PATRIKA : LEADING HINDI NEWS PORTAL - BHOPAL #BHARATPAGES BHARATPAGES.IN

Patrika : Leading Hindi News Portal - Bhopal

http://api.patrika.com/rss/bhopal-news 👁 556410

telemedicine : इस नई तकनीक से सैकड़ों किलोमीटर दूर बैठे डॉक्टर करेंगे इलाज, कागजों से भी मिलेगा छुटकारा


भोपाल. शहर के पहले संजीवनी क्लीनिक का शनिवार को शुभारंभ किया गया। वार्ड 46 के प्रियदर्शिनी नगर में शुरू हुए क्लीनिक का उद्देश्य लोगों को छोटी-छोटी बीमारियों में जेपी अस्पताल या हमीदिया अस्पताल जाने से बचाना है। क्लीनिक की सबसे बड़ी खूबी यह है कि यहां सामान्य उपचार के साथ गंभीर रोगों से जूझ रहे मरीजों का इलाज जयपुर मेडिकल कॉलेज के चिकित्सक करेंगे। दरअसल इन क्लीनिक को टेलीमेडिसिन के माध्यम से जयपुर मेडिकल कॉलेज से जोड़ा जा रहा है। क्लीनिक का शुभारंभ विधानसभा अध्यक्ष नर्मदा प्रसाद प्रजापति, जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने किया। इस मौके पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सुधीर डहेरिया ने बताया कि क्लीनिक में सामान्य मरीजों के साथ गंभीर बीमारी का उपचार भी संभव होगा। टेलीमेडिसिन के माध्यम से जयपुर मेडिकल कॉलेज के चिकित्सक क्लीनिक मेें मौजूद चिकित्सक से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से चर्चा कर मरीजों का उपचार करेंगे। मंत्री शर्मा ने बताया कि जल्द ही शहर में 28 और संजीवनी क्लीनिक की शुरुआत की जाएगी।

कागज का नहीं इस्तेमाल
क्लीनिक में कहीं भी कागज का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा। पूरा सिस्टम ऑनलाइन होगा। मरीजों के पर्चे से लेकर जांच रिपोर्ट सब ऑनलाइन की जाएंगी। पूरा काम टैबलेट से होगा। सभी संजीवनी क्लीनिक को जेपी और हमीदिया अस्पताल से जोड़ा जाएगा। अगर कोई मरीज संजीवनी क्लीनिक से दूसरे अस्पताल रेफर होता है तो उसे अपने साथ कागजात ले जाने की जरूरत नहीं होगी। उसके सारे दस्तावेज ऑनलाइन दूसरे अस्पताल में दिख जाएंगे।

व्यवस्थाएं ऐसी हों कि वीआईपी भी आएं
विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि पास में ही चार इमली क्षेत्र है। क्लीनिक में व्यवस्थाएं ऐसी होनी चाहिए जिससे चार इमली में रहने वाले अधिकारी भी यहां इलाज कराने आएं।

ऐसी होगी क्लीनिक
यहां सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक इलाज मिलेगा। क्लीनिक में मेडिकल ऑफिसर के साथ फार्मासिस्ट, स्टाफ नर्स, एएनएम, लैब टेक्निशियन और मल्टी टास्क वर्कर की टीम उपलब्ध रहेगी। यहां हीमोग्लोबिन, टीएलसी, डीएलसी, प्लेटलेट काउंट, सीबीसी, ईएसआर, ब्लड ग्रुप, पेरीफेरल ब्लड फि ल्म, यूरिन, डेंगू, मलेरिया, एचआईवी, हेपेटाइटिस बी, थायराइड, शुगर, एसजीपीटी, एसजीओटी, ब्लीडिंग टाइम और क्लॉटिंग टाइम और यूरिक एसिड समेत 68 प्रकार की जांचें की जाएंगी और 120 प्रकार की दवाएं उपलब्ध रहेंगी ।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/telemedicine-facility-in-madhya-pradesh-5474642/

हवा के असर से सर्दी का अहसास बरकरार, 15 दिसंबर के बाद तेजी से लुढ़केगा पारा


भोपाल. राजधानी भोपाल में पिछले तीन-चार दिन से सर्दी का दौर शुरू हो गया है। पांच दिनों से लगातार न्यूनतम तापमान में एक-एक डिग्री की गिरावट आ रही थी और गुरुवार की रात तापमान 11.8 डिग्री तक पहुंच गया था। यह सामान्य से कम था, लेकिन शनिवार को एक बार फिर न्यूनतम तापमान में 2.4 डिग्री का इजाफा हुआ और फिर तापमान सामान्य से तीन डिग्री अधिक चला गया, जिसके कारण सर्दी का सिलसिला थोड़ा कम हो गया है।

पिछले दो दिनों से लगातार आंशिक बादलों के कारण इस तरह की स्थिति बनी है। राजधानी में शनिवार को सुबह भी आंशिक बादल छाए रहे। दिन में हवा के रूख के कारण दिन में भी सर्दी का अहसास हुआ। स्थिति यह रही कि दिन में भी लोग गर्म कपड़े पहने नजर आए। शनिवार को अधिकतम तापमान 24.8 और न्यूनतम तापमान 14.2 डिग्री दर्ज किया गया। बुधवार को अधिकतम तापमान 24.1 और न्यूनतम तापमान 11.8 डिग्री दर्ज किया गया। न्यूनतम तापमान सामान्य से 3 डिग्री अधिक है।

चार महानगरों में दिन में सबसे कम रहा भोपाल का तापमान
न्यूनतम तापमान में भले ही बढ़ोतरी हो रही है, लेकिन पिछले दो तीन दिनों से दिन में सर्द हवाओं के कारण लोगों को दिन में भी ठंडक का अहसास हो रहा है। शनिवार को चार महानगरों में भोपाल का तापमान सबसे कम रहा। भोपाल में जहां अधिकतम तापमान 24.8 डिग्री दर्ज किया गया। इंदौर में 25.2, जबलपुर में 25.8 और ग्वालियर में 25 डिग्री सेल्सियस अधिकतम तापमान रहा।

आज से फिर हो सकती है गिरावट
मौसम विज्ञानी जेपी विश्वकर्मा ने बताया कि पिछले दो तीन दिनों से अरब सागर से नमी आ रही है, जिसके कारण हल्के बादलों की स्थिति बनी है। अब यह नमी कम हो गई है, इसलिए रविवार से मौसम साफ रहेगा। इसके कारण रविवार से तापमान में हल्की गिरावट का दौर शुरू हो सकता है। उत्तर की ओर से सर्दी बढ़ेगी। इसके बाद 11, 12 दिसम्बर को एक पश्चिमी विक्षोभ आने की संभावना है। इसके कारण प्रदेश के अधिकांश स्थानों पर बारिश की स्थिति बन सकती है। इसके बाद तापमान में तेजी से गिरावट होने की उम्मीद है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/bhopal-weather-forecast-today-5474620/

बैरागढ़ में जुआ-सट्टा के विरोध में रहवासियों ने निकाली पद यात्रा, आरोप: पुलिस की मिलीभगत से खुलेआम चल रहा जुआ-सट्टा


भोपाल. बैरागढ़ में कॉलेज के पास जुआ-सट्टे जैसी आपराधिक गतिविधियां संचालित होने के विरोध में शनिवार दोपहर 12 बजे सामाजिक कार्यकर्ताओं ने पदयात्रा निकाली। कालका चौराहे से शुरू हुई पदयात्रा को पुलिस ने थाने पहुंचने से पहले ही रोक दिया। पदयात्रा में शामिल लोगों ने आरोप लगाए कि पुलिस ने धमकी दी कि प्रशासन की अनुमति के बगैर विरोध-प्रदर्शन नहीं कर सकते। बहरहाल, थोड़ी देर बाद सामाजिक कार्यकर्ताओं से ज्ञापन ले लिया गया। सामाजिक कार्यकर्ता दौलत सिंह चौहान ने बताया कि साधु वासवानी कॉलेज के पास दो साल से खुलेआम जुआ-सट्टा का बाजार लग रहा है। कॉलेज आने वाली छात्राओं के साथ असामाजिक तत्व छेड़छाड़ करते हैं। उन्होंने कहा कि स्थानीय रहवासी इन आसामाजिक गतिविधियों का विरोध करते हैं तो उन्हें धमकी दी जाती हैं। इसकी शिकायत कई बार पुलिस से की गई, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। चौहान ने गंभीर आरोप लगाए कि पुलिस के संरक्षण में जुआ-सट्टे का गोरखंधा चल रहा है।

वीडियो दिए पर पुराना बताकर पल्ला झाड़ा
सामाजिक कार्यकर्ता दौलत सिंह चौहान के मुताबिक शिकायत करने के बाद भी पुलिस ये मानने को तैयार नहीं है कि यहां जुए-सट्टे का फड़ लगता है। उन्होंने कई बार बतौर प्रमाण वीडियो भी उपलब्ध कराए, पर पुलिस इन्हें पुराना बताकर कार्रवाई नहीं करती। इतना ही नहीं वरिष्ठ अधिकारी भी शिकायत को अनसुना कर देते हैं।

पांच महीने में बेलगाम हुए सटोरिए
स्थानीय रहवासियों का कहना है कि पांच महीने में सटोरिए बेलगाम हो गए हैं। पहले यहां चोरी-छिपे जुआ-सट्टा खिलाया जाता था, लेकिन अब यह सब खुलेआम हो रहा है। हालात ये हैं कि पुलिस से शिकायत करने वालों को जान से मारने की धमकी तक दी जाती है। इसके बावजूद बैरागढ़ पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही।

रहवासियों की पुलिस-प्रशासन से मांग
- सटोरियों को संरक्षण देने वाले पुलिसकर्मियों का स्थानांतरण किया जाए।
-कॉलेज के पास पुलिस चौकी की स्थापना हो, जिससे छात्राएं सुरक्षित महसूस करें।
- सटोरियों पर जिलाबदर समेत अन्य प्रतिबंधात्मक कार्रवाई की जाए।

सख्त कार्रवाई करेंगे
किसी भी परिस्थिति में जुआ-सट्टा नहीं चलने दिया जाएगा। पुलिसकर्मियों की संलिप्तता सामने आने पर उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।
-शैलेन्द्र सिंह चौहान, एसपी (नॉर्थ)

बैरागढ़ के कई स्थानों पर पुलिस ने जुआ-सट्टा बंद कराए हैं। कॉलेज के आसपास ऐसी गतिविधि नहीं हो रही है। पद यात्रा निकालने वाला दौलत सिंह खुद सटोरियों का हिमायती है।
-शिवपाल सिंह कुशवाह, टीआई


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/residents-took-out-post-tour-5474611/

मध्यप्रदेश के स्कूली बच्चे संसद का ज्ञान भी लेंगे


भोपाल. स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को संसदीय ज्ञान की शिक्षा दी जाएगी। यह विषय पाठ्यक्रम में शामिल होगा। संसदीय कार्य विभाग ने इस वचन को पूरा करने के लिए स्कूल शिक्षा विभाग को प्रस्ताव भेजा है। इस पाठ्यक्रम को हायर सेकंडरी में शामिल किए जाने की तैयारी है।
सरकार चाहती है कि जिस प्रकार स्कूली बच्चों को इतिहास, भूगोल और विज्ञान सहित विभिन्न विषयों की शिक्षा दी जाती है, उसी प्रकार उन्हें संसदीय ज्ञान की शिक्षा भी मिलना चाहिए। इसके पीछे तर्क यह है कि विद्यार्थियों को न्याय पालिका और कार्यपालिका के साथ विधायिका की भी जानकारी हो। ऐसा इसलिए भी है क्योंकि स्कूली शिक्षा पूरी कर कॉलेज की दहलीज पर कदम रखने वाले विद्यार्थी मतदाता होने के साथ अपना जनप्रतिनिधि चुनने के हकदार हो जाते हैं। इसलिए उन्हें यह पता होना चाहिए कि उनके एक वोट में वास्तव में कितनी ताकत है। संसदीय ज्ञान होने के कारण वे विधानसभा और लोकसभा तक भेजे जाने के लिए अपने क्षेत्र से योग्य और बेहतर उम्मीदवार को चुनेंगे।

विधेयक से कानून बनने तक मिलेगी शिक्षा
संसदीय पाठ्यक्रम में विद्यार्थियों को प्रश्नकाल, ध्यानाकर्षण, शून्यकाल सहित अन्य जानकारी शामिल होंगी। इस पाठ्यक्रम के माध्यम से विद्यार्थियों को यह बताने का प्रयास होगा कि सदन में किस प्रकार से कार्य होता है। विधेयक किस प्रकार से कानून का रूप लेता है। इन पूरे विषयों को रूचिकर ढंग से कक्षा में पढ़ाने और पाठ्यक्रम में शामिल करने को कहा गया है। प्रयोग के तौर पर स्कूलों में इसका मंचन भी किया जाने के निर्देश भी संसदीय कार्य विभाग ने दिए हैं। कार्यक्रम के दौरान चुने हुए जनप्रतिनिधि को आमंत्रित करने को कहा गया है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/mp-s-school-children-will-also-take-knowledge-of-parliament-5474600/

शहर से पकड़कर खजूरी कलां रोड पर छोड़ते हैं डॉग्स!


भोपाल. राजधानी के कई इलाकों में आवारा श्वानों के आतंक से रहवासी त्रस्त हैं। नगर निगम के पास इनका अभी तक कोई प्रभावी हल नहीं है। इस समय वार्ड 61 की करीब चार दर्जन कॉलोनियों में आवारा श्वानों ने जीना मुश्किल कर दिया है।

ये श्वान आवागमन क्षेत्रीय रहवासियों, बच्चों और आवागमन करने वालों पर झपट पड़ते हैं। रात में दोपहिया वाहन चालकों के लिए यह समस्या विकट हो जाती है। गहरे रंग के श्वान दिखाई नहीं देते और पास आने पर अचानक झपट पड़ते हैं, जिससे वाहन असंतुलित होकर गिर जाता है।

उल्लेखनीय है कि नगर निगम के वार्ड 61 में आवारा श्वानों की बड़ी समस्या है। इस वार्ड 61 की आनंद नगर, गोपाल नगर, खजूरी कलां रोड से लेकर अवधपुरी तक करीब पचास कॉलोनियों की आबादी परेशान है।

आवारा श्वानों के झुंड सड़कों पर जमे रहते हैं। रहवासियों का कहना है कि ये श्वान खूंखार हो चुके हैं। बच्चों, महिलाओं और आने-जाने वाले लोगों पर झपट पड़ते हैं। वाहनों पर भी झपटते हैं। दोपहिया वाहन चालक तो श्वानों के झपटने से गिरकर चोटिल भी हो चुके हैं।

पास के वार्ड 60 में कुछ महीने पूर्व श्वानों ने एक बच्चों को नोंच-नोंचकर मार डाला था। गोपाल नगर निवासी सीएस राजपूत का कहना है कि वे देर रात काम से घर लौटते हैं तो रास्ते में कुत्ते उनके वाहन पर झपट पड़ते हैं। काले और गहरे रंग के कुत्ते तो दिखाई ही नहीं पड़ते। एक बार तो काले कुत्ते से झपटने से रात में वाहन से गिरकर वे चोटिल भी गए थे। इस तरह की कई घटनाएं हो चुकी हैं।

एबीसी के बाद वापस यहीं पर छोड़ जाते हैं।श्वानों को शेल्टर होम के लिए नगर निगम वालों से कहता हूं तो एनजीओ वाले आकर लड़ते हैं। इस समस्या का हल नहीं हो पा रहा है।
- गणेशराम नागर, पार्षद वार्ड 61

ऐसा नहीं होता कि नगर निगम कर्मचारी एक जगह से श्वान पकड़कर दूसरी जगह छोड़ देते हों। श्वानों को एबीसी के बाद नियमानुसार उसी स्थान पर छोड़ा जाता है, जहां से अमला उन्हें पकड़ता है। फिर भी रहवासियों को समस्या है तो दिखवाया जाएगा।
- हरीश गुप्ता, उपायुक्त, नगर निगम


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/municipal-squad-create-dog-problem-in-residential-areas-5473385/

Bhopal: आर्चब्रिज की सेंट्रिंग का काम शुरू


भोपाल. छोटे तालाब पर आर्चब्रिज का काम तेजी से पूरा हो रहा है। अब इसकी सेंट्रिंग बांधने का काम चालू किया गया है। अब ये गिन्नौरी से रानी कमलापति घाट तक आकार लेने लगा है। लोहे के खंभों से इसे सपोर्ट दिया गया है। अभी आर्च को गर्डर का सपोर्ट है, लेकिन धीरे-धीरे लोहे का सपोर्ट हटाकर इसे केबल से कसने का काम जल्द शुरू होगा।

इससे आर्च को गर्डर का सपोर्ट मिलेगा और इसके नीचे आवाजाही शुरू हो जाएगी। इस काम का जिम्मा स्मार्टसिटी डेवलपमेंट कारपोरेशन के पास है। इसके प्रभारी इंजीनियर ओपी भारद्वाज का कहना है कि दिसंबर तक लोहे के खंभे हटाकर गर्डर का भार केबल पर शिफ्ट कर दिया जाएगा।

जनवरी तक इसका काम पूरा होने की बात कही जा रही है। हालांकि किलोलपार्क की और एप्रोच रोड में बाधक दो मकानों पर अब भी अनिर्णय की स्थिति है और ब्रिज पूरा होने के बावजूद इन मकानों क वजह से शुरू नहीं हो पाएगा। जुलाई 2016 में तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसके लिए भूमिपूजन किया था।

आर्च ब्रिज: फैक्ट फाइल

- 40 करोड़ रुपए लागत
- 450 मीटर है ब्रिज की कुल लंबाई

- 7.5 मीटर है चौड़ाई
- 02 मीटर का फुटपाथ है इसके एक ओर

- 850 टन वजन की 95 गार्डर से इसे बांधा जा रहा है.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/arche-bridge-work-on-final-stage-5473241/

एक ही परिसर में अलग-अलग कनेक्शन के आवेदन बढ़े: सस्ती बिजली भी बना रही विवाद का कारण


भोपाल. सरकार की सस्ती बिजली योजना लोगों को बिजली के भारी बिल में तो राहत देने लगा है, लेकिन ये मकान मालिक-किराएदार और परिवार में ही झगड़े की वजह भी बन रहा है। गौरतलब है कि शासन ने अक्टूबर से 100 यूनिट खर्च पर 100 रुपए बिजली बिल शुरू किया है। एक माह में 150 यूनिट बिजली खपत वालों को लाभ दिया जा रहा है।

ऐसे बढ़ रहे विवाद

- नेहरू नगर निवासी अश्विन खरे के यहां एक किराएदार है। खरे के यहां एक माह में 150 यूनिट के अंदर ही बिजली खपत रहती है और इतनी ही किराएदार की भी है। अभी वे आठ रुपए प्रतियूनिट की दर से बिल किराएदार से ले रहे हैं, लेकिन नई योजना का हवाला देकर किराएदार कम राशि देने पर अड़ा हुआ है।

- कोलार मंदाकिनी निवासी हरीश विश्वकर्मा अब अपने मीटर से भाई को बिजली देने से इंकार कर रहे हैं। वे उसे नया मीटर लगाने का कह रहे हैं। बिजली कंपनी में एक ही परिसर में नया मीटर आसान नहीं हो रहा है, जिससे दोनों भाईयों में बिल को लेकर विवाद आम हो गया है।

इंदिरा ज्योति के बाद नए कनेक्शन पर मॉनीटरिंग मजबूत की

अब एक ही परिसर में दूसरा बिजली कनेक्शन लेने के लिए आवेदन करने पर आसानी से कनेक्शन नहीं मिल रहा है। 100 यूनिट पर 100 रुपए बिल की इंदिरा ज्योति योजना लागू करने के बाद एक ही परिसर में एक से अधिक कनेक्शन लेने वालों की लाइन लगी हुई है। इस समय कंपनी के पास करीब 2000 फार्म है। एक ही परिसर में दूसरा कनेक्शन के आवेदन पर कई स्तरों पर जांच की जा रही है, तभी कनेक्शन दिया जा रहा है।

ऐसे समझें इंदिरा ज्योति में कैसे मिल रहा लाभ

- 30 दिन में 100 यूनिट बिजली खर्च करने पर 100 रुपए का बिल आएगा।
- 30 दिन में बिजली खर्च 150 यूनिट होता है तो पहले 100 यूनिट का 100 रुपए बिल व बाकी 50 यूनिट का तय टैरिफ से बिल बनेगा।

- 30 दिन में बिजली खर्च 151 यूनिट व इससे अधिक होता है तो फिर शुरुआती यूनिट से तय टैरिफ के अनुसार ही बिल बनेगा। ये बिजली उपभोक्ता को सात रुपए प्रतियूनिट के हिसाब से पड़ेगी।
- मीटर रीडिंग देरी से हुई तो उसके अनुसार सब्सिडी यूनिट बढ़ जाएगी। यदि 35 दिन में रीडिंग हुई तो फिर सब्सिडी का लाभ 175 यूनिट तक मिलेगा।

कंपनी योजना का उपभोक्ताओं को पूरा लाभ दे रही है। कोई दिक्कत नहीं है। नए कनेक्शन में हम पूरी जांच परख रहे हैं। एक परिसर में दूसरा कनेक्शन नहीं मिलेगा, ऐसी कोई बात नहीं है।
- डीपी अहिरवार, सीजीएम, बिजली कंपनी, भोपाल


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/low-cost-electricity-is-also-creating-problem-5473197/

यूनियन कार्बाइड के अंदर बेखौफ घूमते है लोग, चराते हैं मवेशी


भोपाल। गैसकांड को 35 साल गुजर गए है,लेकिन यूनियन कार्बाइड की जमीन के अंदर और कारखाने में फैला जहरीला कचरा हटाया नहीं जा सका है। शासन ने उस हिस्से को प्रतिबंधित तो किया है,लेकिन ग्राउंड स्तर पर जब इस प्रतिबंधित हिस्से की हकीकत जानी तो इस जानलेवा कारखाने की दीवार तक झुग्गियों का जाल बिछ चुका है।

कारखाना परिसर में प्रवेश के लिए दीवार को तोड़कर लोगों ने रास्ते बना लिए है। जिसमें मवेशियों का चराने के लिए तो लोग जा रहे है, साथ पीढ़ा झेल चुकी बस्ती के बच्चे दिन में खेलने के लिए प्रवेश कर, जान जोखिम में डाल रहे है। इतना ही नहीं के अंदर अंदर परिसर स्थानीय लोग कचराघर की तरहा उपयोग कर रहे है, जबकि कारखाने का कचरा ही यहां से खतरनाक हालात के चलते यहां से निकाला नहीं गया है।

पानी की व्यवस्था हेंड पम्पों को बंद कर नल कनेक्शन में पानी की टंकी में भरकर की जा रही हो, लेकिन नल भी यहां रोजाना नहीं आते। बरसी के एक-दो दिन पहले प्रशासन यहां बदनामी के डर से मेंटेनेंस की व्यवस्था करता नजर आता है। कारखाने के प्रतिबंधित हिस्से में कोई भी असामाजिक तत्व चोरी करने को लेकर जहरीले भंडार के साथ छेडख़ानी कर गया तो जनहानि हो सकती है। ये मिले यूनियन कार्बाइट के चारों ओर फैलती अव्यवस्था के लाइव हालात।

- हेंड पम्प बंद नल व टंकी के पानी से बुझती प्यास
काबाईड के सामने जेपी नगर में लगे हेंडपम्पों को बंद कर दिया गया है, उनके पास पानी की टंकियां खर्चे व पीने के पानी के लिए रखी हुई थी। नल कनेक्शन यहां चार इंच मोटी कोलार की पाइप लाइन से रहवासी क्षेत्र में दिए गए है। जिसमें सुबह साढ़े आठ बजे से साढ़े नौ बजे तक आता है,लेकिन सोमवार को पानी नहीं आने से लोग भीड़ लगाकर पानी की टंकियों से पानी भर रहे थे।

रहवासी महिलाओँ ने बताया कि बोरिंग व हेंडपम्प के पानी में बदबू आने के कारण उन्हे बंद किया गया है। पीने का पानी नलों से जिस दिन नहीं आता है तो बड़ी समस्या हो जाती है। पानी की टंकी निगम की गाड़ी भरने आती है, उसी से काम चलता है।

दीवार से सटकर बढ़ता जा रहा झुग्गियों का दायरा
यूनियन कार्बाइड परिसर के चारों ओर यूं तो दीवार लगी हुई है,लेकिन कारखाने के चारों ओर झुग्गियों का कब्जा बढ़ता जा रहा है। कारखाने की पीछे की ओर रेलवे पटरी के पास दीवार से सटकर भी झुग्गी की पूरी श्रंखला बढ़ती जा रही है। यहां पीने के पानी के लिए नल, सड़क, नाली, बिजली आदि की व्यवस्था नहीं है। नीचे पुल के दूसरी ओर आरिफ नगर के पीछे वाले हिस्से से व्यवस्था चलती है। झुग्गी वाले यहां दीवार फांडकर कारखाने अंदर घुस रहे हैं।

जहरीली जमीन पर चराते मवेशी, घूमते व खेलते बच्चे
मुख्य सड़क पर कारखाने की दीवार को कई जगह से तोड़कर लोगों ने रास्ता निकाल लिया है। उसमें घुस कर लोग मवेशी चराने जा रहे थे। इतना ही नहीं लोग अंदर खेल भी रहे थे। तीन लड़के अंदर भी कारखाने में घुसते हुए भी दिखाई दिए है। इतना ही नहीं लोग अंदर कचरा फैंक भी रहे है, जबकि बाहर स्मार्ट डस्टबिन कई जगह रखी हुई है। रहवासी मोहम्मद रियाज खान ने बताया कि घर से कचरा लेने वाले ही यहां ज्यादा कचरा फैककर जा रहे है। पुलिस वाले व चौकीदार यहां मना भी करता है,लेकिन कोई सुनता नहीं है।

बरसी के एक दिन पहले ली सुध, शुरू की रंगाई-पुताई
सड़क किनारे बने स्टेचू के आसपास सालभर गंदगी, कचरा, फैला रहता है,लेकिन बरसी को लेकर सोमवार को यहां रंगाई-पुताई का काम शुरू कर दिया गया। इस स्टेचू के चारों और जरुर कु छ फुल पड़े थे। लोगों ने बताया कि इसके पास ही कारखाना लगा हुआ है। जिसमें कारण लोग यहां आकर बैठते ही नहीं बड़ी टायलेट भी कर जाते है। कुछ लोग तो इसकी फैंसिंग पर ही कपड़े-बिस्तर सुखा देते है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/people-roam-fearlessly-inside-union-carbide-grazing-cattle-5473446/

पुराना कबाडख़ाने की सड़कें हो गईं अघोषित स्थाई कारपार्किंग जोन


भोपाल। पुराने शहर में पार्किगं और जाम की समस्या होने के कारण लोग यहां के बाजार में भी ज्यादा जरुरी न हो तो आना भी पसंद नहीं करते है। जिसका लाभ शॉपिंग मॉल से लेकर नए शहर के प्रत्येक बाजार विकसित हो चुके मार्केट को मिल रहा है। पुराने शहर में जाम व पार्किंग का रिश्ता चोली-दामन की तरह है। सड़क पर जहां जगह मिलती है लोग वाहन पार्क कर देते है, उसी के कारण अन्य वाहनों को आवागमन के कारण जाम का सामना करना पड़ता है। अवैध व अघोषित पार्किंग के बुरे हाल पुराना कबाडख़ाने पर भवानी चौक सोमवारा से जुमेराती गेट की और कबाडख़ाने से नि
कलने वाली सड़क पर है। जहां आम लोग तो वाहन पार्क कर ही जाते है, रहवासियों ने भी सड़क का स्थाई पार्किगं बना लिया है। जुमेराती, जनकपुरी, घोड़ा नक्कास, आजाद मार्केट से भवानी चौक जाने वाले वाहन इस मार्ग से वाहनो के दोनों ओर की सड़क पर खड़े होने के कारण निकल नहीं पाते है।
इसी तरह न्यू मार्केट, रॉयल मार्केट से बस स्टैंड जाने वाले भी इस मार्ग से निकलते समय दोनों ओर से आवामगन के चलते इसम मार्ग पर बड़ी मुश्किल से निकल पाते है।
-सिंधी मार्केट की दुकाने हटाने का मामला अधर में
गौरतलब है कि इस सड़क को चौड़ा करने की सिंध मार्केट व कबाडख़ाने के और जाने वाल सड़क के बीच बने नगर निगम की आवंटित दुकानों को तोडऩे के लिए कई बार योजनाएं बनी। साथ ही दुकानदारों को इसके नोटिस भी दिए गए, लेकिन मामले १५ सालों से अधर में ही लटका हुआ है। कबाडख़ाने की दोनों सड़क पर वाहनों के स्थाई पार्क होने वर्तमान में जो सड़क पर वह भी अतिक्रमण की चपेट में आने से समस्या जस की तस बनी हुई है।
इनका कहना
-पुराने शहर में वाहनों के अतिक्रमण व पार्किं ग की समस्या काफी बढ़ी है। पार्किगं के सारे विकल्पों काफी व्यवस्था कुछ वर्षो में हुई है। पूर्व में कई बार अतिक्रमण हटाने की कार्रवाही इस मार्ग पर की जा चुकी है। इस मामले पर अगर फिर शिकायत आती है तो वहां से वाहनों के हटाया जाएगा।
-कमर साकिब, अतिक्रमण अधिकारी, नगर निगम


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/old-junkyard-roads-have-undeclared-permanent-carparking-zone-5473489/

प्रीमियम नवीनीकरण के नाम पर मनमानी कर रहा बीडीए


भोपाल. बीडीए द्वारा संपत्तियों के लीज नवीनीकरण शुल्क को लेकर आवंटी परेशान हैं। इस साल बीडीए ने लीज नवीनीकरण शुल्क के लिए संपत्ति के बाजार मूल्य का दो प्रतिशत वसूलने के लिए नोटिस जारी किए हैं, जबकि पूर्व में लीज रिन्यू करने के लिए कोई नवीनीकरण शुल्क नहीं लिया जाता रहा है।

आवंटियों का कहना है कि ऐसा नियम में नहीं है। यह गलत किया जा रहा है। वे इसके खिलाफ कोर्ट जाने की तैयारी कर रहे हैं। उधर, इस राशि को बीडीए के अधिकारी वर्ष 2018 के नियमों के तहत सही बता रहे हैं, जबकि राजस्व विभाग के वर्ष 2018 के नियम में नवीनीकरण के लिए बाजार मूल्य का सिर्फ 0.01 प्रतिशत शुल्क ही वसूल किया जा सकता है।

उल्लेखनीय है कि राजधानी में बीडीए की हजारों संपत्तियां हैं। इन संपत्तियों में हजारों भवन, दुकान और भूखंड शामिल हैं। बीडीए अधिकारियों ने पहले तो बाजारों में व्यापारियों को फोन करने शुरू किए थे कि वे दो प्रतिशत के हिसाब से पूरी संपत्ति के बाजार मूल्य का दो प्रतिशत नवीनीकरण शुल्क बीडीए कार्यालय में जाकर जमा करें।

जब कोई यह शुल्क जमा करने नहीं पहुंचा, तो बीडीए के राजस्व अधिकारी ने बाकायदा नोटिस जारी करने शुरू किए। नोटिस मिलते ही आवंटियों में हड़कम्प मच गया। पहले कभी इस तरह का शुल्क नहीं लिया गया।

जब अधिकारियों से इस बारे में पता किया गया तो उन्होंने वर्ष 2018 में शासन के नियमों का हवाला दिया। इस संदर्भ में मई 2018 में को राजस्व विभाग के तत्कालीन प्रमुख सचिव अरुण पांडेय के हस्ताक्षर से जारी आदेश क्रमांक एफ6-48/2014/सात/नजूल आदेश में नजूल पट्टे नवीनीकरण एवं शर्त उल्लंघन/अपालन अनुसूची के बिंदु क्रमांक 1 पर स्पष्ट दर्ज है कि पट्टा अवधि अवसान के बाद नवीनीकरण हेतु प्रस्तुत आवेदन के मामले में विलंब माफी के लिए (पट्टा अवसान से आवेदन के दिनांक तक के वर्षों के लिए) प्रत्येक चूक वर्ष के लिए आवेदन के दिनांक को लागू गाइडलाइन के आधार पर बाजार मूल्य की 0.01 प्रतिशत शमन राशि ली जा सकती है। अब बाजार मूल्य पर दो प्रतिशत राशि का गणित आवंटियों की समझ से परे हैं।

अरबों रुपए का मामला
जानकार सूत्रों का कहना है कि राजधानी में लगभग तीस प्रतिशत से अधिक प्रॉपर्टी बीडीए की है। साकेत नगर, शाहपुरा, एमपी नगर, कोहेफिजा आदि में ही दस हजार से अधिक संपत्तियां हैं। अनुमान है कि नवीनीकरण पर संपत्ति के बाजार मूल्य की दो प्रतिशत राशि वसूली जाएगी तो अरबों रुपए बीडीए को मिलेंगे।


नियमित लीज नवीनीकरण पर प्रीमियम राशि लेने के लिए बीडीए ने नोटिस दिया है। पहले कभी भी नवीनीकरण पर प्रीमियम राशि नहीं ली गई। बीडीए ने यह संपत्तियों के नवीनीकरण पर यह प्रीमियम राशि इसी साल से शुरू की है। इस तरह की राशि मप्र हाउसिंग बोर्ड भी नहीं वसूलता है। बीडीए में इसका विरोध दर्ज कराया जा रहा है।
- रेखा खानबिलकर, अध्यक्ष, शाहपुरा व्यापारी महासंघ

अक्टूबर 2018 में शासन ने व्यय नियम बनाए थे, जिनके तहत नवीनीकरण, नामांतरण आदि शुल्क लिए जा रहे हैं। अभी मैं कार्यालय से बाहर हूं, इसका पूरा विवरण बाद में कार्यालय जाकर दिया जा सकेगा।
- एमपी सिंह, डिप्टी सीईओ, बीडीए


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/bda-charging-wrongly-in-name-of-premium-renewal-5473328/

वायरल रोगों में होम्योपैथिक दवाओं का असर...


भोपाल. राजधानीवासियों का वायरल रोगों से करने में होम्योपैथी दवाएं असरकारक साबित हो रही हैं। प्रशासन के निर्देश पर शासकीय होम्योपैथी मेडिकल कॉलेज की टीमें शहर में 14 स्थानों पर वितरित की जा रही हैं। डॉक्टर्स का दावा है कि इन दवाओं का काफी असर देखा गया है।

 

MUST READ: सभी इंफेक्शन्स में ये एक उपाय देगा आराम! जिसने भी अपनाया वहीं बोला रामबाण...

 

साइंस हिल्स स्थित शासकीय होम्योपैथिक कॉलेज में डेंगू आदि रोगों पर नियंत्रण सेल के डॉ. जायसवाल व डॉ. निवेदिता अग्रवाल ने बताया कि डेंगू, मलेरिया , चिकनगुनिया, कंजंक्टिवाइटस आदि रोगों में होम्योपैथी की बचाव करने वाली दवाएं कारगर सिद्ध हो रही हैं। इन दवाओं को योग्य चिकित्सकों के निर्देशन में बंटवाया जा रहा है। ये दवाएं शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाकर शरीर में वायरस को अधिक सक्रिय नहीं होने देतीं।

कलेक्टर के निर्देश पर 22 नवम्बर से शहर में 14 चिन्हित क्षेत्रों में से हर क्षेत्र में कॉलेज की एक टीम दवाएं वितरित कर रही है। एक टीम में 5-6 पीजी डॉक्टर्स, इंटर्न आदि होते हैं। एक टीम प्रतिदिन 500-1000 डोज बांटती है। कोलार में अभियान के पहले दिन ही 5000 डोज वितरित किए गए। इसके सिवा सभी डिस्पेंसरीज और ओपीडी में भी ये दवाएं बांटी जा रही हैं।

 

MUST READ: बीपी से हैं परेशान तो ये 5 घरेलू उपाय देंगे फौरन आराम : आखिरी वाला है सबसे खास


डॉक्टर की सलाह से लें दवाएं
डॉ. निवेदिता का कहना है कि होम्योपैथी दवाओं को योग्य चिकित्सक की देखरेख में लेना चाहिए। इन दवाओं में डोज और पोटेंसी का विशेष महत्व होता है। कोई भी होम्योपैथी दवा का अपना असर होता है। बिना योग्य चिकित्सक की सलाह से ली गई दवा अपना असर करेगी। हो सकता है कि व्यक्ति को कोई अन्य तकलीफ हो और दवा का असर कुछ और हो। इसलिए यह आवश्यक है कि दवा को योग्य चिकित्सक के अनुसार ही लेना है।

 

MUST READ : डेंगू के मच्छर आपको टच तक नहीं कर पाएंगे! अपनाएं ये आसान उपाय


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/homeopathic-medicines-effect-in-viral-disease-5473307/

यहां सफाई स्वप्रेरित: निगम के कर्मचारियों के साथ ही कई रहवासियों के अंदर भी काफी उत्साह


भोपाल. राजधानी को साफ सफाई के मामले में सबसे अच्छा बनाने का उत्साह कई रहवासियों के साथ निगम के ही कर्मचारियों के अंदर भी काफी है। पत्रिका ने जब पड़ताल की तो पाया, इनकी सफाई स्वप्रेरित है। ये अपनी मर्जी से सफाई को मुहिम लेकर चल रहे हैं। इससे सफाई को लेकर इनकी छवि तो बेहतर हो ही रही है, स्वच्छता अभियान में भी ये जाने-अंजाने में बड़ी भूमिका निभा रहे हैं।

रहवासी जिनके लिए सफाई सतत प्रक्रिया
1. होशंगाबाद रोड किनारे डिवाइन सिटी में शनिवार और रविवार को पहुंचेंगे तो लोग आराम करते हुए या फिर छुट्टी के दिन निजी काम में लगे हुए नहीं मिलेंगे। अध्यक्ष बॉबी वर्मा के साथ ये मल्टी के कॉमन एरिया की सफाई करते हुए नजर आएंगे। 450 फ्लैट की कॉलोनी में लोग पार्क से लेकर रास्ते, पाकिंग और कॉमन एरिया के दरवारे, खिड़कियों की सफाई की जाती है। इतना ही नहीं, सफाई से निकलने वाले कचरा निष्पादन के लिए ये निगम के भरोसे नहीं है। खुद की कंपोस्ट यूनिट लगा रखी है, जिसमें कचरे से खाद बना ली जाती है।

2. बाग मुगालिया एक्सटेंशन में बीते कई सालों से सफाई खासकर पॉलीथिन के खिलाफ एक लंबी लड़ाई चल रही है। समिति के अध्यक्ष उमाशंकर तिवारी इसका नेतृत्व करते हैं और रविवार को कॉलोनी के लोगों के साथ अपने पूरे क्षेत्र में सार्वजनिक जगह पर बिखरी पॉलीथिन की पन्नियों को एकत्रित कर इन्हें निगम के वाहन के सुपूर्द करते हैं। स्वच्छता अभियान की घोषणा के पहले से ही ये मुहिम लगातार की जा रही है। खुद भी वे प्लास्टिक उपयोग के खिलाफ दृढ़ता से खड़े हुए हैं।

3. मिसरोद से लगी श्रीराम कॉलोनी को शहर की पहली ऐसी कॉलोनी बनने का श्रेय है जहां सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट है। डेढ़ साल पहले तब इस कॉलोनी के सामने सीवेज निकासी की दिक्कत हुई तो रहवासियों ने अध्यक्ष सुनील उपाध्याय के साथ मिलकर सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट बना दिया। पूरा सीवेज ट्रीट होता है। ट्रीटमेंट के बाद बचा हुआ पानी कॉलोनी के ही पार्क में पौधों के लिए काम ले लिया जाता है। यानि यहां का सीवेज कहीं निस्तार नहीं होता। इससे खाद भी निकलती है, जिससे ये कई बार मिसरोद के किसानों को भी दे देते हैं।

( नोट- ये तो महज तीन उदाहरण है। शहर में इस तरह की स्वप्रेरित सफाई की कई कहानियां है। )

निगम की नौकरी, लेकिन काम घर जैसा : जोन के प्रभारी, लेकिन गंदगी करने वालों को सबक सिखाने में सबसे आगे

- जोन क्रमांक दस के प्रभारी बलवीर मलिक अपने जोन में राजस्व वसूली और अन्य व्यवस्थाओं को तो देखते ही है, लेकिन सुबह छह बजे आपको जोन में ही सफाई की स्थिति देखने के लिए भ्रमण करते हुए मिल जाएंगे। भोपाल रेलवे स्टेशन के आसपास गंदगी करने वाले स्टॉल-दुकानों का मामला हो या फिर मल्टी की तीन से चार मंजिला ऊंची इमारतों से कचरा फेंकने वाले रहवासी। सबको सबक सिखाया है और क्षेत्र के एएचओ से अधिक मुस्तैदी से कार्रवाई कर सफाई दुरूस्त कर रहे हैं।

- नगर निगम के जोन नंबर एक के सहायक स्वास्थ्य अधिकारी रविकांत औदित्य ही एकमात्र ऐसे एएचओ हैं, जो लंबे समय से बने हुए हैं। बैरागढ़ में बीते सालों में साफ सफाई मामले में इनकी कार्रवाई निगम में अन्य को बताकर प्रोत्साहित किया जाता है। रेलवे ट्रैक के पास से लेकर मुख्य बाजार, चौराहों पर गंदगी करने वालों पर फाइन करने में अव्वल है। रहवासियों को साथ लेकर पूरे जोन में सफाई को एक अभियान बना दिया है।

- जोन नंबर 16 के सहायक स्वास्थ्य अधिकारी दिनेश पाल को निगम अफसर 14 घंटे की नौकरी करने वाला व्यक्ति मानते हैं। गोविंदपुरा औद्योगिक क्षेत्र में जिस तरह बल्क जनरेटर्स द्वारा की जाने वाली गंदगी पर कार्रवाई की है और यहां पॉलीथिन के उपयोग को प्रतिबंधित करने की कोशिश की, उससे इन्हें पॉलीथिन जब्ती दल में भी शामिल किया हुआ है।

- जोन आठ के एएचओ अजय श्रवण प्रतिबंधित पॉलीथिन जब्ती के मामले में लगातार कार्रवाई करके अब निगम की व्यवस्था का जरूरी अंग बन गए। प्रतिबंधित पॉलीथिन की धरपकड़ में इन्होंने कई कार्रवाईयों को अंजाम दिया, इसके बाद हाल में 21 टन पॉलीथिन पकड़ी और दो लाख रुपए का जुर्माना किया। पूर्व स्वास्थ्य अधिकारी राकेश शर्मा के साथ भी कई कार्रवाईयां की और अब विजिलेंस टीम बनाकर पॉलीथिन की जब्ती में लगे हैं।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/self-motivated-sanitation-in-bhopal-5473181/

हर बार कुत्तों की नसबंदी का नया आंकड़ा पेश कर रहे निगम अधिकारी, संभागायुक्त बोलीं: कब तक चलेगा फर्जीवाड़ा


भोपाल। शहर में आवारा कुत्तों का आतंक जोरों पर है और नगर निगम के अधिकारी कुत्तों की नसबंदी का आंकड़ा सही नही बता पा रहे। शुक्रवार को संभागायुक्त ने इस संबंध में रिव्यू बैठक की तो नगर निगम के अधिकारियों ने 91 हजार की नसबंदी, एबीसी (एनिमल बर्थ कंट्रोल) का आंकड़ा प्रस्तुत किया।

इस पर संभागायुक्त ने नगर निगम अधिकारियों को फटकार लगाई और कहा कि हर बार बैठक में अलग आंकड़ा प्रस्तुत कर रहे हैं। कोई एक आंकड़ा बताइए। इस पर नगर निगम के अधिकारियों ने 80 हजार कुत्तों की नसबंदी पिछले पांच साल में होना बताया।

इसके बाद संभागायुक्त ने सवाल किया कि जब इतनों की एबीसी की तो गली-गली कुत्तों की संख्या कैसे बढ़ गई। इस सवाल के जवाब में अफसर कुछ नहीं बोल सके। शहर में नसबंदी के लिए कुछ और नए सेंटर खोले जाने हैं इसके लिए नगर निगम ने टेंडर जारी किए हैं। लेकिन एक ही कंपनी ने रुची दिखाई है। अब फिर से टेंडर जारी किए जाएंगे।

276 खूंखार कुत्ते, इनके लिए करनी है व्यवस्था
बैठक में ही नगर निगम के अधिकारियों ने बताया कि शहर 276 खूंखार कुत्ते हैं जिनका रेस्क्यू किया गया है। लेकिन इनको कहां रखना है इसको लेकर संकट खड़ा हो गया है। ये कुत्ते अभी अलग-अलग शेल्टर हॉम्स में हैं। लेकिन वहां आपस में लड़ते हैं। इनके लिए खाना उपलब्ध कराने के लिए संभागायुक्त ने शहर में कई जगह फूड जोन बनाने के निर्देश दिए हैं।

जहां से अन्य आवारा कुत्तों व शेल्टर हॉम्स में रह रहे कुत्तों को खाना जा सके, लेकिन अभी तक नगर निगम इसकी व्यवस्था भी नहीं कर पाया है। संभागायुक्त ने कहा कि जल्द ही फूड जोन की व्यवस्था करें ताकि कुत्तों को भोजन मिल सके।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/animal-dog-birth-control-bhopal-nasbandi-5473119/

Rashifal 08 December: 12 राशियों के लिए कैसा रहेगा रविवार, जानें किसकी चमकेगी किस्मत


ज्योतिष पंडित श्यामनारायण व्यास

मेष राशिफल / Aries horoscope Today: काम की अधिकता रहेगी। नौकरी में मनचाहा स्थानांतरण व पदोन्नति के भी योग बन रहे हैं। आर्थिक निवेश सोच-समझकर करें। पारिवारिक कार्यों में आपकी पूछ परख बढ़ेगी।


वृषभ राशिफल / Taurus Horoscope Today: आज आपको पत्नी से सहयोग व समर्थन मिलेगा। व्यवसाय में उन्नति संभव है। कारोबार में कुछ नवीन योजनाएं बनेंगी। आपके द्वारा लिए गए निर्णय गलत साबित होंगे।


मिथुन राशिफल / Gemini Horoscope Today: सामाजिक आयोजनों में आपकी प्रशंसा होगी। व्यापार, व्यवसाय में लाभदायक सौदे आत्मबल बढ़ाएंगे। आज साहस, पराक्रम बढ़ेगा। धर्म ग्रंथों के पठन-पाठन में अभिरुचि बढ़ेगी।


कर्क राशिफल / Cancer Horoscope Today: आप बहूत जल्दी दूसरों के विश्वास में आ जाते हैं, सतर्क रहें। विपरीत परिस्थितियों से दृढ़ता से सामना कर सकेंगे। व्यापार में परेशानियों का अंत होगा। प्रेम प्रसंग के योग है। उधार लिया पैस कैसे चुकाएंगे, इसी सोच में परेशान रहेंगे।


सिंह राशिफल / Leo Horoscope Today: आपकी दिनचर्या में आये बदलाव से निजी कार्य प्रभावित होंगे। परिवार में मांगलिक अवसर आएंगे। व्यवसाय में लाभ के योग बन रहे हैं। नौकरों पर नजर रखें।


कन्या राशिफल / Virgo Horoscope Today: आज रुका धन मिलने से धन संग्रह बढ़ेगा। आत्मविश्वास के बलबुते पर आगे बढ़ेंगे। पारिवारिक सुख-संतोष बना रहेगा। मनोरंजन के कार्यों में रुचि बढ़ेगी। आज अपनी वस्तुएं संभालकर रखें।


तुला राशिफल / Libra Horoscope Today: अपने स्वास्थ के प्रति आप कितने लापरवाह हैं। किसी नए व्यापार में निवेश करने के योग है। आज विद्वानों के साथ रहने का अवसर मिलेगा। लाभदायक सौदे होंगे। प्रसिद्धि मिलेगी।


वृश्चिक राशिफल / Scorpio Horoscope Today: अपने संबंधों के प्रति आप लापरवाही कर रहे हैं। व्यवसाय में विकास की योजनाएं बन सकती है। आर्थिक अनुकूलता रहने से सुख साधन बढ़ेंगे। निजी जीवन में भागदौड़ के बाद सफलता की संभावना है। आपके लिए शनिदेव की आरधना लाभदायक रहेगा।


धनु राशिफल / Sagittarius Horoscope Today: नौकरी में बदलाव चाहते हैं, पर फैसला लेने में असमंजस की स्थिति रहेगी। साहित्य पठन में रुचि बढ़ेगी। संतान के भविष्य की चिंता रहेगी। कारोबार में सोच-समझकर लिए गए निर्णय शुभ फल देंगे।


मकर राशिफल / Capricorn Horoscope Today: समय का सदुपयोग करें। अपनी संगत बदलें। दूसरों की उन्नति से दुखी न हों, आप मेहनत करें और संकुचित मानसिकता बदलें। व्यापार में हर किसी पर विश्वास न करें। अपनों से प्रतिस्पर्धा से बचें। कानूनी विवाद पक्ष में हल होंगे।


कुंभ राशिफल / Aquarius Horoscope Today: समय पर काम होने से मन अशांत रहेगा। कलात्मक कार्यों का प्रतिफल मिलेगा। व्यापारिक नवीन योजनाएं बनेंगी। निर्माण कार्य में सुधार होगा। जीवनसाथी की भावनाओं का अपमान करने से बचें। वैवाहिक जीवन में तनाव रहेगा।


मीन राशिफल / Pisces Horoscope Today: आज खान-पान पर नियंत्रण जरूरी है। व्यर्थ के दिखाओं से दूर रहें। मानसिक शांति की तलाश में रहेंगे। संतान के विवाह में विलंब से चिंता होगी। न्यायालयीन कार्य आज पूरे होंगे। व्यवसाय में कोशिशों के बावजूद मंदी रहेगी।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/horoscope-rashifal/rashifal-08-december-2019-daily-horoscope-aaj-ka-rashifal-5472750/

MP के ये टॉप-5 पर्यटन स्थल क्रिसमस की छुट्टियों को बना देंगे खास


भोपाल/ दिसंबर के अंत तक स्कूल कॉलेजेस की छुट्टियां हो जाती है। पढ़ाई और काम से रेस्ट लेने के लिए अकसर लोग इन दिनों में लंबा वेकेशन भी डिसाइड कर लेते हैं। ये सीजन इसलिए भी खास है क्योंकि, सभी स्टूडेंट्स को क्रिस्मस से न्यू ईयर तक छुट्टियां मिलती है। ऐसे में कई लोग फेस्टिव सीजन इंज्वाय करने और पढ़ाई और काम से साइड होकर चिल करने का मूड बनाते हैं। पर उनमें कई लोगों को ये असमंजस रहता है कि, आखिरकार ऐसी कौनसी जगह घूमने जाया जाए, जहां ज्यादा से ज्यादा इंज्वाय किया जा सके। अगर आप भी किसी ऐसे ही असमंजस में हैं और अब तक नए साल के स्वागत का वीकेंड प्लॉन नहीं कर पाए हैं, तो हम आपके इस नए साल को खास बनाने के लिए मध्य प्रदेश समेत देशभर के कुछ चुनिंदा शानदार और खास स्थानों के बारे में बताएंगे, जहां आप कम से कम बजट में अपने वींकेंड को खास बना सकते हैं और प्राकृतिक सौंदर्य के बीच अपने वीकेंड का आनंद ले सकते हैं।

 

पढ़ें ये खास खबर- किसी भी उम्र में बढ़ा सकते हैं अपनी हाइट! 99% लोग हैं इस चीज से अनजान


प्रदेश के ये खास डेस्टिनेशन, जो आपका वीकेंड बना देंगे स्पेशस, वो भी बजट में

-पचमढ़ी

cristmas vacation

अपनी सुंदर वादियों, ऊंचे ऊंचे पहाड़ों और बादलों के साथ मौज मस्ती के कारण पचमढ़ी को मध्य प्रदेश का कश्मीर कहा जाता है। ठंड के सीजन में घूमना पसंद करने वालों के लिए बादलों से घिरी ये जगह बेहद खास है। छोटा महादेव, वॉटरफॉल जैसी जगहों के साथ गहरी-गहरी चट्टानें लोगों को यहां कई दिन गुजारने के लिए मजबूर कर देती हैं। भोपाल से मात्र 195 कि.मी की दूरी पर स्थित इस खूबसूरत स्थान पर आप बाय रोड आसानी से पहुंच सकते हैं।

 

पढ़ें ये खास खबर- अगर आप भी पहनती हैं 'हाई हील', तो दे रही हैं इन गंभीर बीमारियों को बुलावा


-मढ़ई

cristmas vacation

पदेश के सबसे शांत वातावरण वाले स्थानों में से एक मढ़ई में कल-कल बहती नदी का किनारा है। प्रकृति के आंचल में विचरते वन्य जीव हैं, देशी विदेशी पक्षियों का कलरव है। ये प्रदेश का एका मात्र ऐसा टूरिस्ट स्पॉट है, जहां अन्य टूरिस्ट स्पॉटों की तरह पर्यटकों की रेलमपेल भी नहीं है। जैसा कि, हमने पहवे आपको पचमढ़ी के बारे में बताया, जिसे सतपुड़ा की रानी कहा जाता है। तो अगर पचमढ़ी रानी है, तो मढ़ई सतपुड़ा की राजकुमारी है। भोपाल से करीब 130 किलोमीटर दूर मढ़ई सतपुडा नेशनल पार्क का हिस्सा है। डेढ हजार वर्ग किलोमीटर में फैले विशाल सतपुड़ा के जंगल में इस राजकुमारी मढ़ई का साम्राज्य करीब डेढ सौ वर्ग किलोमीटर में है।

भोपाल से पचमढ़ी जाते समय रास्ते में सोहागपुर से पहले एक भारतीय आत्मा पं. माखनलाल चतुवेर्दी का गांव माखननगर यानी बाबई पड़ता है। बाबई से आगे बढ़ने पर मुख्य मार्ग से दाहिनी तरफ का रास्ता मढ़ई मड़ता है। करीब 20 किलोमीटर चलने पर एक खूबसूरत नजारा आपको मढ़ई के अद्भुत दर्शन कराता है। मढ़ई एक ईको टूरिज्म स्पॉट है। जहां आसानी से बाय रोड जाया जा सकता है।

 

पढ़ें ये खास खबर- हर पुरुष को अपनी नाभि में लगानी चाहिए ये खास चीजें, होंगे फायदे ही फायदे


-ओरछा

cristmas vacation

16वीं सदी में बसाए जाने वाले इस शहर में पुराने राजाओं से जुड़ी कई तरह के एेतिहासिक रोचक तथ्य सुनने को मिलते हैं। यहां का जहांगीर और राज महल बेमिसाल है। वैसे तो ओरछा को एमपी की आयोध्या के रूप में भी जाना जाता है। भगवान राम को इस अद्भुत शहर का राजा कहा जाता है। वैस तो भोपाल से ओरछा का सफर आप ट्रेन से भी कर सकते हैं। लेकिन, यहां जाने का बेहतर विकल्प बाय रोड ही है। भोपाल से ओरछा जाने के लिए आप NH-44 से जा सकते हैं। आपका ये सफर 338 कि.मी का रहेगा, जहां रुकते रुकाते जाने पर आपको बीच बीच में कई अद्भुत नजारे देखने को मिलेंगे।

 

पढ़ें ये खास खबर- क्या जल्दी ही थक जाते हैं आप, कहीं आपका स्टैमिना तो नहीं हो रहा कम? जानिए इसका कारण


-मांडू

cristmas vacation

मांडू शहर के विध्यान्चल पर्वत से दो हजार फीट की ऊंचाई पर बसा है। इसकी खूबसूरती बेहद नैसर्गिक है, जिसे देश ही नहीं बल्कि विदेशों से देखने पर्यटक पहुंचते हैं। आप भी यहां आकर अपने वीकेंड को स्पेशल बना सकते हैं। राजधानी भोपाल से यहां बाय रोड जाना अलग ही अद्भुत सौंदर्य के दर्शन कराता है। इसके लिए आप ट्रेवल की गाड़ी कर सकते हैं। भोपाल से बाय रूट मांडू तक का सफर 287 कि.मी है।

 

पढ़ें ये खास खबर- सर्दियों में भरपेट खाएं ये स्वादिष्ट चीज, काले रहेंगे बाल और हो जाएंगे एक दम फिट


-हनुवंतिया

cristmas vacation

खंडवा के पास स्थित हनुवंतिया टापू ने आज देशभर में MP का switzerland कहा जाता है। ये क्रिस्मस वेकेशन के लिए बेस्ट ऑप्शन है। 20 करोड़ की लागत से यहां काटेज बनाए गए हैं और चारों तरफ समुंद्र की तरह फैले कुदरत के नजारे को निहारने देशभर से लोग आते हैं। रानी रूपमती की प्रेमकहानी और जहांगीर का दिल्ली वाला गेट जैसी जगह को देखने लोग जाते हैं। भोपाल से इस खूबसूरत पर्यटन स्थल तक पहुंचने के लिए वैसे तो कई ट्रेनें हैं। वहीं, बाय रोड मार्ग से पहुंचने के लिए आपको 248 कि.मी का सफर तय करना होगा।

 

पढ़ें ये खास खबर- पुरानी से पुरानी दाद, खाज या खुजली को जड़ से ख़त्म करती है ये चीज़, जानिए उपचार

देश के खास डेस्टिनेशन भी आपका वीकेंड बना देंगे स्पेशस

मध्य प्रदेश के अलावा, क्रिसमस वींकेंड पर जिन लोगों को मध्य प्रदेश के बाहर जाने का मन हो उनके लिए भी हम देश के कुछ खास और सौंदर्य से भरपूर नजारे बता रहे हैं। यानी आप इन जगहों के बारे में जानकर यहां जाने का मन बना सकें।आइये जाने उनके बारे में...।

 

पढ़ें ये खास खबर- साड़ी पहनने के ये तरीके आपको देंगे Different Look, निखर उठेगा आपका रूप


-मसूरी (Mussoorie)

cristmas vacation

मसूरी से बेहतर जगह नए साल के लिए और कोई नहीं। यहां आप प्रकृति की सुंदरता को करीब से देख पाएंगे और परिवार या दोस्तों के साथ एंजॉय कर पाएंगे। राजधानी भोपाल से मसूरी की बाय रोड दूरी 1002 कि.मी है। वहीं ट्रेन का सफर भोपाल से दिल्ली तक 700 कि.मी है और दिल्ली से मसूरी की दूरी 270 कि.मी है। यहां आप 800 से 1000 रुपये के बीच होटल भी बुक कर सकते हैं। साथ ही, यहां आप खाने की भी कई वेरायटीज का लुत्फ उठा सकते हैं।

 

पढ़ें ये खास खबर- रात में घर की लाइट जलाकर सोना चाहिए या नहीं? जानिए इसके फायदे और नुकसान


-कश्मीर (Kashmir)

cristmas vacation

ये जगह किसी सपने से कम नहीं। जरा सोचिये कि, वो जगह कितनी सुंदर होगी, जिसे दुनिया का स्वर्ग कहा जाता हो। यहां की सुंदर वादियों, बर्फीले पहाड़ और शिकारा बोटिंग जिसने भी एक बार की है, उसका मन बार बार कश्मीर जाने को चाहता है। सर्दियों में यहां सब कुछ बर्फ की वादियों से ढक जाता है। ये देश ही नहीं बल्कि विदेशी सैलानियों के पर्यटन का मुख्य आकर्षण है। यानी यहां देश ही नहीं बल्कि विदेशों से भी पर्यटक खिंचे चले आते हैं। यहां सबसे पास एयरपोर्ट श्रीनगर है और रेलवे स्टेशन उधमपुर है। भोपाल से कश्मीर की बाय रोड दूरी 1172 कि.मी है। वहीं, भोपाल से उधमपुर के लिए 9 ट्रैने हैं, जिनका चुना सहूलत के आधार पर आप कर सकते हैं।

 

पढ़ें ये खास खबर- अगर आप भी बॉडी बनाने के साथ लेते हैं ये डाइट, तो हो सकते हैं नपुंसक्ता के शिकार


-मनाली (Manali)

cristmas vacation

मनाली की पहाड़ियां, हरियाली, स्काई डाइविंग और नाइट लाइफ, इतनी शानदार है कि न्यू ईयर और क्रिस्मस पर यहां लोग खिंचे चले आते हैं। सर्दियों में यहां के खूबसूरत मौसम की वजह से बड़ी तादात में पर्यटक पहुंचते हैं। इन सबसे खास मनाली की बर्फबारी ज्यादा पॉपुलर है, जो इस जगह को और जगहों के मुकाबले खास बनाती है। भोपाल से मनाली की दूरी तय करने के लिए आपको नेशनल हाइवे क्र. 44 से जाना सबसे आसान होगा। यहां से बायरोड की दूरी 1311 कि.मी है।

पढ़ें ये खास खबर- बॉलीवुड के आकाश में चमके मध्य प्रदेश के ये सितारे, दुनिया में बनाया अपना अलग मुकाम


-लक्षद्वीप (Lakshadweep)

cristmas vacation

सूरज की हल्की धूप, बोटिंग, समुद्र में गोते लगाना और पानी के बीच कैंडल लाइट डिनर जैसे कई परफेक्ट मोमेंट्स आपको सिर्फ लक्षद्वीप में ही देखने को मिलेंगे। लक्षद्वीप में आप सातों द्वीपों पर घूम सकते हैं। लेकिन यहां पयर्टकों के लिए 6 द्वीपों पर ही जाने की अनुमति है। कठमठ, मिनीकॉय, कवरत्ती, बंगाराम, कल्पेनी और अगाती द्वीपों पर आप अपने पार्टनर के साथ एंजॉय कर सकते हैं। इनमें से कठमठ द्वीप की मरीन लाइफ बहुत पॉपुलर है, जो पर्यटकों को अपनी ओर खासा आकर्षित करती है। राजधानी भोपाल के अलावा, इंदौर से यहां डायरेक्ट हवाई सुविधा है। इसके अलावा, प्रदेश के करीब करीब सभी बड़े शहरों से आप यहां रेल मार्ग द्वारा पहुंच सकते हैं।

 

पढ़ें ये खास खबर- इस पैटर्न में बने पासवर्ड आसानी से हो जाते हैं Hack, यहां चेक करें और तुरंत बदल दें


-लद्दाख (Ladakh)

cristmas vacation

खाली सड़कें, सड़कों के पास मौजूद नीले पानी की नदियां और सामने बर्फ से ढके हल्की धूप की चादर ओढ़े पहाड़। नए साल का स्वागत इससे और शानदार तरीके से करना मुश्किल है। यहां की जांस्कार घाटी का लुत्फ ज़रूर लें। लद्दाख पहुंचने के लिए लेह सबसे नज़दीकी एयरपोर्ट है। यहां का सबसे नज़दीकी रेवले स्टेशन जम्मू तावी है, जो लद्दाख से 634 किलोमीटर दूर है। भोपाल से लद्दाख लिए वैसे तो फ्लाइट और रेल मार्ग से जाया जा सकता है, जिसकी दूरी 1202 कि.मी है।

 

पढ़ें ये खास खबर- 97 सालों से इस गांव में नहीं बढ़ी जनसंख्या, पूरे विश्व के लिए बना मिसाल


-गोवा (Goa)

cristmas vacation

क्रिस्मस वेकेशन हो और गोवा का नाम ना आए, ये संभव ही नहीं है। गोवा के बीच और यहां के अद्भुत चर्च क्रिस्मस फेस्टिवल में चार चांद लगा देते हैं। सी फूड खाने शौकीनों के लिए ये एक बेस्ट वेकेशन प्लेस है। भोपाल से गोवा जाने के लिए आप फ्लाइट या रेल को माध्यम बना सकते हैं। दोनो ही ऑप्शन में आपको मंबई तक जाना होगा। मुंबई से गोवा जाने के लिए पानी का सफर आपके वेकेशन को और भी खास और रोचक बना देगा।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/cristmas-new-year-2019-20-best-mp-india-tour-packages-ideas-vacation-5472737/

कभी नहीं होगा झगड़ा! सास-बहू के रिश्ते में ऐसे लाएं मधुरता


अक्सर हम लोगों से सुनते हैं कि घर-घर की कहानी एक ही जैसी है! ऐसा नहीं है कि हर घर की कहानी एक ही होती है, अलग भी होती है। लेकिन जब सास-बहू की बात आती है तो लोग कह देते हैं कुछ भी हो सास-बहू के मामले में तो कहानी एक ही होती है!

ये भी पढ़ें- जानिए क्यों होता है पूजा में फूल का प्रयोग, क्या है महत्व?

दरअसल, हर कोई अपनी शादीशुदा जीवन के लिए कई कल्पनाएं करता रहता है, कई तरह की प्लानिंग करता है। अक्सर देखा जाता है कि शादी के बाद सास-बहू के बीच के रिश्ते खराब ही रहते हैं। माना जाता है कि सास-बहू का रिश्ता सबसे जटिल और नाजुक होता है।

ये भी पढ़ें- इन कारणों से आपके घर में होती है कलह!

आज हम आपको कुछ उपाय बताएंगे। इस उपाय को करने से सास-बहू के संबंध में मधुरता आएगी। अगर आपका संबंध सास से ठीक नहीं है तो आप संबंध मधुर बनाने के लिए इस उपाय को कर सकते हैं...


अगर आपका संबंध सास से ठीक नहीं है तो आप नियमित रूप से सूर्य को जल अर्पित करें।

शुक्रवार के दिन भूलकर खट्टी चीजों का सेवन न करें। ऐसा करने से सास-बहू का संबंध ठीक रहेगा।

मंगलवार के दिन मीठी चीज खुद पकाकर सास को खिलाएं। ऐसा करने आप दोनों के संबंध मिठास रहेगा।

बहू कभी भी अपनी सास को कांच की वस्तुएं उपहार में न दें। अगर आप कांच की वस्तुएं उपहार में देगी तो आप दोनों का संबंध कांच के समान ही रहेगा।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/horoscope-rashifal/tips-of-happy-relationship-for-saas-bahu-5472652/

60 हजार लोगों पर दर्ज प्रकरण वापस लेगी कमलनाथ सरकार


भोपाल। मध्यप्रदेश की सरकार 60 हजार किसानों और एससी-एसटी वर्ग के लोगों को बड़ी राहत देने जा रही है। कांग्रेस ने सत्ता में आने से पहले अपने वचन पत्र में इसका वादा किया। इस वचन पत्र में कांग्रेस पार्टी ने कहा था कि वो सत्ता में आई तो किसान आंदोलन और अनुसूचित-जाति, जनजाति आंदोलन के वक्त दर्ज हुए प्रकरणों को वापस ले लेगी। इन प्रकरणों को वापस लेने के बाहने कांग्रेस अपने कुछ नेताओं को इस वर्ग के बीच प्रमोट करने की रणनीति बना रही है। साथ थोड़े दिनों बाद आने वाले नगरीय निकाय चुनावों से भी इसे जोड़कर इसे देखा जा रहा है। जल्द ही यह प्रक्रिया पूरी होने वाली है।

 

दोनों ही मामले को लेकर प्रदेश के गृहमंत्री बाला बच्चन और विधि मंत्री पीसी शर्मा ने दोनों विभागों के अफसरों के साथ चर्चा की। इसमें कांग्रेस नेताओं में किसान आंदोलन से जुड़े रहे पूर्व विधायक पारस सकलेचा और डीपी धाकड़ और एससीएसटी आंदोलन से जुड़े रहे प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष सुरेंद्र चौधरी भी मौजूद रहे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक गृह मंत्री ने भी कहा है कि किसान आंदोलन और अजाजजा आंदोलन में अज्ञात लोगों को बड़ी संख्या में आरोपी बनाया गया था। इनमें लगभग 60 हजार लोगों के प्रकरण सरकार वापस लेगी।

 

174 FIR और 50 हजार से ज्यादा आरोपी
पारस सकलेचा और धाकड़ किसान आंदोलन के दौरान दर्ज हुए मामलों को देखेंगे। इनकी विस्तृत जानकारी भी सरकार को उपलब्ध कराने में वे मदद करेंगे। अकेले मंदसौर में ही करीब 42 हजार आरोपी किसान आंदोलन में बनाए गए हैं। यह सख्या अज्ञात आरोपियों की है, ऐसे में पुलिस न तो इनको पकड़ सकी है और न ही इतने लोगों की तलाश कर पाई है। इसलिए इन सभी प्रकरणों को वापस लेकर खत्म किया जाएगा। किसान आंदोलन के दौरान पूरे प्रदेश में 174 fir हुई थी। इसमें 50 हजार से अधिक लोगों को आरोपी बनाया गया था।

 

अजा-जजा आंदोलन में 8 हजार आरोपी
दो अप्रैल 2018 को अजा-जजा आंदोलन के दौरान हुई हिंसा में 8 हजार लोगों को आरोपी बनाया गया था। इननकी जानकारी के लिए प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष सुरेंद्र चौधरी को जिम्मेदार दी गई है। वे इन प्रकरणों की जानकारी मंत्रियों को देंगे। दोनों मामले को लेकर 11 दिसंबर को बैठक में चर्चा होगी।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/kamal-nath-government-kisan-sc-st-andolan-case-status-5472643/

गीता के कुल 700 श्लोकों में से केवल ये 9 श्लोक बदल सकते हैं हर किसी का भाग्य


8 दिसंबर दिन रविवार को गीता जयंती का पर्व है। मार्गशीष मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को हो भगवान श्रीकृष्ण ने गीता का दिव्य ज्ञान कुल 700 श्लोकों के माध्यम से अर्जुन को दिया था। 700 श्लोकों में से केवल इन 9 श्लोको का पाठ नित्य करने से किभी व्यक्ति का भाग्य बदल सकता है।

गीता के कुल 700 श्लोकों में से केवल ये 9 श्लोक बदल सकते हैं हर किसी का भाग्य

श्लोक- 1

योगस्थ: कुरु कर्माणि संग त्यक्तवा धनंजय।
सिद्धय-सिद्धयो: समो भूत्वा समत्वं योग उच्यते।।

अर्थात- हे धनंजय (अर्जुन)। कर्म न करने का आग्रह त्यागकर, यश-अपयश के विषय में समबुद्धि होकर योगयुक्त होकर, कर्म कर, (क्योंकि) समत्व को ही योग कहते हैं।

गीता के कुल 700 श्लोकों में से केवल ये 9 श्लोक बदल सकते हैं हर किसी का भाग्य

श्लोक- 2

नास्ति बुद्धिरयुक्तस्य न चायुक्तस्य भावना।
न चाभावयत: शांतिरशांतस्य कुत: सुखम्।।

अर्थात- योगरहित पुरुष में निश्चय करने की बुद्धि नहीं होती और उसके मन में भावना भी नहीं होती। ऐसे भावनारहित पुरुष को शांति नहीं मिलती और जिसे शांति नहीं, उसे सुख कहां से मिलेगा।

गीता के कुल 700 श्लोकों में से केवल ये 9 श्लोक बदल सकते हैं हर किसी का भाग्य

श्लोक- 3

विहाय कामान् य: कर्वान्पुमांश्चरति निस्पृह:।
निर्ममो निरहंकार स शांतिमधिगच्छति।।

अर्थात- जो मनुष्य सभी इच्छाओं व कामनाओं को त्याग कर ममता रहित और अहंकार रहित होकर अपने कर्तव्यों का पालन करता है, उसे ही शांति प्राप्त होती है।

गीता के कुल 700 श्लोकों में से केवल ये 9 श्लोक बदल सकते हैं हर किसी का भाग्य

श्लोक- 4

न हि कश्चित्क्षणमपि जातु तिष्ठत्यकर्मकृत्।
कार्यते ह्यश: कर्म सर्व प्रकृतिजैर्गुणै:।।

अर्थात- कोई भी मनुष्य क्षण भर भी कर्म किए बिना नहीं रह सकता। सभी प्राणी प्रकृति के अधीन हैं और प्रकृति अपने अनुसार हर प्राणी से कर्म करवाती है और उसके परिणाम भी देती है।

गीता के कुल 700 श्लोकों में से केवल ये 9 श्लोक बदल सकते हैं हर किसी का भाग्य

श्लोक- 5

नियतं कुरु कर्म त्वं कर्म ज्यायो ह्यकर्मण:।
शरीरयात्रापि च ते न प्रसिद्धयेदकर्मण:।।

अर्थात- तू शास्त्रों में बताए गए अपने धर्म के अनुसार कर्म कर, क्योंकि कर्म न करने की अपेक्षा कर्म करना श्रेष्ठ है तथा कर्म न करने से तेरा शरीर निर्वाह भी नहीं सिद्ध होगा।

गीता के कुल 700 श्लोकों में से केवल ये 9 श्लोक बदल सकते हैं हर किसी का भाग्य

श्लोक- 6

यद्यदाचरति श्रेष्ठस्तत्तदेवेतरो जन:।
स यत्प्रमाणं कुरुते लोकस्तदनुवर्तते।।

अर्थात- श्रेष्ठ पुरुष जैसा आचरण करते हैं, सामान्य पुरुष भी वैसा ही आचरण करने लगते हैं। श्रेष्ठ पुरुष जिस कर्म को करता है, उसी को आदर्श मानकर लोग उसका अनुसरण करते हैं।

गीता के कुल 700 श्लोकों में से केवल ये 9 श्लोक बदल सकते हैं हर किसी का भाग्य

श्लोक- 7

न बुद्धिभेदं जनयेदज्ञानां कर्म संगिनाम्।
जोषयेत्सर्वकर्माणि विद्वान्युक्त: समाचरन्।।

अर्थात- ज्ञानी पुरुष को चाहिए कि कर्मों में आसक्ति वाले अज्ञानियों की बुद्धि में भ्रम अर्थात कर्मों में अश्रद्धा उत्पन्न न करे किंतु स्वयं परमात्मा के स्वरूप में स्थित हुआ और सब कर्मों को अच्छी प्रकार करता हुआ उनसे भी वैसे ही करावे।

गीता के कुल 700 श्लोकों में से केवल ये 9 श्लोक बदल सकते हैं हर किसी का भाग्य

श्लोक- 8

ये यथा मां प्रपद्यन्ते तांस्तथैव भजाम्यहम्।
मम वत्र्मानुवर्तन्ते मनुष्या पार्थ सर्वश:।।

अर्थात- हे अर्जुन। जो मनुष्य मुझे जिस प्रकार भजता है यानी जिस इच्छा से मेरा स्मरण करता है, उसी के अनुरूप मैं उसे फल प्रदान करता हूं। सभी लोग सब प्रकार से मेरे ही मार्ग का अनुसरण करते हैं।

गीता के कुल 700 श्लोकों में से केवल ये 9 श्लोक बदल सकते हैं हर किसी का भाग्य

श्लोक- 9

कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन।
मा कर्मफलहेतु र्भूर्मा ते संगोस्त्वकर्मणि ।।

अर्थात- भगवान श्रीकृष्ण अर्जुन से कहते हैं कि हे अर्जुन। कर्म करने में तेरा अधिकार है। उसके फलों के विषय में मत सोच। इसलिए तू कर्मों के फल का हेतु मत हो और कर्म न करने के विषय में भी तू आग्रह न कर।

******************


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/dharma-karma/geeta-jayanti-bhagwat-geeta-shlok-benefits-in-hindi-5472622/

Bank closed: दिसंबर में 8 दिन बंद रहेंगे बैंक, समय से निपटा लें जरूरी काम


भोपाल। हर व्यक्ति के जीवन में पैसा खास महत्व रखता है। वहीं आज के दौर में सीधे तौर प रइसका मुख्य जुड़ाव बैंक bank से है। बैंकों में चाहे छोटी सी भी बात हो लोग चिंता में पड़ जाते हैं।

चाहे हड़ताल हो या लगातार कुछ दिनों की छुट्टियां bank holidays या कुछ भी, ऐसा लोगों को बैंक के बंद होने से परेशानियों का सामना करना ही पड़ता है।

दरअसल आज के समय में सभी लोगों को बैंक का काम आए दिन लगा रहता है और कई बार हम बैंक जाते हैं तो पता चलता है कि बैंक बंद है। जिससे परेशानी का सामना करना पड़ता है।

लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस माह यानि 2019 दिसंबर Bank Holidays in December 2019 में यदि आपने बैंकों को लेकर अपनी पहले से तैयारी नहीं की तो आप काफी ज्यादा दिक्कत में आ सकते हैं।

दरअसल जल्द ही साल 2019 हम सबको अलविदा कहने वाला है। ऐसे में साल के आखिरी महीने दिसंबर में स्कूल की छुट्टियों से लेकर क्रिसमस हॉलीडे तक बीच में कई छुट्टियां पड़ने वाली हैं।

वहीं इन खास दिनों में आपको कैश से जुड़ी कोई परेशानियों से सामना न करना पड़े और आप अपने सभी काम अच्छे से पूरे कर लें, इसके लिए हम आपको दिसंबर में पड़ने वाली सभी छुट्टियों के बारे में बता रहे है।

ज्ञात रहे कि दिसंबर में 5 दिन रविवार (1,8,15,22,29) का अवकाश रहेगा, वहीं 14 दिसंबर (दूसरा शनिवार) और 28 दिसंबर (चौथा शनिवार) को भी बैंक बंद रहेंगे। आइए जानते हैं आखिर दिसंबर महीने में कौन-कौन से दिन बैंक बंद रहने वाले हैं।

ऐसे समझें दिसंबर 2019 में बैंक छुट्टियां : Bank Holidays in December 2019 ...

1 दिसंबर 2019- रविवार
8 दिसंबर 2019- रविवार
14 दिसंबर 2019- दूसरा शनिवार
15 दिसंबर 2019- रविवार
22 दिसंबर 2019- रविवार
25 दिसंबर 2019- क्रिसमस
28 दिसंबर 2019- चौथा शनिवार
29 दिसंबर 2019- रविवार


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/banks-will-be-closed-in-india-for-these-8-days-in-december-2019-5472337/

मोक्षदा एकादशी 8 दिसंबर 2019 : मुहूर्त, व्रत पूजा विधि


Mokshada Ekadashi : इस साल 2019 में मोक्षदा एकादशी 8 दिसंबर दिन रविवार को है। मार्गशीर्ष मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को मोक्ष देने वाली मोक्षदा एकादशी कहा जाता है। इसी शुभ दिन भगवान श्री कृष्ण ने महाभारत युद्ध में अर्जुन को श्रीमदभगवत गीता रूप ब्रह्मज्ञान प्रदान किया था। वैसे तो हर महीने एकादशी तिथि आती है लेकिन शास्त्रों में इस एकादशी तिथि के व्रत पूजा बहुत अधिक महत्व बताया गया है। मोक्षदा एकादशी को व्रत पूजा करने से समस्त पापों से मुक्ति मिला जाती है एवं एस व्रत से इच्छित कामनाएं पूरी हो जाती है।

 

गीता जयंती 2019 : संपूर्ण पूजा विधि एवं महत्व

मोक्षदा एकादशी मुहूर्त

- 8 दिसंबर दिन रविवार को मोक्षदा एकादशी तिथि सूर्योदय से पूर्व ही प्रारंभ हो जाएगी एवं मोक्षदा एकादशी का समापन रविवार को ही रात्रि में समाप्त हो जायेगी ।

- मोक्षदा एकादशी का व्रत सूर्योदय से लेकर दूसरे दिन सूर्यास्त से पहले ही उपवास खोला जाता है।

- व्रत खोलने से पूर्व भोजन, दान आदि का क्रम करने से व्रत सफल माना जाता है।

- इस मोक्षदा एकादशी के दिन व्रत रखकर भगवान विष्णु के कृष्ण स्वरूप की पूजा करने का विधान है।

 

13 दिसंबर से शुरू हो रहा खरमास, महीने भर शुभ कार्यों पर लगेगा विराम

 

मोक्षदा एकादशी पूजा विधि एवं मुहूर्त

मोक्षदा एकदशी के दिन पवित्र तीर्थ में स्नान करने या फिर गंगाजल मिले जल में स्नान करने के बाद घर के पूजा स्थल या फिर किसी देवालय मंदिर पूजा अर्चना करें। पूजा से पूर्व हाथ में अक्षत एवं जल लेकर व्रत करने का संकल्प लें। इस दिन भगवान श्रीकृष्ण एवं श्रीमदभगवत गीता का पूजन करें। मोक्षदा एकादशी के दिन भगवान श्री दामोदर की पूजा, धूप, दीप नैवेद्ध, अक्षत आदि से करना चाहिए। इस व्रत का समापन द्वादशी तिथि के दिन गरीबों, कन्याओं या फिर सतपथ ब्राह्माणों को भोजन कराकर सामर्थ्य अनुसार दान-दक्षिणा देने से अनंत पुण्यफल प्राप्त होता है। इस व्रत को करने वाले व्रती के पूर्वज जो नरक में चले गये है, उन्हें भी मोक्ष की प्राप्ति होती है।

**********

मोक्षदा एकादशी 8 दिसंबर 2019 : मुहूर्त, व्रत पूजा विधि

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/festivals/mokshda-ekadashi-vrat-puja-vidhi-8-december-2019-5472306/

Danik Bhaskar Rajasthan Danik Bhaskar Madhya Pradesh Danik Bhaskar Chhattisgarh Danik Bhaskar Haryana Danik Bhaskar Punjab Danik Bhaskar Jharkhand Patrika : Leading Hindi News Portal - Bhopal Patrika : Leading Hindi News Portal - Jaipur The Hindu Nai Dunia Latest News Hindustan Hindi Danik Bhaskar National News Danik Bhaskar Himachal+Chandigarh Patrika : Leading Hindi News Portal - Entertainment Danik Bhaskar Uttar Pradesh Patrika : Leading Hindi News Portal - Astrology and Spirituality Patrika : Leading Hindi News Portal - Mumbai Patrika : Leading Hindi News Portal - Lucknow Nai Dunia Madhya Pradesh News Patrika : Leading Hindi News Portal - Varanasi onlinekhabar.com News 18 Patrika : Leading Hindi News Portal - Miscellenous India Danik Bhaskar Delhi NDTV News - Latest Danik Bhaskar Technology News Danik Bhaskar Health News Patrika : Leading Hindi News Portal - Sports Patrika : Leading Hindi News Portal - Business Patrika : Leading Hindi News Portal - Education Orissa POST Patrika : Leading Hindi News Portal - World Patrika : Leading Hindi News Portal - Bollywood Scroll.in ET Home NDTV News - Top-stories NDTV Khabar - Latest NDTV Top Stories hs.news Moneycontrol Latest News Bharatpages India Business Directory Telangana Today NDTV News - India-news India Today | Latest Stories Danik Bhaskar International News Danik Bhaskar Madhya Pradesh ABC News: International Business Standard Top Stories Patrika : Leading Hindi News Portal - Mobile The Dawn News - Home NDTV News - Special Nagpur Today : Nagpur News Jammu Kashmir Latest News | Tourism | Breaking News J&K Bollywood News and Gossip | Bollywood Movie Reviews, Songs and Videos | Bollywood Actress and Actors Updates | Bollywoodlife.com Danik Bhaskar Breaking News NYTimes.com Home Page (U.S.) NSE News - Latest Corporate Announcements Stocks-Markets-Economic Times NDTV Videos Baseerat Online Urdu News Portal View All
Directory Listing in Packing Materials and Equipment in RAJASTHAN Job Consultancy in GUJRAT Abrasives and Allied Products in BIHAR College in RAJASTHAN Plant and Machinery in BIHAR NGO in MAHARASHTRA Automotive & Transport in BIHAR Institution in CHATTISGARH Admission Consultant in HIMACHAL PRADESH PHOTO/VIDEO in DELHI Hospital in MAHARASHTRA Hospital in JHARKHAND Institution in UTTAR PRADESH School in CHATTISGARH Beauty Parlour & Beauty Clinic in JHARKHAND medical equipments in MIZORAM Abrasives and Allied Products in GUJRAT Car Repair in DELHI Institution in WEST BENGAL common service centre in TAMIL NADU Communication and Media in KARNATAKA Hotels and Resorts in DELHI NGO in MEGHALAYA Business Services in PUNJAB Transportation in BIHAR Computer and Internet in MADHYA PRADESH Hotels and Resorts in KARNATAKA Tour & Travels in KARNATAKA Construction and Real Estate in DELHI Modicare MSC in ARUNACHAL PRADESH Aadhar Enrollment Centre in TAMIL NADU Business Services in GOA SALES & MARKETING in MAHARASHTRA FASHION SHOP in TAMIL NADU Industrial Goods and Products in PUNJAB medical equipments in ANDHRA PRADESH Advertising Agency in ANDHRA PRADESH Doctor in BIHAR Health & Beauty in BIHAR College in UTTARAKHAND Telecommunication Products in MAHARASHTRA Advertising Agency in TAMIL NADU NGO in GUJRAT Education & Jobs in ASSAM Automobile and Automative in JHARKHAND PMKVY Training Centre in ORISSA Health Care in UTTAR PRADESH Aadhar Enrollment Centre in KARNATAKA Government Office in GUJRAT School in DELHI