नहीं निकल पाता व आंख का प्रेशर बढ़ने से ऑप्टिक नर्व की कोशिकाएं नष्ट होकर ग्लूकोमा का कारण बनती हैं।

कौन ज्यादा प्रभावित : 5 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चे, आंख की नियमित जांच न कराने वाले, फैमिली हिस्ट्री या मायोपिया (पास का दृष्टि दोष), डायबिटीज और ब्लड प्रेशर के रोगी। छोटे बच्चों में जन्मजात कालापानी, महिलाओं में आंखों का हिस्सा (आइरिस) मोटा होने के कारण भी रोग की आशंका रहती है।

जांच: आंखों में दर्द या असहजता महसूस होने पर डॉक्टरी परामर्श लें। सामान्य परीक्षण के अलावा आंखों के अंदर का दबाव जानने के लिए टोनोमेट्री, पेरिमेट्री, पैकिमेट्री, फंडोस्कोपी, ऑफ्थैल्मोस्कोपी और नजर के क्षेत्र की जांच करते हैं।

रोग के प्रकार : ओपन एंगल्ड ग्लूकोमा, क्लोज्ड एंगल ग्लूकोमा और एडवांस्ड स्टेज ग्लूकोमा। इसमें मरीज की उम्र, प्रकार और आंख की स्थिति के अनुसार इलाज तय किया जाता है।

लक्षण -
आंखों से लगातार या बार-बार पानी आना, लालिमा, आंखों का बड़ा या कॉर्निया पर धुंधलापन आने से देखने में परेशानी होना, सिरदर्द आदि प्रमुख लक्षण हैं।

इलाज : शुरुआती स्टेज में आईड्रॉप व दवाएं देते हैं। ट्रैबेक्यूलेक्टॉमी लेजर सर्जरी कर आंख के अंदर एक बहाव चैनल बनाते हैं। इससे अतिरिक्त रूप से जमा तरल पदार्थ को बाहर निकालते हैं। माइक्रोसर्जरी भी करते हैं। गंभीर स्थिति यानी ग्लूकोमा अटैक (अचानक दिखाई देना बंद होना) आने पर ग्लूकोमा वॉल्व प्रत्यारोपण भी करना पड़ता है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/disease-and-conditions/glaucoma-types-causes-symptoms-diagnosis-treatment-5233871/

Office: प्रतिदिन 40 प्रतिशत ई-मेल को अनदेखा करते हैं ज्यादातर कर्मचारी


Office: प्रतिदिन प्रत्येक कर्मचारी को औसतन 180 ईमेल आते हैं, जिसमें करीब 40 प्रतिशत ईमेल को वे अनदेखा करते हैं। वहीं महिला या पुरुष कर्मचारी केवल 16 प्रतिशत ई-मेल का ही जवाब देते हैं। एक ताजा रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है।

ये भी पढ़ेः रोबोटिक इंजीनियरिंग सहित फॉरेन कोर्स की बढ़ रही है डिमांड, दिलाते हैं लाखों का पैकेज

ये भी पढ़ेः बनें फाइनेंशियल एडवाइजर, शानदार कॅरियर के साथ कमाएंगे शानदार इनकम

इस रिपोर्ट में कार्यस्थल पर ईमेल के आदान-प्रदान के व्यापक दुरुपयोग के बारे में बताया गया है कि किस तरह ईमेल इनबॉक्स अव्यवस्थित होता है। रिपोर्ट के शोधकर्ताओं ने कहा कि स्पष्ट रूप से ईमेल बातचीत करने का एक लोकप्रिय और आवश्यक जरिया है, लेकिन हाइवर स्टेट ऑफ ईमेल रिपोर्ट से यह निष्कर्ष निकाला गया है कि ईमेल की अव्यवस्था को देखते हुए इसमें महत्वपूर्ण फेरबदल की आवश्यकता है।

ये भी पढ़ेः ऑफिस में आजमाएं ये टिप्स तो साथी मानेंगे आपका लोहा

ये भी पढ़ेः जॉब में रखें इन बातों का ख्याल तो फटाफट होगा प्रमोशन, बढ़ेगी तनख्वाह

इस रिपोर्ट के लिए कई कंपनियों के कर्मचारियों के करीब 1000 ईमेल अकाउंट्स से डेटा एकत्रित की गई। इनबॉक्स में अव्यवस्था फैलाने वाले ईमेल में सर्वाधिक योगदान कार्यस्थल या कंपनी के ग्रुप ईमेल का होता है।

रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि मात्र 51 प्रतिशत लोगों को ग्रुप ईमेल मिलता है। वहीं करीब 13 प्रतिशत ईमेल ऐसे होते हैं, जिन्हें कर्मचारियों को फॉरवर्ड किया जाता है। लोगों को फॉरवर्ड किए गए ईमेल को करीब 70 प्रतिशत लोग पढ़ते हैं, लेकिन मात्र 20 प्रतिशत ही उसका रिप्लाई करते हैं।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/management-mantra/office-maximum-employee-dont-see-official-emails-5233819/

Danik Bhaskar Rajasthan Danik Bhaskar Madhya Pradesh Danik Bhaskar Chhattisgarh Danik Bhaskar Haryana Danik Bhaskar Punjab Danik Bhaskar Jharkhand Patrika : Leading Hindi News Portal - Bhopal Patrika : Leading Hindi News Portal - Jaipur Nai Dunia Latest News Danik Bhaskar National News Hindustan Hindi The Hindu Patrika : Leading Hindi News Portal - Astrology and Spirituality Danik Bhaskar Uttar Pradesh Danik Bhaskar Himachal+Chandigarh Patrika : Leading Hindi News Portal - Lucknow Patrika : Leading Hindi News Portal - Mumbai Nai Dunia Madhya Pradesh News Patrika : Leading Hindi News Portal - Entertainment Patrika : Leading Hindi News Portal - Miscellenous India onlinekhabar.com Patrika : Leading Hindi News Portal - Varanasi Danik Bhaskar Delhi News 18 NDTV News - Latest Danik Bhaskar Technology News Patrika : Leading Hindi News Portal - Sports Patrika : Leading Hindi News Portal - Business Patrika : Leading Hindi News Portal - Education Patrika : Leading Hindi News Portal - World Orissa POST Danik Bhaskar Health News NDTV Khabar - Latest hs.news Patrika : Leading Hindi News Portal - Bollywood ET Home NDTV News - Top-stories Scroll.in NDTV Top Stories Moneycontrol Latest News Telangana Today Danik Bhaskar International News Bharatpages India Business Directory India Today | Latest Stories NDTV News - India-news Patrika : Leading Hindi News Portal - Mobile ABC News: International Business Standard Top Stories Danik Bhaskar Breaking News Danik Bhaskar Madhya Pradesh Nagpur Today : Nagpur News The Dawn News - Home NDTV News - Special Jammu Kashmir Latest News | Tourism | Breaking News J&K NSE News - Latest Corporate Announcements NDTV Videos Bollywood News and Gossip | Bollywood Movie Reviews, Songs and Videos | Bollywood Actress and Actors Updates | Bollywoodlife.com Baseerat Online Urdu News Portal Rising Kashmir Stocks-Markets-Economic Times View All
Directory Listing in JHARKHAND CHANDIGARH MEGHALAYA TRIPURA TAMIL NADU JAMMU & KASHMIR NAGALAND MANIPUR RAJASTHAN ANDHRA PRADESH DAMAN & DIU CHATTISGARH TELANGANA ASSAM MAHARASHTRA HARYANA Puducherry UTTAR PRADESH Dadra and Nagar LAKSHDWEEP UTTARAKHAND ANDAMAN & NICOBAR HIMACHAL PRADESH BIHAR MIZORAM PUNJAB ARUNACHAL PRADESH MADHYA PRADESH GOA WEST BENGAL ORISSA KARNATAKA KERALA Sikkim DELHI GUJRAT