DANIK BHASKAR HEALTH NEWS - FEB THU 27 2020 #BHARATPAGES BHARATPAGES.IN

Danik Bhaskar Health News

https://www.bhaskar.com/rss-feed/1532/ 👁 100566

स्कॉटलैंड बना महिलाओं को मुफ्त सैनेटरी उत्पाद देने वाला पहला देश, भारत की अब भी हालत खस्ता


लाइफस्टाइल डेस्क. महिलाओं केस्वास्थको ध्यान में रखते हुए स्कॉटलैंड की सरकार ने बीते दिन एक बड़ा कदम उठाया है। इस बिल के तहत स्कॉटलैंड की हर महिला नागरिक को जल्द ही मुफ्त टैंपोन और सैनेटरी उत्पाद मुहैया करवाया जाएगा। इस बिल को पास करने के लिए संसद में मौजूद 112 सदस्यों ने मंजूरी दी है। भारत की बात करें तो आज भी यहां गरीब महिलाओं के लिए की जा रही सभी कोशिशें नाकाम होती नज़र आ रही हैं।

22 करोड़ रुपए सालाना लागत में महिलाओं को मिलेगी सुविधा

सैनेटरी उत्पादबिल स्कॉटलैंड का प्रस्ताव मंत्रीमोनिका लेनन ने संसदमें रखा था। संसदमें मौजूद 112 लोगों ने पहले चरण में इसे मंजूरी दी है। अब इस बिल को आगे बढ़ाया जाएगा। इस कानून के बनने के बाद सामुदायिक भवन, यूथ क्लब और मेडिकल स्टोर समेत कई सार्वजनिक स्थानों में सैनेटरी नैपकिन मुफ्त मिलेंगे। इससे पहले भी साल 2018 में स्कॉटलैंड सरकारी स्कूलों में मुफ्त सैनेटरी उत्पाद देने वाला पहला देश बन चुका है। इस बिल में सालाना 22 करोड़ रुपए का खर्च आने वाला है।

भारत की अधिकतर सैनेटरी वैंडिग मशीनों की हालत खराब

साल 2019 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा सभी सरकारी में मुफ्त सैनेटरी नैपकिन देने की योजना बनाई जा चुकी है। सरकार द्वारा कई सरकारी स्कूलों में सैनेटरी नैपकिन वैंडिग मशीनें लगाई गई हैं। मगर कुछ ही समय में इन मशीनों की हालत खस्ता हो गई है। कुछ सरकारी स्कूल ऐसी भी हैं जहां इस मशीन के इस्तेमाल के लिए बच्चियों को पैसे देने पड़ रहे हैं।

सुविधा ब्रांड के सैनेटरी नैपकिन की कीमत घटाकर 1 रुपए की गई

भारत में सैनेटरी नैपकिन योजना की शुरुआत साल 2018 में की गई थी। इसके अंतर्गत देश के 5.500 जन औषधि केंद्रों में ढाई रुपए प्रति सैनेटरी नैपकिन बेचा गया था। करीब एक साल के अंदर ही 2.2 करोड़ सुविधा सैनेटरी नैपकिन की बिक्री की गई थी। साल 2019 में इनके दामों को घटाकर मात्र एक रुपए कर दिया गया है।

एक रुपए में मिलता है सुविधा सैनेटरी नैपकिन।

महिलाओं को भी करना होगा जागरुक

देश में आज भी कई ऐसे ग्रामीण क्षेत्र हैं जहां महिलाओं को सैनेटरी नैपकिन और पीरियड संबंधित जागरुकता नहीं है। असुरक्षित तरीकों के इस्तेमाल से कई महिलाएं संक्रमण का शिकार हो जाती हैं। शोध में पता चला है कि 40 प्रतिशत महिलाएं सावधानी ना रखने के कारण संक्रमित हो जाती हैं। बार-बार संक्रमित होने से महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर होने का खतरा बना रहता है। देश में सालाना सर्वाइकल कैंसर के लगभग 1,32,000 केस सामने आते हैं, जिनमें से केवल आधी महिलाओं का ही उपचार हो पाता है। दुनियाभर के सर्वाइकल कैंसर के मामलों से मरने वालों में एक तिहाही भारत की महिलाएं हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Scotland Set To Become First Country In World To Provide Free Sanitary Products

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/scotland-set-to-become-first-country-in-world-to-provide-free-sanitary-products-126856457.html

एम एफ हुसैन की पेंटिग की कीमत रखी गई 2.6 मिलियन डॉलर, सही कीमत मिलने पर टूटेगा रिकॉर्ड


लाइफस्टाइल डेस्क. साल 2018 में नीरव मोदी के बड़े बैंक लोन को रिकवर करने के लिए सैफरनआर्ट कंपनी द्वारा नीलामी का आयोजन किया गया है। पहली लाइव नीलामी 27 फरवरी को रखी गई है। अगली ऑनलाइन नीलामी 3-4 मार्च को होगी। इस नीलामी में नीरव मोदी के घर से बरामद किए गए सामान को रखा जाएगा। इन सामानों में एम एफ हुसैन, राजा रवि वर्मा और अमृता शेरगिल की कीमती पेंटिंग्स भी शामिल हैं। यदि एम एफ हुसैन की कीमत निर्धारित 2.6 मिलियन डॉलर मिली तो ये उनकी सबसे महंगी पेंटिग बन सकती है। आइए देखते हैं क्या है इन पेंटिग्स की कीमत और खास बात..

बैटल ऑफ गंगा एंड यमुना महाभारत 12, एम एफ हुसैन

भारत के पिकासो कहे जाने वाले एम एफ हुसैन की कला को दुनियाभर में सराहा जाता है। इनकी साल 1972 में बनाई गई तस्वीर 'बैटल ऑफ गंगा एंड यमुना महाभारत 12' को 27 फरवरी को लाइव नीलामी में उतारा जा रहा है। इस पेंटिंग की कीमत 12 से 18 करोड़ रुपए तय की गई है। साल 2008 में एम एफ हुसैन की एक पेंटिग 12 करोड़ रुपए में बिकी थी जो उनकी अब तक की सबसे महंगी पेंटिग है। यदि नीलामी में इस पेंटिग की 18 करोड़ कीमत मिलती है तो ये एक नया रिकॉर्ड होने वाला है।

बैटल ऑफ गंगा एंड यमुना महाभारत 12, एम एफ हुसैन।

ब्वॉयज़ विद लेमन, अमृता शेरगिल

इस पेंटिग को साल 1935 में अमृता शेरगिल ने शिमला में बनाया था। अमृता की इस पेंटिग को भारतीय कला के खजानों में से एक की उपाधि दी गई है। पेंटिंग को कई खूबसूरत एब्सट्रेक्ट रंगो से बनाया गया है। इस पेंटिग को नीलाम करने की कीमत 12 से 18 करोड़ रुपए रखी गई है।

ब्वॉयज़ विद लेमन, अमृता शेरगिल

राजा रवि वर्मा, 1881

साल 1881 में बनाई गई इस पेंटिग में त्रावणकोर रियासत के महाराजा और उनके छोटे भाई बकिंघम के तीसरे शासक, रिचर्ड टेंपल ग्रेनविल, मद्रास के गवर्नर जनरल का सवागत कर रहे हैं। इस पेंटिग को पिछले साल सैफरनआर्ट कंपनी ने 2.2 मिलियन डॉलर में नीलाम किया था। इस साल राजा रवि वर्मा की एक बेनाम पेंटिग की नीलामी 2 से 3 करोड़ रुपए में होगी। इस तस्वीर को भारतीय कला के खजाने में शामिल किया गया है।

राजा रवि वर्मा, 1881

वीएस गायतोंडे, 1972

1972 में बने इस मॉडर्न आर्ट पीस में वीएस गायतोंडे के देवनागरी में हस्ताक्षर के साथ दिनांक भी मौजूद है। इस तस्वीर की कीमत 7 से 9 करोड़ रुपए है।

वीएस गायतोंडे, 1972

श्रीकृष्ण, मंजीत बावा, 1992

लाल रंग में बनाई गई भगवान श्रीकृष्ण की पेंटिग को 27 फरवरी को नीलामी में दर्शाया जाएगा। इस पेंटिंग को साल 1992 में लोकप्रिय कलाकार मंजीत बावा द्वारा बनाया गया है। इसकी कीमत 3 से 5 करोड़ रुपये रखी गई है।

श्रीकृष्ण, मंजीत बावा, 1992

अर्पिता सिंह, ट्वेंटी सेवन डक्स ऑफ मेमोरी, 1969

पीले और सफेद रंग के इस केनवास को साल 1969 में मशहूर आर्टिस्ट अर्पिता सिंह ने बनाया है। इस केनवास में अर्पिता के हस्ताक्षर के साथ दिनांक भी लिखी हुई है। इस पेंटिग की कीमत 1.2 से 1.8 करोड़ रुपये रखी गई है।

अर्पिता सिंह, ट्वेंटी सेवन डक्स ऑफ मेमोरी, 1969।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
MF Hussain Painting | MF Hussain Painting Price Updates On Nirav Modi Assets Online Auctions Updates

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/mf-hussain-painting-price-updates-on-nirav-modi-assets-online-auctions-updates-126848522.html

अनीता डोंगरे की क्लासिकल शेरवानी में दिखीं इ‌वांका ट्रम्प, चर्चा में रहा ट्रेडीशनल लुक


लाइफस्टाइल डेस्क. अमेरिका केराष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के 36 घंटे के भारत दौरे पर उनकी बेटी इवांका और फर्स्ट लेडी मिलानिया भी उनके साथ आई हैं। दो दिन के इस दौरे में इ‌वांका ट्रम्प और मेलानिया के बेहद स्टाइलिश लुक नज़र आए हैं। बीते दिन जहां इ‌वांका शर्ट ड्रेस में नज़र आईं वहीं दूसरे दिन उन्होंने शेरवानी पहनकर सबकी नज़रें अपनी ओर खींच ली हैं। उनकी इस क्लासिकल शेरवानी को अनीता डोंगरे ने डिजाइन किया है।

भारतीय डिज़ाइनर का कलेक्शन है ये शेरवानी

इवांका ट्रम्प क्लासिकल शेरवानी पहने हुए आज राजधानी दिल्ली के हैदराबाद हाउस पहुंची थीं। इस शेरवानी को भारत की पॉपुलर डिजाइनर अनीता डोंगरे ने डिजाइन किया है। ऑफ व्हाइट बंदगलाशेरवानी पहनी थी। इस सुरुही शेरवानी के बटनों में ब्रांड का लोगो भी बना हुआ है।शेरवानी के साथ इ‌वांका ने कुंदन वाले गोल्डन ईयररिंग और सफेद सैंडल को पेयर किया है। इस सूट की कीमत 82,400 रुपए है।

क्लासिकल शेरवानी में इ‌वांका ट्रम्प।

20 साल पुराना है स्टाइल

इवांका की ड्रेस पर डिजाइनर अनिता ने कहा, इस क्लासिकल शेरवानी को मुर्शीदाबाद, वेस्ट बंगाल के हैंडवोवन सिल्क फैब्रिक से बनाया गया है। हमने इस स्टाइल को 20 साल पहले बनाया था, आज भी इसे चलन में देखना अद्भुत है। इ‌वांका से पहले अनीता केट मिडलटन, बेल्जियम की क्वीन मथिल्डे, सोफी जोर्जिया, कनाडा की फर्स्टलेडी औरहिलेरी क्लिंटन जैसी कई हस्तियोंको भी स्टाइल कर चुकी हैं।

गोल्डन ईयररिंग में इ‌वांका।

इ‌वांका ने शेयर की अपने लुक की तस्वीर

हैदराबाद हाउस से इवांका ने अपने लुक की तस्वीर इंस्टाग्राम अकाउंट से शेयर की है। आज दिन में इवांका पीएम नरेंद्र मोदी और पिता डोनाल्ड ट्रम्प की बातचीत में भी शामिल हुई थीं। इवांका व्हाइटहाउस की सीनियर एडवाइज़र हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Ivanka Trump posed in Indian designer's classic Sherwani, posing in a trendy look

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/ivanka-trump-wear-indian-designers-classical-sherwani-126840699.html

मज़ाक उड़ाना और नियंत्रण करना नहीं है सच्चे दोस्त की पहचान, इन बातों से लगाएं पता कि कौन है सच्चा मित्र


लाइफस्टाइल डेस्क. हमारे जीवन में कुछ लोग ऐसे होते हैं जिनसे बातें करते वक़्त हमें किसी प्रकार के दिखावे की ज़रूरत नहीं होती। बस जो दिल में आता है वो कह देते हैं। ये लोग और कोई नहीं बल्कि हमारे दोस्त होते हैं। लेकिन कई बार हमारे द्वारा बनाए गए दोस्त हमें भी अपना दोस्त समझें, ऐसा नहीं होता है। हमारा असल दोस्त कौन है ये जानना कई बार मुश्किल होता है। लेकिन कुछ आदतों के ज़रिए पता लगाया जा सकता है कि आपका सच्चा मित्र कौन है।

मज़ाक उड़ाना

दोस्ती में मज़ाक-मस्ती होना आम बात है। लेकिन जब ये मज़ाक बाहरी लोगों के सामने होे तो बुरा लगना लाज़मी है। आपका सच्चा दोस्त आपका मज़ाक तो उड़ाएगा पर इस बात का ख़्याल भी रखेगा कि कोई बाहरी व्यक्ति तो साथ नहीं है। यदि भूलवश अनजान लोगों के सामने ऐसा कर बैठे तो वो इसके लिए क्षमा मांगने में ज़रा भी संकोच नहीं करेगा/करेगी।

कमी उजागर करना

दोस्त एक-दूसरे की कमिया भलीभांति जानते हैं। लेकिन उन्हें उजागर करने में दिलचस्पी लेने के बजाय वे उन्हें दूर करने में साथ देते हैं। जबकि नकली दोस्त या कहें कि नाम के लिए दोस्त बने लोग सामने वाले की कमियों को उजागर करने के साथ ही उन्हें शर्मिंदा भी करते हैं।

अपना राग अलापना

ऐेसे लोग सामने वाले की बात सुनने के बजाय अपनी कहना अधिक पसंद करते हैं। यदि कोई इन्हें दोस्त समझकर अपनी समस्या साझा कर रहा है तो ये उनकी बात में रुचि नहीं लेते, लेकिन अपनी बात कहने के लिए ये किसी की बात काटने से भी नहीं चूकते। लेकिन असल मित्र आपकी समस्या सुनने में पर पूरा ध्यान देते हैं। इस भेद को समझें।

विकास में रुकावट

इस तरह के लोग आपके आगे बढ़ने पर ख़ास ख़ुश नहीं होते। ये आपके द्वारा किए अच्छे कार्य में भी कोई न कोई कमी निकाल ही देते हैं। ये आपका आत्मविश्वास भी कम कर देते हैं, जबकि सच्चे साथी ऐसा बिल्कुल नहीं करते। वे आपकी छोटी-सी सफलता पर भी ख़ुश होते हैं।

असुरक्षित महसूस करना

आपकी ज़रूरत होने पर ये आपको फोन, मैसेज करेंगे पर आपके द्वारा तुरंत जवाब न मिलने पर ये खीझ जाते हैं। आपकी किसी अन्य दोस्त से बात होने पर ये असुरक्षित महसूस करते हैं। हां, आपके द्वारा फोन या मैसेज करने पर इनका तुरंत जवाब न देना जायज़ हो सकता है। इसके साथ ही मिस्ड कॉल देखकर दोबारा कॉल करना भी ज़रूरी नहीं समझते। वहीं सच्चे मित्रों को इन सब बातों से फर्क़ नहीं पड़ता। वे आपके नए दोस्तों के साथ भी आसानी से घुलमिल जाते हैं। इसके साथ ही ये आपका फोन न उठा पाने पर बाद में फोन करते हैं या मैसेज के ज़रिए व्यस्त होने की जानकारी देते हैं।

नियंत्रण चाहते हैं

इस तरह के दोस्त आपके निजी जीवन में ज़रूरत से ज़्यादा दखल रखते हैं। आप कहां, किसके साथ जा रहे हैं इन्हें हर बात की जानकारी चाहिए। ये आपके जीवन पर पूरी तरह नियंत्रण रखना चाहते हैं। वहीं आपके असल दोस्त आपके निजता का सम्मान करते हैं। आपके परिवारिक मसलों में भी दखल देने से बचते हैं। ये आप पर किसी तरह का नियंत्रण नहीं चाहते।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Making fun and controlling is not the identity of a true friend, find out from these things who is a true friend

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/relationship/news/know-who-is-your-good-friend-by-these-habbits-126848377.html

हैप्पीनेस क्लास में मेलानिया ने बच्चों के साथ पजल गेम खेला, उनकी बातें समझ नहीं पाए बच्चे तो टीचर बनीं ट्रांसलेटर


लाइफस्टाइल डेस्क, अमेरिका के राष्ट्रपति बीते दिन फर्स्ट लेडी मेलानिया ट्रम्प और बेटी इ‌वांका के साथ भारत पहुंचे हैं। ताजमहल का दीदार करने के बादसभी दिल्ली पहुंच चुके हैं।36 घंटे के भारत दौरे में मंगलवार को फर्स्ट लेडी मेलानिया दिल्ली के सरकारी स्कूल पहुंचीं। उन्होंने बच्चों से बात की, उनके साथ पजल गेम खेला और सम्बोधित किया।

बच्चों ने तिलक लगाकर किया भव्य स्वागत

मेलानिया ट्रम्प 11 बजकर 55 मिनट पर दिल्ली के सर्वोदय को-एजुकेशन सीनियर सेकेंडरी स्कूल पहुंची थीं। स्कूल के बच्चों ने उनके लिए गेट पर बैग पाइप बजाकर स्वागत किया। बच्चों ने उनकी आरती उतारते हुए उनको तिलकलगाया।

मेलानिया ट्रम्प का तिलक करती हुई बच्ची।

हैप्पीनेस क्लास में मेलानिया ने किए बच्चों से सवाल-जवाब

फूलों से स्वागत के बाद मेलानिया छोटे बच्चों की हैप्पीनेस क्लास में पहुंची। एक घंटे की इस क्लास में टीचर ने बच्चों को कहानियां सुनाई साथ ही उनसे कुछ सवाल-जवाब भी किए। मेलानिया को क्लास में एक कुर्सी पर बैठाया गया था। क्लासरूम के ब्लैकबोर्ड में उनके लिए स्वागत नोट भी लिखा गया था। मेलानिया इस दौरान कुछ नन्हें बच्चों के साथ पज़ल गेम सुलझाते हुए भी दिखीं।

बच्चों से बातचीत करती हुईं मेलानिया।

क्या है हैप्पीनेस क्लासरूम

साल 2018 में दिल्ली के हर सरकारी स्कूल में आम आदमी पार्टी ने बड़ा बदलाव किया और इसेहैप्पीनेस करीकुलमनाम दिया। एक घंटाचलने वाली इस क्लास में बच्चों को किताबी ज्ञान के अलावा कई सारी अलग-अलग एक्टिविटीज़ कराईजाती हैं। यहां आर्ट और क्राफ्ट भी सिखाया जाता है। मेलानिया ट्रम्प ने भी साल 2018 में बी-बेस्ट नाम के एक कार्यक्रम की शुरुआत की थी, जिसमें बच्चों के आत्मविश्ववास को बढ़ाने के लिए काम किया जाता है। यही कारण है कि मेलानिया हर विदेशी दौरे में स्कूलों में जाने को महत्व देती आई हैं।

बच्चों और मेलानिया के बीच टीचर बनीं बातचीत का माध्यम

मेलानिया लगातार बच्चों से बातचीत करने की कोशिश में लगी हुई थीं। फर्स्ट लेडी की भाषा को समझना इन प्राइमरी स्कूल के बच्चों के लिए मुश्किल रहा।बातचीत के दौरानस्कूल टीचर ने ट्रांसलेटर कीभूमिका निभाई। मेलानिया के लिए स्कूल में सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया था, जिसमें बच्चों ने बेहतरीन परफॉर्मेंस दी है।मेलानिया नेकई बच्चों का परिचय लेने के बाद सभी बच्चों को अंत में एक साथ संबोधित किया। बच्चे पूरे जोश के साथ भारत और अमेरिका का झंडा लहराते नज़र आए।

हैप्पीनेस क्लासरूम में बच्चों को कहानी सुनाती हुईं टीचर।

'नमस्ते'से हुई स्पीच की शुरुआत

मेलानिया ट्रम्प ने नमस्ते से अपनी स्पीच की शुरुआत की, जिसे सुनकर बच्चों ने भी उत्साह से जवाब दिया। उन्होंने पहली बार तिलक से स्वागत का अनुभव किया है जो उनके लिए खास एक्सपीरियंस रहा है। स्कूल में बुलाने के लिए धन्यवाद देते हुए उन्होंने स्कूल की शिक्षा प्रणाली की भी जमकर तारीफ की है।

बच्चों को संबोधित करती हुईं मेलानिया।

ऐसा था मेलानिया का लुक

सरकारी स्कूल के दौरे में मेलानिया ने सफेद रंग की शर्ट पेटर्न ड्रेस पहनी हुई है। मल्टीकलर प्रिंट वाली केरोलीना हैरेरेा ड्रेस के साथ कमर में लाल रंग का बेल्ट लगाया है। सफेद सैंडलड्रेस के साथमैच हो रही थी।

बच्चों की बनाई तस्वीरों के साथ।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Melania Trump Delhi School Visit [Updates] First Lady Melania Trump receives grand welcome at Delhi Government School

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/namaste-trump/news/melania-trump-delhi-government-school-visit-receives-grand-welcome-126840487.html

बनारसी सिल्क बेल्ट के साथ व्हाइट जम्प सूट में नजर आईं मेलानिया ट्रम्प, बेटी इवांका ने दोबारा पहनी फ्लोरल ड्रेस


लाइफस्टाइल डेस्क.दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश अमेरिका के 45वें राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प पत्नी मेलानिया और बेटी इवांका के साथ भारत पहुंच चुके हैं। अहमदाबाद एयरपोर्ट से सामने आई तस्वीरों में मेलानिया और इ‌वांका बेहद खूबसूरत ड्रेस में नजर आईं। उनकेकपड़ों का भारत के साथ कनेक्शन भी चर्चा में है। मेलानिया की ड्रेस में लगा बेल्ट सबसे खास रहा, जिसे बनारसी धागों से बुना गया है। इवांका ने जो ड्रेस पहनी, उसे वह पहले भी साउथ अमेरिका टूर के दौरान पहन चुकी हैं।

मेलानिया ट्रम्प : सफेद सेमी फॉर्मल जंप सूट पर बनारसी ब्रोकेड फेब्रिक बेल्ट
मेलानिया ट्रम्प हमेशा ही अपने स्टाइल स्टेटमेंट को लेकर चर्चा में बनी रहती हैं। भारत दौरे के लिए भी उनकीतैयारी बेहद खास नजर आ रही है। पहले दिन मेलानिया ने मेंडॉरियन कॉलर वाला व्हाइट जम्प सूट पहना।

डोनाल्ड और मेलानिया ट्रम्प के भारत दौरे की पहली तस्वीर।

मेलानिया की ड्रेस की सबसे खास बात रही उसमें लगा बेल्ट। उन्होंने गहरे हरे रंग की ब्रेल्ट पहनी, जो बनारसी ब्रॉकेड फैब्रिक की बनी है। बेल्ट को ग्रीन सिल्क और गोल्ड मैटेलिक धागे से तैयार किया गया है और इस परबारीक एम्ब्रॉइडरी की गई है। उनकी व्हाइट ड्रेस पर यह ग्रीन बेल्ट काफी आकर्षक लग रही थी।

बनारसी फैब्रिक से डिजाइन किया हुआ बेल्ट।

इस ड्रेस को अमेरिकन डिजाइनर हर्वे पियरे ने डिजाइन किया है। हर्वे कई सालों से मेलानिया ट्रम्प के लिए ड्रेस डिजाइन कर रहे हैं। इससे पहले हर्वे अमेरिका की फर्स्ट लेडी हिलेरी क्लिंटन और मिशेल ओबामा के लिए भी ड्रेस डिजाइन कर चुके हैं।

प्लेन से उतरती हुईं मेलानिया ट्रम्प।

इ‌वांका ट्रम्प : पसंदीदा फ्लोरल प्रिंट ड्रेस में नजर आईं

अहमदाबाद एयरपोर्ट पहुंचने के बाद इवांका की भी कुछ तस्वीरें सामने आईं, जिनमें उन्होंने शर्ट पेटर्न वाली वन पीस ड्रेसपहनी हुई थी। लाल फ्लोरल प्रिंट वाली ड्रेस के साथ इयररिंग और खुले बालों में इ‌वांका काफी सुंदर नजर आ रही थीं।

अहमदाबाद एयरपोर्ट में पिता से मिलती हुईं इवांका।

इवांका साउथ अमेरिका टूर में भी यह ड्रेस पहन चुकी हैं। अमेरिकन वेबसाइट के मुताबिक, प्रोएंजा स्काउलर ब्रांड की इस ड्रेस की कीमत 1,21,450 रुपए है।

साउथ अमेरिका में प्रोएंजा स्काउलर ब्रांड की ड्रेस में इवांका।

पफी स्लीव के साथ इवांका ने पर्ल और एमरॉल्ड रत्न वाली ईयरिंगस पहनी। लाइट आई मेकअप के साथ ब्राउन लिपस्टिक का इस्तेमाल किया जो उनके लुक को सूट कर रहा था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Melania Trump Dress | US President Donald Trump Wife Melania Trump First Lady Dress Code, Ivanka Repeated Her Designer Dress

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/us-president-donald-trump-wife-melania-trump-first-lady-dress-code-and-ivanka-trump-look-decode-126832171.html

पहली मुलाकात में मेलानिया ने ट्रम्प को नंबर देने से कर दिया था इनकार, ऐसी है दोनों की खूबसूरत लवस्टोरी


लाइफस्टाइल डेस्क, अमेरिका के 45वें राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प अपनी पत्नी मेलानिया ट्रम्प और बेटी इवांका के साथ आज भारत पहुंच चुके हैं। अपने भारत भ्रमण के दौरान ट्रम्प मेलानिया के साथ प्यार की निशानी ताजमहल भी जाने वाले हैं। दुनिया की सबसे खूबसूरत इमारतों में से एक ताजमहल में जाने वाले इस कपल की भी लवस्टोरी बेहद खूबसूरत है। आइए जानते हैं कैसे हुई मेलानिया और डोनाल्ड की पहली मुलाकात…

1998: डोनाल्ड ट्रम्प को हुआ पहली नज़र में प्यार

मेलानिया ट्रम्प एक पॉपुलर फैशन मॉडल रह चुकी हैं। न्यू यॉर्कर की रिपोर्ट्स के अनुसार मेलानिया और डोनाल्ड की पहली मुलाकात साल 1998 में न्यूयॉर्क की एक फैशल वीक पार्टी में हुई थी। 52 साल के डोनाल्ड पहली नज़र में ही 28 साल की मेलानिया को पसंद कर चुके थे। इस पार्टी में सेलानिया मिडलफर्ट के साथ पहुंचने के बावजूद डोनाल्ड ने हिम्मत करके उनसे उनका फोन नंबर मांगा। मेलानिया ने उन्हें अपना नंबर देने से इनकार करते हुए खुद उनसे नंबर ले लिया।

डोनाल्ड ट्रम्प और मेलानिया की पुरानी तस्वीर।

2000:एक हफ्ते बाद मेलानिया ने की थी पहल

पार्टी में मिलने के एक हफ्ते बाद मेलानिया ने डोनाल्ड को खुद कॉल किया था, जिसके बाद दोनों की मुलाकातें शुरू हुईं। उस वक्त डोनाल्ड ट्रम्प का राजनीति से कोई वास्ता तक नहीं था। साल 2000 में डोनाल्ड को रिफॉर्म पार्टी की ओर से केंडिडेट चुना गया था। इसी बीच दोनों की बढ़ती नज़दीकियां भी काफी चर्चा में थी। साल 2001 में दोनों ने साथ रहने का फैसला किया जिसके बाद मेलानिया ग्रीन कार्ड लेकर अमेरिका में ट्रम्प टॉवर रहने पहुंच गई थीं।

तस्वीर के लिए पोज करते हुए।

2004: बेशकीमती अंगूठी से किया था शादी के लिए प्रपोज़

लगातार 5 सालों तक रिलेशनशिप में रहने के बाद साल 2004 में डोनाल्ड ट्रम्प ने मेलानिया को अंगूठी के साथ शादी के लिए प्रपोज़ किया था। इस बेशकीमती अंगूठी की कीमत 1.5 मिलियन डॉलर थी।

एक दूसरे के साथ डांस करते हुए।

2005: पाम बीच में हुई थी रॉयल वेडिंग

साल 2005 में दोनों ने बिल गेट्स और हिलेरी क्लिंटन जैसी कई बड़ी हस्तियों की मौजूदगी में पाम बीच में शादी की। इस रॉयल वेडिंग में मेलानिया ने 1 लाख डॉलर की खूबसूरत ड्रेस पहनी थी।

मेलानिया और डोनाल्ड की शाद की झलक।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Donald Trump Melania Trump Romance Complete Love Story; Know How US President and Melania Trump first met

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/donald-trump-melania-trump-romance-complete-love-story-126832206.html

पहली अतिथि जैकलीन कैनेडी को पसंद आई थी हाथी की सवारी, मिशेल ओबामा ने किया था बच्चों के साथ डांस


लाइफस्टाइल डेस्क. 24- 25 फरवरी को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और फर्स्ट लेडी मेलानिया भारत दौरे पर आने वाले हैं।मेलानियाताजमहल देखने पहुंचेंगी। यह पहला मौका नहीं है जब अमेरिकीफर्स्ट लेडी भारत आ रही हैं। इससे पहले जैकेलीन कैनेडी, रोजेलिन कार्टर,लॉरा बुशसे लेकर मिशेल ओबामा तकभारत आईं और यहां की खूबसूरती और कल्चर की तारीफ कर चुकी हैं। अब तकभारत दौरें परआईं यूएस कीकी फर्स्ट लेडीजका सफर…

जैकलीन कैनेडी- यूएस फर्स्ट लेडी, 1962

अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति जॉन एफ कैनेडीकी पत्नी जैकलीन कैनेडी 1962 में भारत आने वाली पहली फर्स्ट लेडी थीं। जैकलीन अपनी बहन ली रेट्जविल के साथ भारत दर्शन के लिए आई थीं। अपने इस सफर में जैकलीन ने बच्चों के अस्पताल, गार्डन और राष्ट्रपति भवन समेत कई धार्मिक स्थलों को देखा। भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू और इंदिरा गांधी ने जैकलीन का स्वागत किया। जैकलीन ने इस दौरान गुलाबी ड्रेस के साथ मोतियों की माला, हील्स, दस्तानेऔर हैट पहना था। उन्होंनेजयपुर मेंहाथी की सवारी और यहां आमेर स्थितपिछोला तालाब में नाव की सवारी का लुत्फ उठाया।

राष्ट्रपति भवन में डॉ. राजेंद्र प्रसाद के साथ व्हाइट ड्रेस में जैकलीन कैनेडी।

पैट्रीशिया निक्सन- यूएस फर्स्ट लेडी, 1969

अमेरिका के 37वें राष्ट्रपतिरिचर्ड निक्सन 1969 में अपनी पत्नी पैट्रीशिया निक्सन के साथ भारत दौरे पर आए थे। पैट्रीशिया केवल एक ही दिन के लिए भारत आई थीं। पैट्रीशिया ने इस दिन गुलाबी रंग का मिनी स्कर्ट और ब्लेजर पहना था, साथ ही उन्होंने नीले रंग का स्कार्फ भी गले में लपेटा था।

इंदिरा गांधी के साथ पैट्रीशिया निक्सन।

रोजेलिन कार्टर-यूएस फर्स्ट लेडी 1978

अमेरिका के 39वें राष्ट्रपति जिम कार्टर साल 1978 में अपनी पत्नी रोजेलिन कार्टर के साथ भारत आए थे। जिम के व्यस्त होने के कारण रोजेलिन अकेले ही भारत घूमी थीं। वेएयरपोर्ट पर सफेद रंग की ड्रेस पहनकर पहुंची थी। भारत दर्शन के दौरान उन्होंने ग्रे रंग के ब्लेजर और स्कर्ट के साथ नीले रंग का स्कार्फ पहना था। रोजेलिन ने दिल्ली के स्कूल में कई बच्चों से भी मुलाकात भीकी थी। पति के साथ दिल्ली के पास दौलतपुरगांवका दौरा करते समय उन्होंने माथे पर तिलक भी लगवाया था। यहां परग्रामीणों ने उन्हें शॉलभेंट किया था। बाद में इस गांव का नाम उनके सम्मान में हमेशा के लिएकार्टरपुरी रख दियागया था।

तत्कालीन प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई के साथ जिम और रोजेलिन कार्टर। बाजू में खड़े हैं अटल बिहारी वाजपेयी।

हिलेरी क्लिंटन-यूएस फर्स्ट लेडी, 1995

1995 में हिलेरी क्लिंटन12 दिवसीय दक्षिण एशिया के दौरे पर पहुंचीं थीं। इसी बीच वेअपनी बेटी चेल्सी क्लिंटन के साथ तीन दिनों के लिए भारत पहुंचीं।भारत में उन्होंने महिलाओं के अधिकार और शिक्षा पर भाषण भी दिया था। यहां उन्होंने आगरा में ताजमहल समेत कई जगहों का दौरा किया। हिलेरी गुलाबी रंग काटॉप और लॉन्गस्कर्ट पहनेताजमहल पहुंची थीं। इसके 2 साल बाद 1997 में भी हिलेरी मदर टेरेसा के अंतिम संस्कार में शामिल होने भारत आईं थीं।

ताजमहल के सामने बेटी चेल्सी के साथ हिलेरी।

लॉरा बुश-यूएस फर्स्ट लेडी, 2006

अमेरिका के 43वें राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश और उनकी पत्नी लॉरा बुश साल 2006 में महज 60 घंटेके लिए भारत आए थे। इस दौरान उन्होंने राष्ट्रपति भवन, नोएडा फिल्म सिटी और मदर टेरेसा मिशनरी चैरिटेबल सेंटर का दौरा किया। अंत में दोनों ने राजघाट में महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित की थी। भारत में लॉरा ने ग्रे रंग का कोटपैंट पहना था।

मदर टेरेसा मिशनरी चैरिटेबल सेंटर में लॉरा बुश।

मिशेल ओबामा-यूएस फर्स्ट लेडी, 2010

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा और उनकी पत्नी मिशेल 2010 और 2015 में दो बारभारत आएथे। 2010 के दौरे में मिशेल और बराक मुंबई के स्कूल गए थे। इसके बाद 2008 में हुए आतंकवादी हमले 26/11 के पीड़ितों से भीमिले।मिशेल ने अकेले दिल्ली के नेशनल हैंडलूम और हैंडीक्राफ्ट म्यूजियम का भी लुत्फ उठाया था। मिशेल ने इंडियन डिजाइनर विभू मोहपात्रा की डिजाइन की गईफ्लोरल ड्रेस पहनी थी।मुंबई में उन्होंने गरीब बच्चों के साथ बॉलीवुड गाने परडांस भी किया था।

मुंबई में बच्चों के साथ डांस करती मिशेल ओबामा



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Melania Trump India Visit | First Ladies Who Visited India List Updated; Michelle Obama, Queen Elizabeth (United Kingdom) , Jacqueline Kennedy (United States)

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/first-ladies-who-visited-india-list-updated-melania-trump-michelle-obama-queen-elizabeth-jacqueline-kennedy-126816445.html

गर्मियों में पैरो को टैनिंग से बचाने के लिए आजमाएं ये टिप्स


लाइफस्टाइल डेस्क. गर्मियों का मौसम आने वाला है और साथ में चिपचिपापन और टैनिंग की टेंशन भी। कॉलेज स्टूडेंट्स और टीनएजर्स के लिए सन टैनिंग बड़ी गंभीर समस्या होती है क्योंकि वे काफी समय धूप में रहते हैं। वैसे तो हमारे पूरे शरीर को धूप की किरणों से बचाना चाहिए, लेकिन पैरों पर अधिक ध्यान देना चाहिए क्योंकि पैर सबसे जल्दी टैन होते हैं। स्किन लाइटनिंग से अनइवन स्किन टोन इवन हो जाती है और टैनिंग हट जाती है। बाजार में कई ब्लीचिंग एजेंट्स आसानी से मिल जाते हैं, लेकिन आप घर बैठे भी इन मास्क्स और ट्रीटमेंट से पैरों की स्किन लाइटनिंग कर सकती हैं।

दही व टमाटर फुट मास्क

टमाटर में नैचुरल ब्लीच होता है इसलिए टैनिंग हटाने के लिए इसके रस का इस्तेमाल किया जाता है। घर बैठे टैनिंग हटाने के लिए एक कटोरी में दही निकाल लें, फिर टमाटर को आधा काटकर दही में डिप करें। फिर उसी टमाटर से पैरों पर स्क्रब करलें। अब मास्क बनाने के लिए टमाटर के गूदे में चन्दन पाउडर मिला लें, इसे पैरों पर लगाएं और जब मास्क सूख जाए तो इसे धो लें। इस मास्क से पैरों की त्वचा तो साफ होती ही है, साथ ही ब्लड सर्कुलेशन भी बढ़ता है।

एप्पल साइडर विनेगर और सेंधा नमक

विनेगर में कई सारे ब्यूटी बेनिफिट्स होते हैं। यह मास्क बनाने के लिए आधा चम्मच एप्पल साइडर विनेगर में एक चम्मच सेंधा नमक मिलाएं। एक बाल्टी में गुनगुना पानी भरें और उसमें विनेगर और नमक का मिक्सचर डाल लें। इस पानी में 10 मिनट के लिए पैरों को भिगो लें। इसके बाद अच्छे से स्क्रब करें और दोबारा धोएं।

खीरा और नीबू का रस

एक खीरा लें और इसे आधा काट लें और कुचल दें। कुचलने के बाद इसका रस निकालें। चार बड़े चम्मच खीरे का रस लें और इसमें नीबू का थोड़ा-सा रस मिलाएं। अब इस मिक्शचर को पैरों पर लगाएं। इसे कुछ समय के लिए सेट होने दें फिर इसे ठंडे पानी से धो लें।

संतरे के छिलके और फ्रेश क्रीम मास्क

संतरे में विटामिन सी भरपूर होता है जो त्वचा के लिए एक एंटी-ऑक्सीडेंट के रूप में काम करता है। यह त्वचा के टेक्सचर और रंग को दुरुस्त करने में मदद करता है और रंग को लाइट भी करता है। इसे बनाने के लिए संतरे के सूखे छिलके को मिक्सी में पीस लें। इस पाउडर में एक चम्मच फ्रेश क्रीम मिला लें। इस मिक्सचर से पैरों पर अच्छे से स्क्रब करें फिर 30 से 40 मिनट के लिए छोड़ दें। इसके बाद ठंडे पानी से धो लें।

स्पेशल टिप: कई विशेषज्ञों का मानना है कि हाथों और पैरों पर मेकअप फाउंडेशन का उपयोग उन्हें टैनिंग से बचा सकता है। फाउंडेशन अल्ट्रावाइलेट किरणों को सीधे त्वचा में घुसने से रोकता है और सनस्क्रीन के इस्तेमाल के बाद लगाया जा सकता है ताकि त्वचा को पूरी तरह से नुकसान होने से बचाया जा सके।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Try these tips to protect your feet from tanning in summer

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/beauty/news/try-these-tips-to-protect-your-feet-from-tanning-in-summer-126816388.html

डिप पाउडर मैनिक्योर से मिलेगी आपके नाखूनों को तुरंत चमक


लाइफस्टाइल डेस्क. फास्ट लाइफ में लोग सर्विस भी फास्ट चाहते हैं। ऐसी ही फटाफट होने वाली, आसान और तुरंत मिलने वाली सर्विस है - डिप पाउडर मैनिक्योर। साधारण नेल लैकर दो दिन के अंदर चिप हो जाता है। जेल मैनिक्योर लगभग दो हफ्ते चलता है, लेकिन डिप पाउडर मैनिरक्योर एक महीने तक चलता है।

क्या है डिप पाउडर मैनिक्योर?

इसे रेग्यूलर और एक्रिलिक मैनिक्योर के बीच का मैनिक्योर बोल सकते हैं। सबसे पहले नाखून को पूरी तरह ऑइल फ्री किया जाता है। इसके बाद बेस कोट लगाया जाता है। फिर एक रंगीन पाउडर से नाखुन को कोट किया जाता है। पाउडर को कई परतों में नाखून पर चढ़ाया जाता है। नतीजा- सुपर स्मूद ड्यूरेबल मौनिक्योर, जो तीन हफ्ते से ज्यादा समय तक बना रहता है। डिप प्रोसेस बेहद मजेदार होता है और रंग भी बहुत खिले-खिले दिखते हैं।

डिप पाउडर के इस्तेमाल के बाद कुछ ऐसे दिखेंगे नाखून।

कितना सुरक्षित है?

इस मैनिक्योर को बेहद आसानी से किया जा सकता है, लेकिन ध्यान न दिया तो यह इंफेक्शन भी दे सकता है। इसे करने का सबसे सुरक्षित तरीका है ब्रश का इस्तेमाल करना। इस तरह आप कई लोगों द्वारा इस्तेमाल किए गए पाउडर में नाखून डिप करने से बचते हैं। जहां तक हो सके सर्टिफाइड पाउडर का ही इस्तेमाल करना चाहिए। इससे नाखून कम डैमेज होते हैं। ग्लू की वजह से नाखून पर पाउडर लंबे समय तक लगा रहता है। निकालने की प्रक्रिया काफी लंबी होती है। नाखून को एसिटोन में डालकर रखा जाता है फिर बफिंग की जाती है जिससे वह नर्म हो जाते हैं। बार-बार डिप मैनिक्योर करने से नाखून को स्थाई नुकसान भी हो सकता है। नाखून डीहाइड्रेट हो सकते हैं, फंगल इंफेक्शन हो सकता है। एक्सपर्ट्स बताते हैं कि डिप पाउडर मैनिक्योर के साथ आपको कई तरह की सावधानियां बरतनी पड़ेंगी। जैसे- नाखुन को लगातार हाइड्रेटेड रखें, क्यूटिकल ऑइल और हैंड क्रीम का लगातार उपयोग करें।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Dip powder manicure will give instant glow to your nails

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/beauty/news/dip-powder-manicure-will-give-instant-glow-to-your-nails-126816412.html

बहन के पास ड्रेस खरीदने के लिए पैसे नहीं थे, भाई ने दोस्तों से पैसे लेकर हाथों से बनाई डिजाइनर ड्रेस


लाइफस्टाइल डेस्क. फिलीपींस में वेस्टर्न मिंडानाओ स्टेट यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट मेवरिक ने अपनी बहन को खुश करने के लिए बेहद खूबसूत ड्रेस डिज़ाइन की। मेवरिक के डिजाइनिंग सेंस ने सभी को हैरान कर दिया। ड्रेस को देखकर यकीन करना मुश्किल है कि किसी शख्स ने इसे एक हफ्ते के अंदर उसे हाथों से बनाया है। खबर सामने आते ही मेवरिक की ड्रेस सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है।

महंगी ड्रेस के लिए नहीं थे पैसे
मेवरिक की बहन लू कियान्ना जूनियर हाई स्कूल की स्टूडेंट हैं। हाल ही में वैलेंटाइन्स डे के दिन उनके स्कूल में एक पार्टी हुई थी जिसके लिए उन्हें एक ड्रेस की तलाश थी। प्रोम नाइट में पहने जाने वाली ड्रेस खरीदना तो दूर उनके पास रेंट पर लेने के लिए भी पैसे नहीं थे। ड्रेस ना होने पर कियान्ना काफी परेशान थीं। बहन को परेशान देखकर मेवरिक ने अपने हाथों से ड्रेस बनाने का सोचा।
मेवरिक द्वारा बनाई गई डिज़ाइनर ड्रेस।

ऑनलाइन वीडियो देखकर सीखा ड्रेस बनाना

आर्ट और कल्चर के स्टूडेंट मेवरिक को ड्रेस बनाने की जरा भी समझ नहीं थी। उन्होंने यूट्यूब पर वीडियो देखकर ड्रेस बनाना सीखा। कई दिनों की कोशिशों के बाद उन्होंने एक खूबसूरत नीली ड्रेस को तैयार की। ड्रेस को इतना परफेक्ट बनाया गया है कि इसमें गलती निकाल पाना मुश्किल है।
हाथों से कपड़ो में लगाए गए हैं लेस और फूल।

दोस्तों से पैसे उधार लेकर मेवरिक ने बनाई ड्रेस

बहन के लिए बनाई गई इस ड्रेस में लगने वाले सामान को खरीदने में मेवरिक के दोस्तों ने मदद की थी। मेवरिक ने सोशल मीडिया में ड्रेस की तस्वीर शेयर करने के साथ अपने दोस्तों को भी पैसे देने के लिए शुक्रिया कहा है। इस ड्रेस को बनाने में कुल 3000 पेसो (फिलीपिंस करेंसी) का इस्तेमाल किया है।
सादे कपड़े को ऐसे बनाया गया है डिजाइनर।

हाथों से की पूरी सिलाई
मेवरिक ने पोस्ट शेयर करते हुए बताया कि उन्होंने सादे नीले कपड़े को आकर्षित बनाने के लिए अपने हाथों से इसमें लेस लगाई है। मेवरिक की मां ने भी सभी हिस्सों को सिलाई मशीन से जोड़ा है। ड्रेस को बनाने के लिए मेवरिक कई रातों तक नहीं सोए थे। तस्वीरें सामने आते ही दुनियाभर में मेवरिक की ड्रेस की तारीफ हो रही है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Sister did not have money to buy dress, brother took money from friends and made Hand Made designer dress

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/fashion/news/brother-designed-beautiful-prom-dress-for-his-sister-dress-gone-viral-126808775.html

एक्सीडेंट से हाथ डैमेज हुए लेकिन हौसला नहीं, वेजिटेरियन डाइट अपनाकर बनीं देश की नामचीन फिटनेस ट्रेनर


लाइफस्टाइल डेस्क. जीवन की एक दुर्घटना कुछ समय के लिए आपको रोक सकती है लेकिन कुछ साबित करने की उम्मीद को खत्म नहीं कर सकती। दिल्ली की फिटनेस एक्सपर्ट निधि मोहन इसी का उदाहरण हैं। कुछ सालों पहले एक्सीडेंट में हाथों की गंभीर चोट के बावजूद बॉडी को फिट बनाया। दूसरों से ज्यादा वजन उठाया। डाइट में सिर्फ शाकाहार खाने को शामिल करके मिसाल कायम की। आज निधि देश की जानी-मानी फिटनेस ट्रेनर हैं और पिछले 14 सालों से फिटनेस और ब्यूटी के क्षेत्र में काम कर रही हैं।

3 साल पहले शाकाहारी डाइट फॉलो की
36 साल की निधि पर हमेशा से ही फिटनेस का जुनून सवार था। हाथों में कई तरह की चोट लगने के बाद जब उन्हें वजन उठाने के लिए मना किया गया तो योग को अपने रूटीन में शामिल किया। योगा शुरू करते ही निधि ने अपने खाने पीने के बारे में भी विचार बदल लिए। 3 साल पहले सिर्फ शाकाहारी खाने को डाइट में शामिल किया। दूध, घी, पनीर समेत हर वो चीज़ से दूरी बनाई जो जानवर से बनी हो।
हैवी वर्कआउट के लिए भी नहीं बदला खानपान
हैवी वर्कआउट के दौरान कई लोगों ने उन्हें प्रोटीन और कैल्शियम के लिए मांसाहारी लेने की सलाह दी लेकिन उन्होंने दाल और अनाज़ से ही पोषक तत्वों की पूर्ति की। निधी ने फूड और केमिकल इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की हुई है। निधी ने साल 2015 में खुद को पूरी तरह से शाकाहारी कर लिया। कुछ सालों पहले मांसाहारी होने पर वो केवल 50 किलो का ही वज़न उठाती थीं लेकिन डाइट में बदलाव करके अब 80 किलो वज़न उठाना भी उनके लिए बाएं हाथ का खेल बन गया है।
## सही तरह का खाना चुनना है जरुरी
कई लोगों को भ्रम है कि शाकाहारी खाना खाने से हडि्डयां कमज़ोर होती हैं और शरीर को जरुरी प्रोटीन और पोषक तत्व नहीं मिलते। लेकिन निधी कहती हैं कि दाल और अनाज का सेवन करने से शरीर को जरुरी प्रोटीन मिलता है। हम ज्यादातर ऐसे खाने और अनाज़ का सेवन करते हैं जिसे कई बार प्रोसेस्ड किया जा चुका है। ऐसा अनाज शरीर को कम फायदा पहुंचाता है, इसलिए छिलके वाले और कम प्रोसेस हुए अनाज़ का ही इस्तेमाल करें।
## दूध के बदले फलियों से लेती हैं प्रोटीन
निधी मोहन के मुताबिक, दो कटोरी फलियों में 700 मिली ग्राम प्रोटीन मिलता है जो रोज़ के ज़रुरी प्रोटीन का 70 प्रतिशत होता है। हैरान कर देने वाली बात यह है कि अगर इसके बदले आप प्रोटीन के लिए दूध का सेवन करेंगे तो आपको आधा लीटर दूध पीना होगा। 36 साल निधि एक पॉपुलर फिटनेस इन्फ्लूएंसर, फूड साइंटिस्ट और पूमा की ब्रांड एंबेस्सेडर भी हैं। वह दिल्ली, हरियाणा और चंडीगढ़ में वेलनेस क्लीनिक भी चलाती हैं।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Accident caused hand damage but not encouragement, became famous fitness trainer of the country by adopting vegetarian diet

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/beauty/news/nidhi-mohan-kamal-fitness-influencer-of-india-know-her-inspirational-story-126808761.html

बॉलीवुड सेलेब्स के ड्रेसिंग सेंस से सीखें कपड़े पहनने का सही तरीका


लाइफस्टाइल डेस्क. लड़कियों के लिए शादी हो या फिर कोई त्योहार साड़ी से लेकर माडर्न आउटफिट तक को पहनने का आइडिया तो हर किसी के पास होता है। पर, बात जब लड़कों के स्टाइल टिप्स की आती है तो बहुत ही कम लोग सही जानकारी दे पाते हैं। शादी के मौसम में सबसे ज्यादा दुविधा दूल्हे के दोस्तों को होती है कि वो क्या पहनेंं कि सबकी निगाहें बस उन पर ही ठहर जाएं। तो देखें सेलिब्रिटी के ऐसे ही कुछ खास स्टाइल टिप्स जो दूल्हे के दोस्तों के बेहद काम आएंगे।

सिद्धार्थ मल्होत्रा

डिफरेंट बॉटम पसंद करने वाले लड़कों के लिए सिद्धार्थ का ये स्टाइल परफेक्ट है। इसके साथ सिल्क का शर्ट और फ्लोरल ब्लेजर पहनें। फुटवियर के तौर पर लेदर शूज ट्राय करें। अगर आप एसेससरीज पहनने का शौक रखते हैं तो हाथों में ब्रेसलेट पहन सकते हैं।

फ्लोरल ब्लेज़र में सिद्धार्थ मल्होत्रा।

ऋतिक रोशन

कोट के साथ जींस का कॉम्बिनेशन आप पर खूब सूट करेगा। इसके साथ ग्रीन या ब्लैक कलर का टी शर्ट पहनना प्रिफर करें। आप चाहें तो गले में मफलर या स्टाेल के साथ अपने लुक को स्टाइलिश बना सकते हैं। इस ड्रेस के साथ कोई और शूज नहीं, बल्कि लेदर शूज पहनना आपके लिए परफेक्ट रहेगा।

टी-शर्ट के साथ ब्लेजर में रितिक रोशन।

विकी कौशल

अगर आप क्लासिक लुक पसंद करते हैं तो विकी कौशल का स्टाइलिश अवतार बेहद खास है। उनका कोट पेंट दूल्हे के दोस्तों के लिए तो उपयुक्त है ही, साथ ही दूल्हा खुद भी इस तरह के आउटफिट्स से अपने लुक को खास बना सकता है।

क्लासिक सूट में विक्की कौशल।

वरूण धवन

चिकन कुर्ते के साथ कंट्रास्ट कलर की सलवार आपके एथनिक वियर को कंप्लीट लुक देगी। दोस्त की शादी में पहनने के लिए वरुण का ये आउटफिट लड़कों की पहली पसंद बन सकता है। इसके साथ स्टोल कैरी कर आप भीड़ में सबसे अलग दिख सकते हैं।

ट्रडीशनल कुर्ते में वरुण धवन।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Learn the right way to wear clothes from the dressing sense of Bollywood celebs

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/fashion/news/try-these-bollywood-celebrities-look-for-your-upcoming-wedding-party-126808566.html

पार्टी में चाहती हैं अटेंशन, तो गोल्डन लुक में दिखें ग्रेसफुल


लाइफस्टाइल डेस्क. पार्टी में जाते हुए कई बार हम यह समझ नहीं पाते हैं कि कब कौन सी ड्रेस पहनना चाहिए। यदि आप भी किसी पार्टी और स्पेशल इवेंट में अटेंशन चाहती हैं तो गोल्डन आउटफिट्स पहनें। यह कलर कभी आउटडेटेड नहीं होता और हमेशा रॉयल लुक देता है।

शर्ट ड्रेस : यदि आप अपने मॉडर्न लुक को बनाए रखना चाहती हैं तो गोल्डन शर्ट ड्रेस ट्राय करें। सगाई से लेकर ईवनिंग पार्टीज में वेस्टर्न वियर का ये ऑप्शन सूट होता है। इसकी बॉर्डर को गोल्डन या सिल्वर मोतियों से सजाकर भी आकर्षक बनाया जा सकता है। कॉलर्ड नेकलाइन रखें।

इसमें आप एकदम परफेक्ट दिखेंगी।

शर्ट ड्रेस।

गाउन : यदि आप पार्टी में जाना चाह रही हैं तो ईवनिंग पार्टी के लिए गोल्डन कलर का गाउन परफेक्ट ऑप्शन रहेगा। इसे सीक्वेंस वर्क से भी खास बनाया जा सकता है। आप चाहें तो अपनी पसंद के अनुसार शीयर गोल्डन ड्रेस ले सकती हैं। डेलिकेट एम्ब्रॉयडरी इसकी खूबसूरती और बढ़ाने में मदद करेगी।

गोल्डन गाउन।

अनारकली: गोल्डन कलर अनारकली के साथ आजकल कंट्रास्ट दुपट्‌टों का चलन है। इसके दामन और दुपट्टे में गोल्डन ऑर्नमेंटल वर्क भी अच्छा लगता है। इसमें आप परफेक्ट दिखेंगी। इस ड्रेस के साथ गोल्ड ज्वेलरी आप पर बेहद सूट करेगी।

गोल्डन अनारकली।

पलाजो : गोल्डन पलाजो की टीमिंग जितनी अच्छी वेस्टर्न वियर के साथ लगती है, उतनी ही एथनिक वियर के साथ भी पसंद की जाती है। इसके लिए टिशु, ब्रोकेड, जैसे रिच सिंथेटिक फैब्रिक का खासतौर पर इस्तेमाल कर सकते हैं। ब्राइट कलर क्रॉप टॉप के साथ गोल्डन पलाजो आपको डिफरेंट लुक देगा। इसके साथ स्टेटमेंट ज्वेलरी ट्राय करें।

गोल्डन पलाज़ो।

फुटवियर:हेवी वर्क वाली या शाइनी इफेक्ट वाली गोल्डन ड्रेस के साथ मैच करते हुए फुटवियर अच्छे लगते हैं। इसमें ग्लेडियेटर्स से लेकर कोल्हापुरी चप्पल और फ्लैट्स में भी एक से बढ़कर स्टाइल मिल जाएंगी।

गोल्डन फुटवियर।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Look Graceful With Golden Look Try These Dresses

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/fashion/news/golden-party-look-try-these-simple-option-to-look-graceful-in-party-126808531.html

स्किन को ग्लोइंग और खूबसूरत बनाता है बर्फ का पानी, इस्तेमाल करनें से पहले ध्यान में रखें ये बातें


लाइफस्टाइल डेस्क. बर्फ का पानी त्वचा से जुड़ी कई समस्याएं दूर करने में उपयोगी है। अगर आप पिंपल्स या त्वचा के रूखेपन से परेशान हैं तो बर्फ का पानी आपके लिए फायदेमंद है। हालांकि इसे इस्तेमाल करने से पहले कुछ बातों का ध्यान रखें।

बढ़ाए ग्लो : नियमित रूप से बर्फ का पानी इस्तेमाल करने पर त्वचा में नमी बनी रहती है और चेहरे का ग्लो बढ़ता है। अगर आपकी त्वचा ऑइली है तो बर्फ के पानी से बार-बार चेहरा धोएं। इसके अलावा सनटैन हो जाने की स्थिति में होने वाली जलन और त्वचा के सांवलेपन को कम करने में भी यह पानी काफी इफेक्टिव हो सकता है।

दे फ्रेश लुक : जब आप सोकर उठते हैं तो चेहरे पर सूजन नजर आती है। ऐसे में अगर आपको किसी पार्टी या ऑफिस जाना है तो सूजा हुआ फेस अजीब लग सकता है। इस स्थिति में बर्फ का पानी कुछ ही देर में सूजन कम कर देगा और आपको फ्रेश लुक मिलेगा। अगर चेहरे पर थकान दिखे तब भी बर्फ के पानी से चेहरा धोकर फ्रेशनेस पाई जा सकती है।

पोर्स काे करें टाइट : बर्फ का पानी त्वचा के रोम छिद्रों को छोटा करने में मदद करता है। इससे राेम छिद्र साफ रहते हैं और पिंपल्स, झाइयां आदि स्किन प्रॉब्लम भी दूर होती हैं। यह चेहरे की त्वचा को मुलायम बनाने में भी मदद करता है। बर्फ के पानी की जगह बर्फ क्यूब्स भी त्वचा को स्वस्थ्य रखने में मदद कर सकते हैं।

कैसे करें इस्तेमाल : एक बर्तन में सादा पानी डालें और उसमें एक ट्रे आइस क्यूब्स डाल दें। बर्फ को पूरी तरह सादे पानी में घुल जाने दें। इस पानी का इस्तेमाल चेहरा धोने के लिए करें। आप नीम या पुदीने की पत्तियों को उबालकर आइस क्यूब ट्रे में डालकर जमा दें। दिन में एक या दो बार इसे स्किन पर रब करें।

बढ़ाए ग्लो : नियमित रूप से बर्फ का पानी इस्तेमाल करने पर त्वचा में नमी बनी रहती है और चेहरे का ग्लो बढ़ता है। अगर आपकी त्वचा ऑइली है तो बर्फ के पानी से बार-बार चेहरा धोएं। इसके अलावा सनटैन हो जाने की स्थिति में होने वाली जलन और त्वचा के सांवलेपन को कम करने में भी यह पानी काफी इफेक्टिव हो सकता है।

बरतें सावधानी

  1. अगर इस पानी के उपयोग से आपको सिरदर्द, चक्कर आने या फिर कोई अन्य शारीरिक परेशानियां नजर आएं तो बेहतर है कि आप इसका इस्तेमाल न करें।
  2. बर्फ का पानी रक्त संचार को प्रभावित करता है, इसलिए अगर आपको हेल्थ से जुड़ी कोई समस्या है तो बेहतर यही है कि इसे इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Ice water makes skin glowing and beautiful, keep these things in mind before use

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/beauty/news/ice-water-makes-skin-glowing-and-beautiful-keep-these-things-in-mind-before-use-126800519.html

अगर पार्टनर आपके साथ नहीं रहना चाहता तो ब्रेकअप करना ही होगा बेहतर, रिलेशनशिप एक्सपर्ट से जानिए ऐसे सवालों के जवाब


लाइफस्टाइल डेस्क. रिलेशनशिप में आना जितना आसान लगता है उससे कहीं ज्यादा इसे निभाना होता है। अक्सर देखा गया है कि लोग अपने पार्टनर की ज़रुरतों और उनकी बातों को नज़रअंदाज़ कर देते हैं जिससे रिश्ते खराब होने लगते हैं। आइए एक्सपर्ट से जानते हैं ऐसी ही कुछ बातों का जवाब..

सवाल- मैं मेरी गर्लफ्रेंड के साथ लिव इन रिलेशनशिप में 3 साल से था। अब हमारी पढ़ाई खत्म हो चुकी है। मैं उससे शादी करना चाहता हूं, लेकिन वह लिव इन को जरूरत बताते हुए रिश्ता नहीं चाहती, क्या करूं?-कमल एस, भोपाल

एक्सपर्ट का जवाब- लिव इन कोई वैवाहिक समझौता नहीं है। इसलिए अगर आपकी पार्टनर आपके साथ आगे संबंध नहीं बनाए रखना चाहती तो जबरदस्ती न करें। वैसे भी आप लोग जब से साथ रह रहे हैं वह काफी नाजुक उम्र थी। अभी भी आप उसके आकर्षण से निकल नहीं पाए हैं, इसलिए कोशिश करें। समझदारी से काम लेते हुए भविष्य के बारे में सोचें। ऐसा कोई कानून नहीं है कि अगर आप दोनों साथ रह रहे थे तो भविष्य में भी साथ ही रहना होगा। प्यार, आकर्षण और जरूरत तीनों अलग विषय हैं, इनके बारे में समझते हुए ही कोई निर्णय लें वरना उम्र निकल जाने पर पछताने के सिवा कुछ हाथ नहीं आता है।

सवाल- मैं पूजा-पाठ में यकीन रखती हूं, जबकि मेरे पति खुले विचारों के हैं। वैसे तो कई बार विचारों को लेकर मतभेद होता है, लेकिन खासतौर से उन दिनों में जब मैं पीरियड से होती हूं। मैं ऐसे समय में रसोई नहीं जाती। काम बाई से ही कराना पड़ता है, जिसे लेकर पति चिढ़े रहते हैं, क्या करूं?-रश्मि पी, इंदौर

एक्सपर्ट का जवाब- आपने जिन दिनाें की बात की है वह कुदरती है। इसलिए सबसे पहले तो यह बात मन से निकाल दें कि आप अपवित्र हैं, या उन दिनों में कोई शुद्ध काम करने से आपको पाप लगेगा। अगर बात ईश्वर की ही की जाए तो ईश्वर वही है जो उस पर आस्था रखने वालों की गलतियों को माफ करे। आप और आपके पति अकेले रहते हैं, इसलिए उनका ध्यान रखते हुए उनकी भी भावनाओं का सम्मान करें। वह बाकी किसी चीज के लिए आपको नहीं रोक रहे तो आप भी उनकी छोटी-मोटी बातों को इग्नोर न करें। शारीरिक संरचना प्रकृति की दी हुई है, इस पर अपने विचार थोपकर मनगढ़ंत बातें और भ्रांतियां न पालें। अच्छा होगा इस तरह की बात पर बहस करने के बजाय समझदारी से काम लें और वक्त के साथ अपनी सोच बदलें।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
It is necessary to act wisely to maintain the relationship, know from the expert the answers to some such questions

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/relationship/news/follow-these-advices-from-expert-to-make-your-relationship-healthy-126775095.html

नर्सरी स्कूल चुनने से पहले अपने बच्चे की पसंद-नापसंद और स्कूल की एक्टिविटीज को समझें


लाइफस्टाइल डेस्क.एक जमाना था जब प्री-स्कूल नाम की कोई चीज नहीं होती थी। पड़ोसवाली आंटी का स्पेयर कमरा जिसमें कुछ खिलौने और कुछ पोस्टर्स होते थे, वही था प्ले स्कूल समझो। वहीं पड़ोस के बच्चे मिल-जुलकर खेल लेते थे और खेल-खेल में थोड़ा-बहुत सीख जाते थे। खैर, अब प्री या नर्सरी स्कूल चुनने में किन बातों का ध्यान रखा जाए यह जानना जरूरी है। अव्वल तो बच्चे के ढाई साल पूरे होने से तीन-चार महीने पहले से यह प्रक्रिया शुरू कर देना चाहिए। जानिए वोबातें जो आपकी मदद करेंगी...

1. बच्चे को समझिए

स्कूल के बारे में कुछ भी जानने से पहले यह जान लेना जरूरी है कि बच्चा फॉर्मल स्कूल के लिए मानसिक तौर पर तैयार है कि नहीं। उसकी क्षमताओं, उसकी ताकतों तथा कमजोरियां व उसके व्यक्तित्व को समझें। जैसे कुछ बच्चे दूसरे बच्चों के साथ मिल-जुलकर खेलने में खुश रहते हैं, वहीं कुछ बच्चे शर्मीले स्वभाव के कारण अकेले रहने में ज्यादा सहज होते हैं।

2. उसकी उम्र देखें

हर बच्चा ढाई या तीन साल की उम्र में स्कूल जाने के लिए मानसिक रूप से तैयार नहीं होता। इसीलिए ज्यादातर मां-पिता प्ले-स्कूल ही प्रिफर करते हैं, जहां बच्चे खेल-खेल में ही बेसिक चीजें सीख लें। इसके अलावा प्री-स्कूल या नर्सरी बच्चों को जरूरी सामाजिक कौशल भी सिखाते हैं, मसलन निर्देशों का पालन करना, दूसरे बच्चों से मेलजोल करना।

3. एक्टिविटी को जानें

प्ले स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों के लिए पढ़ाई से ज्यादा अन्य गतिविधियां मायने रखती हैं। इतने छोटे बच्चे पढ़ाई से जल्दी बोर हो जाते हैं। ऐसे में ये देखना जरूरी है कि जिस स्कूल को आप अपने बच्चे के लिए चुन रही हैं, वहां अन्य एक्टिविटीज कितनी होती हैं या दिन का कितना समय खेल-कूद के लिए दिया जाता है। बच्चे के सही विकास के लिए यह जानना जरूरी है।

4. जरूरी लिस्ट बनाएं

बच्चे की नर्सरी या प्री-स्कूल चुनने में आप किन बातों को प्राथमिकता देंगे? आपके घर से दूरी, स्कूल की शैक्षिक प्रतिष्ठा, मैथेडोलॉजी क्या है, अनुशासन कैसे बनाए रखते हैं आदि। बच्चों के अनुपात में कितने टीचर्स हैं, फीस क्या है, साफ-सफाई का रखरखाव, सुरक्षा के उपायों की स्थिति वगैरह की एक लिस्ट बनाएं। उसके बाद अपनी प्राथमिकताएं तय कर लें।

5. स्कूलों के बारे में जानें

जिन स्कूलों को आपने शॉर्टलिस्ट किया है अब उनके बारे में गहराई से जानें। उनकी वेबसाइट विजिट करें। उन स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के माता-पिता से चर्चा करें और फिर स्कूलों में जाकर वस्तु-स्थिति देखकर फैसला लें। स्टाफ के बारे में जानने योग्य कई बातें होती हैं कि क्या वे बच्चों से प्यार से बात करते हैं, उनके साथ सम्मान और धैर्य से पेश आते हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Keep these things in mind before choosing a nursery school for Your children

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/relationship/news/choose-right-nursery-school-for-your-kid-with-these-tips-126775059.html

लंदन फैशन वीक में नज़र आईं ट्रेंडी कांजीवरम, चंदेरी और बनारसी साड़ियां, हर मौके पर लुक में लगेंगे चार चांद


लाइफस्टाइल डेस्क. साड़ियां हमेशा से ही एथनिक वियर पसंद करने वाले लोगों के लिए पहली पसंद रही हैं। कई सालों पहले पहने जाने वाली साड़ियां फिर एक बार चलन में आ गई हैं। हाल ही में लंदन फैशन वीक में मॉडल ने इंडिया डे के लिए भारत की खूबसूरत साड़ियों को पहनकर वॉक किया। इन साड़ियों ने हर किसी का ध्यान अपनी ओर खींचा था।

लंदन फैशन वीक में दिखा साड़ियों का जलवा

कुछ दिनों पहले हुए लंदन फैशन वीक में इंडियन हाई कमिशन द्वारा भारतीय वेशभूषा का एक नमूना पेश किया गया। इस रैंप पर 11 मॉडल्स ने भारत में मिलने वाली अलग-अलग तरह की हाथों की कारीगरी की हुई साड़ियां पहनी थीं। इस शो की खास बात ये थी कि रैंप पर दिख रही साड़ियों को इंडियन हाई कमीशन के स्टाफ से ही लिया गया है। इनमें से ज्यादातर कलेक्शन हाई कमिशनल रुची घनश्याम का है, जिन्हें साड़ियां काफी पसंद है।

ट्रेंड में हैं हस्तशिल्प साड़ियां

हमेशा से ही फैशन कुछ समय में दोबारा घूम कर आता है। साड़ियों के साथ भी कुछ ऐसा ही है। कुछ समय पहले जहां शिफोन और सिल्क साड़ियों का चलन था वहीं अब दोबारा कांजीवरम और बनारसी साड़ियों की डिमांड बढ़ गई है। हाथों से कारीगरी की गई साड़ियां भी इन दिनों बॉलीवुड एक्ट्रेस और आम लोगों को काफी भा रही हैं।

हर मौके के लिए परफेक्ट हैं ये साड़ियां

पहले जहां साड़ियों को सिर्फ त्यौहारों या शादियों में ही पहना जाता था वहीं अब इन्हें पार्टीज़ और अ‌वॉर्ड के लिए भी पहना जाने लगा है। बॉलीवुड एक्ट्रेस रेखा हमेशा से ही अपनी कांजीवरम साड़ी में ही हर अवॉर्ड फंक्शन और इवेंट में शामिल होती हैं जिसके बाद कई लोगों द्वारा उनके लुक को कॉफी भी किया जाता है। इसके अलावा एक्ट्रेस अनुष्का शर्मा ने दिल्ली में दिए अपने वेडिंग रिसेप्शन में भी लाल रंग की बनारसी साड़ी पहना था, जिसमें वो काफी खूबसूरत नज़र आ रही थीं।

कांजीवरम साड़ी और बनारसी साड़ी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Kanjeevaram, Chanderi and Banarasi saris in trend again, Models WalksIn Saree at London Fashion Week

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/fashion/news/kanjeevaram-chanderi-and-banarasi-sarees-in-london-fashion-week-2020-126792048.html

बच्चों को शुरुआत से ही सिखाएं लोगों से मिलने-जुलने का सही तरीका


लाइफस्टाइल डेस्क.आजकल के बच्चे अधिकतर समय घर की चारदीवारी में ही बिताते हैं। लोगों से किस तरह से व्यवहार करना हैं उन्हें पता ही नहीं होता। सलीक़ेदार बर्ताव की कमी बड़ी मुश्किलें पैदा कर रही है। इसका निदान ज़रूरी है। आइए मनोवैज्ञानिक डॉ शानू से जानते हैं बच्चों को सिखाई जाने वाली कुछ खास बातें।

बात करने में समस्या

बच्चों में यह समस्या आम होती है। उन्हें पता ही नहीं होता कि सामने वाले से क्या और कैसे बात करनी है। घर पर मेहमान आने पर वे उनका अभिवादन करने से गुरेज़ करते हैं या असहज हो जाते हैं। वहीं कई घरों में माता-पिता मेहमानों के आने पर ख़ुद बातचीत में व्यस्त होकर बच्चों को अपने कमरे में जाकर खेलने के लिए कह देते हैं। इस कारण वे लोगों से मिलना-जुलना, बातें करना नहीं सीख पाते।

आत्मविश्वास की कमी

ये समस्या भी बेहद सामान्य है। इसमें बच्चे बाहरी लोगों से बात करने में इसलिए भी डरते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि उन्हें कुछ नहीं आता और सामने वाला व्यक्ति सब जानता है। ऐसे में उनकी कोशिश रहती है कि किसी तरह की बातचीत न हो।

टीवी-फोन की आदत

सामाजिक कौशल न विकसित होने के पीछे फोन और टी.वी की लत भी बड़ा कारण है। बच्चे दिन-दिनभर फोन पर गेम्स खेलते रहते हैं या टी.वी देखते रहते हैं। ऐसे में लोगों से मिलने पर कैसा व्यवहार करना है उन्हें पता ही नहीं होता।

भावनाएं ज़ाहिर न करना

लोगों से मेल-जोल न होने के कारण व अक्सर अकेले रहने पर इन्हें अपनी भावनाएं व्यक्त करना नहीं आता। ख़ुशी में कैसे व्यवहार करना है या ग़ुस्से में किस तरह संयम बरतना है ये जानना इनके लिए मुश्किलभरा होता है। इसलिए प्यार जताना या अपनी बात को रखना इनके लिए आसान नहीं होता।

आदर करना

अमूमन आज के बच्चों को छोटे और बड़ों से बात करने में अंतर करना नहीं आता है। बाहर लोगों से बात न करने के कारण इन्हें पता ही नहीं रहता कि बड़ों का आदर करना चाहिए व उनसे किस लहज़े में बात करनी चाहिए। इस वजह से वे सभी से एक ही तरह से व्यवहार करते हैं और नजीजतन बेअदब लगते हैं।

माता-पिता की शह

अक्सर देखा जाता है कि बच्चों से सवाल पूछने पर माता-पिता जवाब देते हैं। ऐसे में बच्चे ख़ुद जवाब देने में सक्षम नहीं हो पाते, उन्हें इसकी आदत पड़ जाती है। ऐसे में यदि कोई भी उनसे संबंधित सवाल करता है तो वे माता-पिता का मुंह ताकने लगते हैं।

सुधार कैसे कर सकते हैं...

  1. अधिकतर बच्चों की दुनिया टी.वी और फोन तक ही सीमित हो गई है। ऐसे बच्चे घर घुस्सू बन जाते हैं जिन्हें बाहर जाकर खेलना, लोगों से मिलना-जुलना या दोस्त बनाना कम ही पसंद होता है।
  2. न बच्चों में सोशल स्किल यानी सामाजिक कौशल विकसित नहीं हो पाता। उन्हें बाहरी दुनिया में किस तरह से बर्ताव करना है या कैसे बातचीत करनी है इसकी जानकारी नहीं होती। ऐसे बच्चों को किस तरह की समस्या आती है और उनमें सोशल स्किल कैसे विकसित कर सकते हैं, आइए जानते हैं।
  3. बच्चों को सोशल स्किल 5 साल की उम्र से सिखाना शुरू कर देना चाहिए। इस उम्र तक बच्चों का मस्तिष्क काफ़ी हद तक विकसित हो जाता है।
  4. परिवारिक समारोह में या मेहमानों के आने पर उसे भी साथ शामिल करें। बच्चों से ये कहना कि आप अपने कमरे में खेलो, बच्चे को अकेला कर देता है।
  5. माता-पिता बच्चों को जब हर चीज़ में शामिल करेंगे तो उन्हें बच्चों को अलग से सिखाना नहीं पड़ेगा कि, बड़ों के नमस्ते करिए, पैर छूइए या इस तरह से बैठिए। बच्चे ये सब ख़ुद ही सीख जाएंगे।
  6. बच्चों से जब भी बात करें तो उनसे आंख मिलाकर बात करें। उन्हें भी यही समझाएं कि बात करते समय यहां-वहां देखने की बजाय आंखों में देखकर बात करें।
  7. किसी बाहरी व्यक्ति द्वारा सवाल पूछने पर बच्चे को ख़ुद उसका जवाब देने दें। इससे उसे अपनी बात रखनी आएगी और उसका आत्मविश्वास भी बढ़ेगा।
  8. बच्चा यदि टी.वी या फोन अधिक इस्तेमाल करता है तो उसे किताब पढ़ाना शुरू करें। इसके लिए पहले ख़ुद किताब लेकर बैठें। ऐसा न हो कि आप फोन चलाएं और बच्चे को पढ़ने के लिए कहें।
  9. घर में साथ बैठकर फिल्म या कार्टून देखने की बजाय बच्चे को पार्क लेकर जाएं। इससे उसे नए दोस्त मिलेंगे।
  10. बच्चे के सामने अपनी भावनाएं व्यक्त करें। उससे प्यार जताएं, ग़ुस्सा आने पर उसे समझाएं। इससे वह भी अपनी भावनाएं व्यक्त करना सीखेगा/सीखेगी।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
teach your children how to meet and greet people

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/parenting-tips-teach-your-children-how-to-meet-and-greet-people-126791875.html

अनोखे पहाड़ों, झील, गुफाओं और वॉटर फॉल वाला राज्य है मेघालय


लाइफस्टाइल डेस्क. मेघालय की आबादी लगभग 36 लाख और कुछ क्षेत्रफल 22720 वर्ग मीटर है, जो समुद्र तट से करीब 4900 फीट है। यहां खासी, गारो, असमिया, अंग्रेजी व हिंदी भाषा बोली जाती है। शिलांग मेघालय की राजधानी है। गुवहाटी से 120 किलोमीटर की यात्रा हमने जैसे ही आरंभ की, प्रकृति की वो सारी सुंदरता एक-एक करके हमारे आंखों में समाती गई। ऊंचे पहाड़ उनमें बहते झरने छोटे बड़े तालाब का रंगीन पानी उसमे झांकते पेड़ पौधे मानो कुदरत ने अपनी सारी सुंदरता यहां बिखेर रखी हो। इसी कारण इसे स्कॉटलैंड ऑफ ईस्ट (Scotland of east) भी कहा जाता है।

लिविंग रुट ब्रिज

चेरापूंजी से लगभग 12 किलोमीटर दूरी पर बना यह अद्भुत सेतु है, जिसे लिविंग रूट ब्रिज कहा जाता है। झरने के दोनों ओर खड़े पेड़ों की जड़ों को आपस में गूंथकर बनाया गया है। टायरना ग्राम में तो इस प्रकार का डबल डेकर सेतु बना है, जिसका उपयोग निरंतर पिछले कई वर्षों से किया जा रहा है। यह दुनियाभर में अपनी तरह का एकमात्र सेतु है, जो हमारे देश के इस अनूठे राज्य के निवासियों के कौशल का परिचय तो देता ही है, साथ ही हमें गौरवान्वित भी करता है।

लिविंग रूट ब्रिज।

सेवन सिस्टर्स फाॅल्स

यह खासी हिल्स जिले में मावसाई गांव में स्थित एक सात खंडों वाला झरना है, जो 1033 फीट की ऊंचाई से गिरता है। इसकी औसत चौड़ाई 230 फीट यानी 70 मीटर है। विशेषकर डूबते सूरज के समय निहारने पर यह फॉल बहुत ही खूबसूरत दिखाई देता है। ऐसा प्रतीत होता है मानो इंद्रधनुष के सातों रंग इसमें समा गए हों। यहां स्थानीय लोगों में यह मान्यता है कि साथ खंडों में विभाजित ये सात धाराएं नार्थ ईस्ट के सातों राज्यों का प्रतिनिधित्व करती हैं।

सेवेन सिस्टर फॉल।

उमियम झील

गुवहाटी से मेघालय के मध्य में पड़ने वाली उमियम झील को बरापानी झील के नाम से भी जाना जाता है। यह झील मानव निर्मित होने के साथ अमेरिका की बरमूडा झील से भी बड़ी है। इसे निहारने पर इसकी सुंदरता व भव्यता के साथ मानव के प्राकृतिक प्रेम, साहस व निष्ठा का भी अनूठा परिचय होता है। चेरापूंजी के समीप नोहकलिकाई प्रपात को भारत के सबसे ऊंचे जल प्रपात होने का दर्जा प्राप्त है। इसकी केवल एक धारा जो लगभग 75 फीट चौड़ी है, सीधे 1115 फीट यानी 340 मीटर की ऊंचाई से गिरती है। इसे देखकर रोमांचित होना स्वाभाविक है



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Meghalaya is a state with unique mountains, lakes, caves and water fall.

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/meghalaya-tourist-spot-with-complete-guide-126783542.html

एंडीज़ पर्वतमाला के माच्चू पिच्चू समेत ये हैं दुनिया के सबसे लोकप्रिय टूरिस्ट डेस्टिनेशन


लाइफस्टाइल डेस्क. दुनिया में कई ऐसे ऐतिहासिक स्थल हैं, जो हजारों साल पुराने हैं। इन स्थानोंं का अपना समृद्ध इतिहास है। ऐसी ही प्राचीन विरासतों को समेटे हुए टूरिस्ट डेस्टिनेशंस में से एक है दक्षिण अमेरिकी देश पेरू का माचू पिच्चू पर्वत।

15 वीं शताब्दी में सतह से 2430 मीटर ऊपर यानी एक पहाड़ी के ऊपर बने एक शहर में रहना और उस शहर को बनाना अपने आप में अजूबा ही है। दक्षिण अमेरिका में एंडीज पर्वतों के बीच बसा ‘माचू पिच्चू शहर’ पुरानी इंका सभ्यता का सबसे बड़ा उदाहरण है।

पेरू में स्थित माचू पिच्चू को 1981 में पेरू का एक ऐतिहासिक देवालय घोषित किया गया और 1983 में इसे यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर स्थल की दर्जा दिया गया, क्योंकि इसे स्पेनियों ने इंकाओं पर विजय प्राप्त करने के बाद भी नहीं लूटा था। इसलिए इस स्थान का एक सांस्कृतिक स्थल के रूप में विशेष महत्व है। इसे एक पवित्र स्थान भी माना जाता है, जहां बड़ी संख्या में पर्यटक आते हैं। पर्यटकों की आवाजाही बढ़े, इसलिए इस पुराने स्थल को नए सिरे से तैयार किया गया।

कहां रुकें : यहां आपको हर रेंज में होटल रूम मिल जाएंगे। एक दिन के हिसाब से 2 हजार से 25 हजार के बीच रूम्स उपलब्ध हैं।

कैसे पहुंचें : माचू पिच्चू का करीबी अंतरराष्ट्रीय एअरपोर्ट क्यूस्को है। यहां के लिए बेंग्लुरु, चेन्नई और मुंबई से दो या दो से अधिक स्टॉपेज वाली फ्लाइट्स मिल जाएंगी। इसका किराया सामान्यत: 1.50 लाख रुपए के आसपास है।

जाॅर्डन का ‘पेट्रा’

ऐतिहासिक शहर पेट्रा अपनी विचित्र वास्तुकला के लिए दुनिया के सात अजूबों में शामिल है। यहां तरह-तरह की इमारतें हैं, जो लाल बलुआ पत्थर से बनी हैं। सभी पर बेहतरीन नक्काशी की गई है। इसमें 138 फीट ऊंचा मंदिर, नहरें, पानी के तालाब तथा खुला स्टेडियम है। ‘पेट्रा’ जॉर्डन के लिए विशेष महत्व रखता है, क्याेंकि यह उसकी कमाई का जरिया है। ‘पेट्रा’ पर्यटन के लिहाज से जॉर्डन के लिए सोने के अंडे देने वाली मुर्गी माना जाता है। जाॅर्डन पर्यटन बोर्ड (जेटीबी) के अनुसार जार्डन जाने वाले भारतीय पर्यटकों की संख्या में साल 2016 में 18.40 फीसदी बढ़ोतरी हुई है। पिछले साल से जॉर्डन जाने वाले भारतीय लोगों को मुफ्त वीजा की सुविधा प्रदान की जाती है।

जॉर्डन का पेट्रा।

चिचेन इत्जा, मेक्सिको

मेक्सिको में बसी चिचेन इत्जा नामक यह इमारत दुनिया में माया सभ्यता के गौरवपूर्ण काल की गाथा गाती है। उस समय के कुशल कारीगरों की मेहनत को यह इमारत अपने आप में संजोए हुए है। शहर के बीचोंबीच कुकुलकन का मंदिर है जो 79 फीट की ऊंचाई तक बना है। इसकी चार दिशाओं में 91 सीढ़ियां हैं। प्रत्येक सीढ़ी साल के एक दिन का प्रतीक है और 365 वां दिन ऊपर बना चबूतरा है।

चिचेन, इत्ज़ा।

रोम का कॉलोसियम: आज भी खास है यह स्टेडियम

यह एक विशाल खेल स्टेडियम है, जिसे लगभग 70 ईसवीं में सम्राट वेस्पेसियन ने बनाना शुरू किया था। करीब 8 से 10 साल में यह बनकर तैयार हुआ था। इसमें हजारों लोग इकट्‌ठे होकर जंगली जानवरों और गुलामों की लड़ाइयों के खेल देखते थे। इस स्टेडियम में सांस्कृतिक कार्यक्रम भी होते थे। अपनी अलग ही खूबियों के कारण इस स्टेडियम की नकल करना आज तक नामुमकिन है। दुनिया के अजूबों में से एक यह स्टेडियम इंजीनियरों के लिए अब तक यह एक पहेली बना हुआ है।

रोम का कॉलोसियम।

ऐतिहासिक स्मारकों और धरोहरों का भारतीय अजूबा Hampi, Karnataka

कर्नाटक में स्थित हम्पी को भारत के सात आश्चर्यों में से एक माना जाता है। यह मंदिर का शहर है, जिसे यूनेस्को ने वर्ल्ड हेरिटेज साइट का भी दर्जा दिया है। हम्पी में बहुत से ऐतिहासिक स्मारक और धरोहरे हैं। देश और दुनिया से बड़ी संख्या में पर्यटक इस ऐतिहासिक महत्व रखने वाली जगह आते हैं। 2014 के सांख्यिकी आंकड़ों ंके अनुसार, हम्पी गूगल पर खोजी जाने वाली कर्नाटक की सबसे प्रसिद्ध जगह है।

हम्पी, कर्नाटक।

यह अपने समय में दुनिया के सबसे विशाल और समृद्ध गांवों में से एक था। यह विजयनगर शहर के खंडहरों में ही स्थित है। यह जगह कभी विजयनगर साम्राज्य की राजधानी हुआ करती थी। हम्पी धर्म के लोग भी विजयनगर में ही रहते थे और उन्होंने अपने साम्राज्य में विरूपाक्ष मंदिर और बहुत से ऐतिहासिक स्मारकों का निर्माण भी किया था। 1500 ईस्वी के आस-पास विजयनगर में करीब 5 लाख लोग रहने लगे थे। उस समय यह बीजिंग के बाद दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा शहर था और यह पेरिस की तुलना में कुल 3 गुना बड़ा है। हम्पी के खंडहरों की खोज सन 1800 में कर्नल कोलिन मच्केंजि ने की थी।

अद्भुत आर्किटेक्चर

इस जगह का महत्त्व एेतिहासिक और वास्तुकला दोनों रूप में है। यह जमीन पूरी तरह से विशालकाय पत्थरों की है, जिसका उपयोग जैन देवताओं की मूर्तियां बनाने के लिए किया गया था। आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया ने भी इस जगह पर उत्खनन का काम कर कई बहुमूल्य रत्न और पत्थर खोजे हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
These are the most popular tourist destinations in the world, including Machu Picchu of the Andes ranges

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/these-are-the-most-popular-tourist-destinations-in-the-world-including-machu-picchu-of-the-andes-ranges-126783518.html

रिश्ते की इमारत कई चीजों पर टिकी होती है, भावनाओं में बहकर फैसले न लें, आर्थिक पहलू भी जरूर देखें


लाइफस्टाइल डेस्क. इस कॉलम में हमारी रिलेशनशिप एक्सपर्ट डॉ. निशा खन्ना पाठकों की समस्याओं/जिज्ञासाओं का समाधान कर रही हैं। सवाल पूछने वालों के नाम गोपनीय रखे गए हैं।

सवाल- मैं पांच साल तक एक रिश्ते में रहा। दो साल बाद मेरी पार्टनर किसी के प्रति आकर्षित हुई और कुछ समय तक वह इंसान उसकी ज़िंदगी में रहा। बाद में वह चला गया। लेकिन उसके बाद मैं पार्टनर को इमोशनली एब्यूज़ करने लगा। जब तक मुझे अपनी ग़लती का अहसास हुआ, तब तक हमारा रिश्ता भी ख़राब हो गया। उसका कहना है कि अब फीलिंग्स पूरी तरह खत्म हो चुकी है और वह रिश्ता नहीं रखना चाहती। कोई रास्ता सुझाएं।
जवाब- आप इस बात को बख़ूबी समझ रहे हैं कि रिश्ता तोड़ना आसान है, पर उस पर मरहम लगाना मुश्किल है। मरहम लगाई भी जाए, तो पहले जैसी बात नहीं रह जाती है। बहरहाल, अगर आप उन्हें दोबारा पाना चाहते हैं, तो फिर आपको काफी प्रयास करने होंगे। अगर आप उन्हें प्यार करते हैं, उन्हें सम्मान दे सकते हैं, तो ही आगे बढ़ें। इसके लिए उनका विश्वास हासिल करना, भविष्य की योजना बनाना जरूरी है। आप अब उन्हें बार-बार फोन या मैसेज करके सॉरी ना बोलें, उन पर कोई भी दबाव न बनाएं। प्यार, परवाह, प्रशंसा और उन्हें सम्मान देकर अपनी भावनाएं जाहिर करें, लेकिन इसके लिए आपको खूब सारा वक्त देना होगा।

सवाल- तीन साल पहले मेरी सगाई हुई थी। सगाई के बाद एक लड़का मेरी जिंदगी में आया और मैं उससे प्यार करने लगी। जिससे मैंने सगाई की, मैं उससे प्यार नहीं करती। शादी होती है, तो मैं उसे स्वीकार नहीं कर पाऊंगी। क्या मैं सगाई तोड़कर आगे बढ़ जाऊं या वक्त के साथ सब ठीक होने का इंतजार करूं?
जवाब- रिलेशनशिप की कई उलझनों के जवाब में मैंने पहले भी कहा है कि रिश्ते की बुनियाद भले ही प्यार हो, लेकिन इसकी इमारत कई अन्य चीजों पर टिकी होती है। इसमें विश्वास, समझदारी, संवाद और आर्थिक परिस्थितियां भी शामिल होती हैं। आपको कई बातों का ख्याल रखने की जरूरत है, ताकि भविष्य में आप अपने फैसले पर पछताएं नहीं। पहले अपने दिल औरदिमाग को एक करें। आप दोनों में से देखें कि किसके साथ आपका तालमेल ठीक है (और भविष्य में भी ठीक रहेगा), कौन आपको बेहतर समझता है और आप भी किसे बेहतर तरीके से जानती हैं। आप दोनों में से किसके प्रति क्या महसूस करती हैं, इससे भी ज्यादा जरूरी यह जानना है कि वह आपके लिए कैसा महसूस करते हैं। एक और महत्वपूर्ण पहलू है और वह है आर्थिक स्थिति। ऐसे फैसले भावनाओं में बहकर नहीं लिए जाते। इस रिश्ते को लेकर आपका परिवार क्या रुख रखता है, इस पर भी विचार कर लें। किसी भी रिश्ते की शुरुआत में एक हनीमून पीरियड होता है। उसके बाद सच सामने आना शुरू होता है। सच को अभी से सामने रखकर देखें तो आपके समक्ष स्थिति स्पष्ट हो जाएगी।

सवाल- मेरी पत्नी पिछले कुछ दिनों से एक लड़के से फोन और मैसेज पर बात करती है। वह लड़का कई बार रुखेपन और गुस्से में बात करता है। मैसेज भी बहुत अभद्रता से करता है, लेकिन मेरी पत्नी तब भी उसे मैसेज करती है। वह गुस्सैल और साइको किस्म का लड़का है, लेकिन पत्नी तब भी विनम्र बनी रहती है। मैं टोकता हूं, तो वह मुझ पर ही गुस्सा करती है। मुझे क्या करना चाहिए?
जवाब- आपकी पत्नी का यह व्यवहार सामान्य नहीं है। साफ़ दिख रहा है कि आपकी पत्नी उस व्यक्ति के प्रति भावनात्मक रूप से गहरा जुड़ाव रखती हैं। तभी उसके रूखे व्यवहार के बावजूद वह खुद को बात करने से नहीं रोक पा रही हैं। मेरा सुझाव है कि आप किसी तरह का दबाव बनाने, गुस्सा करने या फ़ोन छीनने जैसी हरकतें बिल्कुल नहीं करें। पत्नी से खुलकर बात करें। उन्हें स्पष्ट कर दें कि आपको उनका उस लड़के से बात करना पसंद नहीं है। अपने स्टैंड पर कायम रहें। पर साथ ही आप पत्नी का पक्ष भी सुनें और यह समझने का प्रयास करें कि आखिर वह उस लड़के के प्रति इतना अटैच क्यों हो रही हैं? मामले को पूरे सकारात्मक तरीके व समझदारी से डील करें।

(आप भी रिलेशनशिप से जुड़ा सवाल rasrang@dbcorp.in पर मेल कर सकते हैं।)



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
foundation of Relationship is based on many things, do not take decisions in emotions, see the economic aspect too

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/foundation-of-relationship-is-based-on-many-things-do-not-take-decisions-in-emotions-see-the-economic-aspect-too-126767581.html

अमेरिका की नौकरी छोड़ गांव की तस्वीर बदलने वाली सरपंच, अब यहां बिजली, पानी और शौचालय वाले 80 फीसदी पक्के मकान


लाइफस्टाइल डेस्क. भोपाल जिले का बरखेड़ी अब्दुल्ला गांव की सूरत दूसरे गांवों से बेहतर है। यहां 80 फीसदी कच्चे मकान पक्के मकानों में तब्दील हो चुके हैं। हर घर में बिजली, पानी और शौचालय की व्यवस्था है। ज्यादातर लोग सरकारी योजनाओं का लाभ उठा रहे हैं। ये बदलाव की हकदार हैं सरपंच भक्ति शर्मा। वह अमेरिका की नौकरी छोड़कर अपने गांव की तस्वीर और तकदीर दोनों बदल रही हैं। अपनी इस उपलब्धित के कारण उन्हें भारत की प्रभावशाली महिलाओं की सूची में शामिल किया गया है। जानिए उनका सफर....

गांव के लिए छोड़ीविदेश की नौकरी
भक्ति शर्मा भोपाल के नूतन कॉलेज से राजनीति विज्ञान की शिक्षा हासिल कर चुकी हैं, और इन दिनों वकालत भी कर रही हैं। सिविल सर्विस करने की इच्छा रखने वाली भक्ति को जब कई बार नाकामयाबी का सामना करना पड़ा तो उन्होंने विदेश जाने का मन बना लिया था। अमेरिका में नौकरी पाने के बाद उन्हें अपनें गांव की जिम्मेदारी का एहसास हुआ और वो भोपाल लौटीं। यहां अपने गांव बरखेड़ी अब्दुल्ला जाना शुरू किया। भोपाल से 20 किलोमीटर दूर स्थित यह गांव कभी पिछड़ा कहलाता था। भक्ति ने साल 2015-16 में अपने पिता और स्थानीय लोगों के कहने पर चुनाव में अपना नामांकन करवया था। भक्ति ने दोगुने वोट हासिल करकेसरपंच का पद पायाऔर कुछ ही सालमें गांव का नक्शा बदल दिया।

भोपाल से 20 किलोमीटर दूर गांव की सरपंच हैं भक्ति शर्मा।

नई सड़कों के साथ गांव में बिजली, पानी की समस्या दूर हुई
भक्ति ने गांव को शहर से जोड़ने वाली सड़कें बनवाईं और गांव के 80 प्रतिशत कच्चे मकानों को भी पक्के मकानों में तब्दील कराया। गांव में जहां पहले बिजली पानी और गरीबी की समस्या थी वहीं अब हर घऱ में बिजली, पानी और शौचालय की सुविधा है। इतना ही नहीं भक्ति ने सभी गांव के लोगों को सरकारी योजनाओँ का लाभ दिलवाकर उन्हें सशक्त और आर्थिक रूप से मज़बूत भी किया है।

शिक्षा के क्षेत्र में भी कर रहीं विकास कार्य
बरखेड़ी अबदुल्ला गांव में कम ही लोग ऐसे थे जो शिक्षित थे। भक्ति ने गांव के लोगों के घर-घर जाकर शिक्षा का महत्व समझाया। गांव की हर सड़क अब स्कूलों से जुड़ी हुई है जहां पहुंचने के लिए बच्चों को साइकिल भी मुहैया करवाई गई है। स्कूलों में बच्चों को मिड डे मील भी दिया जाता है जिससे कुपोषण के आंकड़े गांव में काफी कम हो गए हैं।

हर बच्ची के जन्म पर लगाए जाते हैं 10 पेड़
सरकार की सुविधाओँ के अलावा सरपंच भक्ति ने खुद एक मुहिम शुरू की है। इसके अंतर्गत भक्ति द्वारा बच्ची की मां को बतौर सरपंच मिलने वाला अपना 2 महीने का वेतन उपहार में दिया जाता है। इसके अलावा बरखेड़ी अबदुल्ला गांव में हर बेटी के जन्म की खुशी में 10 पेड़ लगाए जाते हैं। अब तक गांव में 6000 से पौधे लगाए जा चुके हैं जिनमें से 80 प्रतिशत पौधे अब पेड़ बन चुके हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Bhakti Sharma Sarpanch Story; Meet Woman Barkhedi Abdulla Village Sarpanch Bhakti Sharma With An Inspiring Journey

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/url-bhakti-sharma-sarpanch-inspiring-journey-bhopal-barkhedi-abdulla-village-126696137.html

60 साल की उम्र में रात 2 बजे उठकर बुजुर्गों और मरीजों के लिए खाना बनाने वाली दादी जो खुद को बूढ़ा नहीं मानतीं


लाइफस्टाइल डेस्क. केरल के त्रिशूर में रहने वाली 60 वर्षीय विनाया पई के दिन की शुरुआत रात के 2 बजे से ही हो जाती है। उठने का मकसद है बुजुर्गों और मरीजों के लिए पौष्टिक खाना तैयार करना। वह मरीज और बुजुगों की डाइट के मुताबिक खाना बनाती हैं। वह उनकी जरूरत के मुताबिक ही खाने में मसाले और सब्जियों का प्रयोग करती हैं। विनाया इसे तैयार करने में डॉक्टर की सलाह भी लेती हैं।

नाम मात्र के लेती हैं पैसे
विनाया न तो दूसरे उम्रदराज लोगों जैसा जीवन जीती हैं और न ही वह खुद को बुजुर्ग नहीं मानतीं हैं। उम्र की इस पड़ाव वह इतने लोगों का खाना बनाने के लिए किसी की मदद नहीं लेती। वह हर दिन 7 बजे नाश्ता तैयार करती हैं। कुछ लोग उनके घर से खाना लेकर जाते हैं और कुछ लोगों के लिए विनाया होम डिलीवरी की सुविधा भी रखती हैं। इस सुविधा के लिए विनाया नाम मात्र का चार्ज लेती हैं।

बचपन से खाना बनाने का शौक
केरला के कोडुंगल्लर में विनाया के परिवार का एक होटल था। बचपन में वह अक्सर होटल की किचन में जाकर शेफ से सीखा करती थीं। उनका हमेशा से सपना था कि एक फूड चेन की शुरूआत करें। उन्होंने 25 साल की उम्र में बैंक की नौकरी के साथ-साथ पापड़ और चिप्स का बिजनेस शुरू किया था। करेले, कटहल, केले और गाजर के चिप्स बनाकर अपने आस-पास के गांव में बेचा करती थीं।

बैंक की नौकरी छोड़ चिप्स-पापड़ बनाना सिखाने लगी
विनाया को सरकारी योजना जन शिक्षण संस्थान का हिस्सा बनने का मौका मिला था, जिसके लिए उन्होंने अपनी बैंक की नौकरी को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया। इस योजना के मुताबिक, आर्थिक रूप से कमज़ोर और कम पढ़े- लिखे लोगों को ट्रेनिंग दी जाती थी, जिससे आर्थिक स्तर पर मजबूत बन सकें। इस प्रोग्राम में विनाया ने लगभग 10,000 लोगों को पापड़, चिप्स और जैम बनाने की ट्रेनिंग दी थी।

लोगों के लिए खाना बनाने में मिलती है खुशी
विनाया पई का मानना है कि उनका शरीर और दिमाग सही काम कर रहा है। ऐसे में उन्हें अपने ज्ञान का इस्तेमाल कर लोगों की सेवा करनी चाहिए। 2 बजे रात को उठकर खाना बनाना उनके लिए इस बड़ी सेवा के लिए एक छोटी सी बात है। विनाया ने मरीज़ों और बुजुर्गों को उनकी जरूरत के अनुसार खाना पहुंचाने के लिए एक डायरी बनाई हुई है। रोज खाना बनाना शुरू करने से पहले वो इस डायरी को पढ़ती हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Vinaya Pai Kerala; Meet inspiring 60-Year-Old Vinaya Pai! Kerala Thrissur Woman Provide Breakfast (Food) For Sick Person

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/vinaya-pai-kerala-meet-inspiring-60-year-old-vinaya-pai-kerala-thrissur-woman-provide-breakfast-food-for-sick-person-126696275.html

किचन में हर काम आसान करने के लिए आ रहे हैं ये हाइटेक किचन एप्सायंस


लाइफस्टाइल डेस्क. दुनिया भर में जहां इनोवेशन तेज़ी से हो रहा है तो आखिर किचन के गेजेट को कैसे नज़रअंदाज़ किया जा सकता है। भारत में अब तक कई ऐसे किचन एप्लायंस आ चुके हैं जो खाना बनाने और किचन से जुड़े कामों में काफी मददगार साबित हो रहे हैं।

बिल्ट-इन वैक्यूम सीलर

खाने को यदि होल्दी तरीके से स्टोर करना है तो वैक्यूम सील किया जा सकता है। अभी तक वैक्यूम सीलर्स अलग से लेने पड़ते थे, जो महंगे भी होते थे। लेकिन अब बिल्ट-इन वैक्यूम सीलर्स मिला करेंगे। इन्हें किचन कैबिन्स या अप्लाएंस में भी लगवाया जा सकेगा।

बिल्ट इन वेक्यूम सीलर।

मल्टीकुकर

हेल्दी ईटिंग के अंतर्गत अब केवल खाना ही नहीं बल्कि खाना बनाने का तरीका भी शामिल होगा। मल्टी कुकर्स हेल्दी कुकिंग के लिए पहली पसंद बनेंगे। स्लो कुकर की बजाय अब स्टीम बेस्ड विकल्प लिए जाएंगे। स्टीम बेस्ड कुकवेयर में बिना घी-तेल डाले ही पूरा खाना बन जाएगा। स्टीम बेस्ड मील के लिए सभी इंग्रीडिएंट्स इस कुकर में पानी और जरूरी मसाले डालकर एक साथ रख दिए जाएंगे। इस तरह मिनटों में ही खाना पक कर तैयार हो जाएगा।

मल्टीकुकर।

फ्रिज क्रांती

इस साल रेफ्रिजरेटर को भी बड़ा अपग्रेड मिलेगा जिसे यूटिलिटी चेंज कहा जा सकता है। फ्रिज अब बेहद वर्सेटाइल और दोगुना उपयोगी साबित होंगे। फ्रिज पर ब्लैक मैट फिनिश सबसे ज्यादा पसंद की जाएगी। हर तरह के खाने के लिए अलग फू़ड जोेन कॉम्बिनेशन दिए जाएंगे। इनमें फ्लेग्जिबल फू़ड जोन भी होंगे जबकि बाकी जोन खास इंग्रीडिएंट्स के लिए होंगे। फ्रिज पर हैंडल भी नहीं दिखाई देंगे। स्मार्ट टेक्नोलॉजी के चलते अब फ्रिज में ऑटो असिस्ट फीचर भी होगा।

एडवांस फ्रिज।

ब्लूटुथ सिंक

किचन में वायरलेस ब्लूटुथ डिवाइस का इस्तेमाल किया जाएगा। अपने पुराने ओवन के टाइमर या प्री-हीटिंग के लिए आपको इंतजार नहीं करना पड़ेगा। स्टेट-ऑफ -द-आर्ट रेंज माइक्रोवेव और अन्य कनेक्टेड अप्लाएंस के साथ सिंक होगी। आपका ओवन आपके माइक्रोवेव को बताएगा कि टाइमर कब सिंक करना है। जब इसे उपयोग करेंगे तो लाइट अपने आप ही जल जाएगी।

ब्लूटुथ सिंक।

वाईफाई कनेक्शन

मॉडर्न किचन अप्लाएंस अब वायरलेस रूप से कनेक्ट होंगे। इन्हें सीधे स्मार्टफोन से कनेक्ट किया जा सकेगा। आप अपने किचन की लाइटिंग, फ्रिज का टेंप्रेचर,ओवन और स्टोव टॉप्स का टेंप्रेचर, माइक्रोवेव के टाइमर वगैरह भी स्मार्टफोन से ही कंट्रोल कर सकेंगे।

किचन वाई फाई कनेक्शन।

आइसी वाइट लुक

किचन अप्लाएंस और दीवारों पर आइसी वाइट रंग दिखाई देगा। इससे किचन साफ-सुथरा दिखाई देगा और क्लासी भी लगेगा। व्हर्लपूल ने हाल ही में "आइस कलेक्शन'' के नाम से अपना वाइट अप्लायंस कलेक्शन लॉन्च किया है।

आइसी वाइट एप्लायंस।

नॉब्स हटेंगे

भविष्य में लगभग सभी किचन अप्लाएंस में से नॉब्स पूरी तरह से गायब हो जाएंगे। केवल फिंगर टच और स्वाइप कंट्रोल्स होंगे। हाइटेक कंट्रोल्स अब नॉब्स की जगह लेंगे। ये सब इलेक्ट्रोमैग्नेटिक हीट के जरिए संभव होगा। छोटे इंडिकेटर्स भी दिखाई देंगे जिससे फ्लेम को कम ज्यादा कर सकेंगे।

नोब्स।

स्टीम अवन

एक्सपर्ट्स मानते है कि किचन अप्लाएंस में आने वाले समय में सबसे ज्यादा मांग स्टीम अवन की ही होगी। यह हेल्दी कुकिंग का बेहतरीन विकल्प साबित होंगे। इनके अलावा कन्वेक्शन स्टीम अवन भी एक विकल्प होगा।

स्टीम अ‌वन।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
These hitech kitchen apps are coming to make everything easy in the kitchen

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/these-hitech-kitchen-apps-are-coming-to-make-everything-easy-in-the-kitchen-126759893.html

आपके कलेक्शन को परफेक्ट बनाते हैं ये पांच अलग तरह के इयरिंग्स


लाइफस्टाइल डेस्क. इयरिंग्स यूं तो दिखने में बहुत छोटी एसेसरी है, लेकिन लुक को बेहतर बनाने में इसका बड़ा योगदान है। इसमें डिजाइन, रंग और साइज के बहुत सारे ऑप्शन होते हैं। यहां हम ऐसे 5 इयरिंग्स बता रहे हैं, जिन्हें कई आउटफिट्स के साथ पहना जा सकता है और इनका आपके कलेक्शन में होना जरूरी है।

सिल्वर झुमका

सिल्वर झुमका हर भारतीय आउटफिट के साथ पेयर कर सकती हैं, साथ ही वेस्टर्न ऑउटफिट्स को इंडियन टच देने के लिए भी इन्हें पहन सकती हंै। कैजुअल डे के लिए सिंपल कुर्ता को जींस और सिल्वर झुमका के साथ पहनें। अगर ज्वेलरी ज्यादा पसंद नहीं हैं लेकिन फिर भी लहंगा लुक को बेहतर बनाना चाहती हैं तो ये इयरिंग्स पहन सकती हैं।

सिल्वर चेन झुमका।

मिनिमलिस्टिक इयरिंग्स

अब ‘लेस इज मोर’ कंसेप्ट ट्रेंड में है। ये इयरिंग्स भी यही संदेश देते हैं। किसी भी आउटफिट को कंप्लीट करने के लिए इन्हें पहन सकती हैं। इनके साथ सिंपल सॉलिड कलर ड्रेस पहनकर खास दिख सकती हैं। नाइट पार्टी के लिए इन्हें कंट्रास्ट रंग की ड्रेस के साथ पहनिए। स्लिम फिट टॉप और स्किनी जींस के साथ भी इन्हें पहन सकती हैं।

मिनिमलिस्ट इयरिंग्स।

डायमंड स्टड्स

इनके साथ कोई और एसेसरी की जरूरत नहीं पड़ेगी। इन्हें ऑफिस से लेकर कॉकटेल पार्टीज तक में पहन सकती हैं। ऑफिस लुक के लिए इन्हें पैंट सूट या स्ट्रेट स्कर्ट और ब्लाउज़ के साथ पेयर करें। नाइट पार्टी में स्टेलिटोज़ और कॉकटेल ड्रेस के साथ पहन सकती हैं।

सिल्वर स्टड्स

स्टेटमेंट इयरिंग्स

आउटफिट और एसेसरीज के जरिए खुद को एक्सप्रेस करना ट्रेंड में है। इयरिंग्स के जरिए भी शांति का संदेश दे सकती हैं। पोनी बनाकर, सिंपल टी-शर्ट और जींस के साथ ये इयरिंग्स अच्छा लुक देते हैं। पार्टी के लिए इन्हें लिटिल ब्लैक ड्रेस और स्क्रैपी हील्स व क्लच के साथ पेयर करें।

स्टेटमेंट इयरिंग्स।

गोल्ड हूप्स

गोल्ड हूप हर आउटफिट के साथ अच्छे लगते हैं। फिर चाहे कैजुअलआउटिंग के लिए जा रही हों या कॉकटेल पार्टी में। डे लुक के लिए इनके साथ टीशर्ट व जींस पहनेंं। ब्रंच के लिए इन इयरिंग्स के साथ फ्लो ड्रेस और चंकी हील्स पहनिए। इन्हें इयरिंग्स के साथ मोनोक्रोमेटिक (जैसे ब्लैक) आउटफिट पहनकर नाइट पार्टी के लिए तैयार हो सकती हैं।

गोल्डन हूप्स।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
These five different earrings make your collection perfect

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/fashion/news/these-five-different-earrings-make-your-collection-perfect-126759764.html

20 कमरों वाले आलीशान घर में बॉलरूम और नाइटक्लब भी, कीमत है 155 करोड़


लाइफस्टाइल डेस्क. सेन फ्रांसिस्को में एक आलीशान घर अपनी 155 करोड़ कीमत के कारण इन दिनों चर्चा का विषय बना हुआ है। इसे मिनी वर्सेल्स भी कहा जाता है। आखिर क्या है इस घर की खासियत आइए जानते हैं इसके बारे में।

कहा जाता है मिनी वर्सेल्स

द पैलेस ऑफ वर्सेल्स, जो मुख्य रूप से फ्रांस की रॉयल फैमिली का निवास स्थान रहा है। ये अपने वैभवशाली बनावट के कारण जाना जाता है। ठीक उसी राजसी ठाट वाला सेन फ्रान्सिस्को का एक घर मिनी वर्सेल्स भी इन दिनों बिकने को तैयार है। इसकी कीमत 155 करोड़ रुपए रखी गई है।

मिनी वर्सल्स।

क्या है खास इस पैलेस में

इस आलीशान घर में 20 कमरे, 6 बाथरूम, 9 शयन कक्ष, 3 पावर रूम्स और 2 किचन, 2 बार और पैंट्री हैं। 17,895 स्क्वेयर फीट लिविंग स्पेस एरिया में बालरूम,नाइटक्लब-स्टाइल व कई एंटरटेनिंग एरिया भी हैं। इस घर को कोशलैंड हाउस के नाम से भी जाना जाता है, जिसे 1904 में बनाया गया था। कोशलैंड एक धनी व्यापारी था, जो मूल रूप से ऊन और फर के बिजनेस से जुड़ा था।

क्लासिकल फ्रेंच आर्किटेक्चर में बना आलीशान घर का लिविंग रूम।

घर में मोरक्कन स्टाइल का डाइनिंग रूम भी हैं। ये सेन फ्रान्सिस्को की ऐतिहासिक इमारतों में दर्ज है।

2014 में सिंगर टेलर स्विफ्ट द्वारा भी इस घर को खरीदे जाने की चर्चा रही है। फ्रेंच क्वीन के सम्मान में यहां पार्टी भी आयोजित की जा चुकी है। टेक गुरू हेसले माइनर 2007 में इस घर को खरीद चुके हैं।

बाहर से ऐसा दिखता है आलीशान घर।

वर्तमान में इसके मालिक उद्योगपति रोन जेनकोव हैं, जिन्होंने 2016 में ये प्रॉपर्टी खरीदी और फिर इसे रिनोवेट करवाया और अब बेच रहे हैं इसे। इस घर को भूकंप से भी नुकसान पहुंच चुका है।

अंदर से बेहद लग्ज़री है घर।

यहां 3 मंजिला संगमरमर का प्रवेश द्वार भी है, जो ठीक मुख्य रॉयल पैलेस की तर्ज पर बनाया गया है।

इस घर के लिविंग रूम को क्लासिकल फ्रेंच आर्किटेक्चर देकर बनाया गया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Apart from 20 rooms, this luxurious house also has ballroom and nightclub, the price is 155 crores

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/home-decor/news/mini-varsailles-mansion-is-worth-155-crores-see-photos-here-126759715.html

2030 तक बाल विवाह को जड़ से खत्म करने की जंग है जारी, शिक्षा और जागरुकता से मिल रहा है हल


लाइफस्टाइल डेस्क. भारत के हर क्षेत्र में जहां तरक्की हो रही हैं वहीं बाल विवाह जैसी कुप्रथाओं पर भी रोक लगाने का कार्य जोरों पर है। कई सालों से बच्चों को शिक्षा की ओर ले जाकर बाल विवाह की दर में कमी लाई गई है। लगातार कोशिश करने के बावजूद कुछ जगहों पर कम उम्र में लड़कियों की शादी करवाए जाने का आंकड़े अब भी ज्यादा है। इस कुप्रथा का कारण जहां लोगों का कम पढ़ा लिखा होना बताया जा रहा है वहीं सरकार ने शिक्षा और जागरुकता को बढ़ावा देकर साल 2030 तक बाल विवाह को पूरी तरह से खत्म करने का लक्ष्य बनाया है।

10 सालों में दिखा बड़ा बदलाव
राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस) के संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष के संजय कुमार ने आयु-स्तर के आंकड़ों का उपयोग करते हुए बताया है कि बाल विवाह की दर 1970 में 58 प्रतिशत से घटकर 2015-16 में मात्र 21 प्रतिशत ही रह गई है। इसके अलावा महिलाओं के लिए विवाह की औसत आयु भी बढ़ रही है। 2005-06 में महिलाओं के लिए पहली शादी की औसत आयु 17 वर्ष थी जो 2015-16 में 19 हो गई है।

क्या है बाल विवाह की असल वजह?
लड़कियों का शिक्षा से वंचित रहना:
कई गांव में देखा गया है कि अधिकतर जल्दी शादी करने वाली लड़िकयां वहीं हैं जिन्होंने या तो पढ़ाई ही नहीं की या तो वो जो प्राथमिक शिक्षा के बाद ही घर बैठ गईं। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण में दर्शाए गए आंकड़ो के अनुसार 45 प्रतिशत बिना पढ़ी लिखी और 40 प्रतिशत कम पढ़ी लिखी लड़कियां सूची में शामिल हैं। एनएफएचएस के संजय कुमार बताते हैं कि पढ़ाई का एक साल बढ़ाने से शादी में 0.4 साल की बढ़ोतरी हो सकती है।
गरीबी या दकियानूसी विचारों का समर्थन:एक रिसर्च के द्वारा बताया गया है कि कम उम्र में शादी करने वालों मे 30 प्रतिशत से ज्यादा महिलाएं आर्थिक रुप से कमज़ोर परिवार से थीं। गांव में आज भी कुछ लोग इतनी गरीबी में रहते हैं कि उनके पास दो वक्त का खाना तक नहीं है। ऐसे में शादी करवाने से बच्ची की परवरिश का खर्च और उसकी शिक्षा का खर्च कम हो जाता है। वहीं इन आंकड़ों में ग्रामीण क्षेत्रों के एसटी और एससी जाति वालों की संख्या और भी ज्यादा थी। गांव की कुछ रिती रिवाज़ भी बाल विवाह का एक बड़ा कारण है।

2030 तक खत्म होंगे बाल विवाह के मामले
संयुक्त राष्ट्र के सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल के तहत भारत ने साल 2030 तक बाल विवाह को पूर्ण रूप से खत्म करने का आश्वासन दिया है। इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए भारत में महिलाओं को शिक्षा की ओर ले जाना बेहद जरूरी है। भारत के कई गांव इतने पिछड़े हुए हैं जहां शिक्षा और जागरुकता की कमी है। भारत के हर क्षेत्र में लोगों को जागरुक कर और हर बच्ची को शिक्षा की ओर ले जाकर इन आंकड़ों को खत्म किया जा सकता है। सरकार और कई सारी सस्थाएं मिलकर इस कुप्रथा के खिलाफ जंग लड़ रही हैं।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Child Marriage Rate; Early Child Marriage in India Know Root Causes and Facts

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/child-marriage-india-facts-and-causes-updates-126751733.html

ट्रेंड में हैं पिंक कलर, स्टाइल स्टेटमेंट के लिए पिंक अपनाकर आप भी पा सकते हैं परफेक्ट लुक


लाइफस्टाइल डेस्क. फैशन ट्रेंड चाहे बदलते रहें लेकिन वेलेंटाइन डे पर पिंक के हर शेड की डिमांड हर साल रहती है। ऐसे कई विकल्प हैं जिनमें पिंक का क्रेज देखते ही बनता है।

पिंक शर्ट

बेबी पिंक से लेकर डार्क शेड तक मानसून का लेटेस्ट ट्रेंड है। इसमें कॉटन से लेकर लिनेन तक फैशन में इन हैं। इसके साथ आप ट्राउजर्स ट्राय कर सकते हैं। ये आपको काफी डिसेंट लुक देगा। ब्लू शर्ट के साथ ग्रे पैंट का कॉम्बिनेशन परफेक्ट है। इसके साथ ब्लैक बेल्ट लगाएं।

पिंक फॉर्मल शर्ट।

जंप सूट

जंप सूट की शॉर्ट से लेकर लाॅन्ग वैरायटी अपनी पसंद के अनुसार चुन सकती हैं। आपके स्टाइल को बढ़ाने वाली यह ड्रेस हमेशा कमर से फिट होना चाहिए। इसके साथ स्लीक बेल्ट की पेयिरंग भी अच्छी लगती है। जंप सूट के साथ बैग, जूते और एसेसरीज में कॉन्ट्रास्ट कलर चुन सकती हैं।

पिंक जंप सूट।

सॉलिड कलर ब्लेजर

पिंक शॉर्ट सॉलिड कलर ब्लेजर आप कैजुअल से लेकर पार्टी वियर के साथ पहन सकती हैं। इस तरह के ब्लेजर व्हाइट पैंट के साथ अच्छे लगते हैं। व्हाइट पैंट या जींस के साथ इसकी पेयरिंग आउटिंग के लिए परफेक्ट है। साथ में कंट्रास्ट कलर शूज पहनें।

सॉलिड कलर ब्लेजर।

फुटवियर भी गुलाबी

गर्ल्स के लिए हाई हील से लेकर फ्लैट फुटवियर में पिंक ऑन डिमांड है। ट्रेडिशनल से लेकर वेस्टर्न हर लुक के साथ इसकी पेयरिंग अच्छी लगती है। इसके डिफरेंट शेड पार्टी वियर के साथ भी पसंद किए जाते हैं। पिंक कलर की प्रिंटेड या कोल्हापुरी चप्पल भी आपका लुक बढ़ाने में मदद करेंगी।

पिंक हाई हील्स।

ईयररिंग्स

आपके लुक को बढ़ाने में इस तरह के ईयररिंग्स मदद करेंगे। ये हैवी और लाइट हर तरह की डिजाइन में मिल जाते हैं। इसे पिंक ड्रेस के साथ मैच करके भी पहन सकती हैं। इसमें सोने, मेटल, मोतियों के अलावा पॉम पॉम या फर वाली डिजाइन खूब पसंद की जाती है। इसे मिक्स एंड मैच करके पहनें।

पिंक कलर में थ्रेड ईयररिंग।

इन बातों का रखें ध्यान

  1. पिंक के साथ ग्रीन या व्हाइट का कॉम्बिनेशन इस दिनों ट्रेंडिंग है। नाइट पार्टी के लिए पिंक ड्रेस को गोल्ड थ्रेड वर्क से सजा सकती हैं।
  2. इस कलर के साथ माेनोक्रोमेटिक मेकअप सूट करता है। इसमें आंख, गाल और होंठों का मेकअप एक ही कलर या उसके शेड से किया जाता है।
  3. पिंक कलर के लाइट या डार्क शेड वाले एथनिक वियर के साथ लेस युक्त या ऑक्सीडाइज्ड ऐसेसरीज का चयन कर सबसे अलग नजर आएं।
  4. सेमी ट्रांसपरेंट जैली सैंडिल और स्टिलेटोस आपको स्टाइलिश लुक देंगे। आप हाई हील बूट्स या पम्प्स जैसे फुटवियर से भी पार्टी में छा सकती हैं।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Pink color is in trend, you can also get perfect look by adopting pink for style statement

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/fashion/news/pink-color-is-in-trend-you-can-also-get-perfect-look-by-adopting-pink-for-style-statement-126751504.html

इस खास दिन आंखों की खूबसूरती बढ़ाने के लिए आप भी इस्तेमाल करें पिंक आईलाइनर


लाइफस्टाइल डेस्क.आंखों का मेकअप आपके ओवरऑल लुक को कई तरह से प्रभावित करता है। अगर आप एक जैसा मेकअप करके बोर हो गई हैं,तो पिंक के डार्क या लाइट आईलाइनर आंखों की सुंदरता बढ़ा सकते हैं।

एक्सपेरिमेंट करें

जब मेकअप की बात आती है तो हम हमेशा एक से ही प्रॉडक्ट्स इस्तेमाल करते हैं। ज्यादातर रेड लिपस्टिक, ब्लैक आईलाइनर, मस्कारा और बस हो गया। कलर्स के साथ एक्सपेरिमेंट करने में काफी एफर्ट्स की जरूरत होती है खासकर आई मेकअप के मामले में। लेकिन अगर आप आई मेकअप करना पसंद करती हैं और कुछ डिफरेंट करना चाहती हैं पिंक आईलाइनर के साथ एक्सपेरिमेंट करने का यह सबसे अच्छा टाइम हो सकता है।

छाया हुआ है ट्रेंड

पिंक आईलाइनर आपके लुक को बदलने में मदद करता है। यही वजह है कि इस साल यह ट्रेंड छाया हुआ है। इन दिनों कई सारे ब्रांड्स अलग-अलग कलर्स में आईलाइनर लाॅन्च कर रहे हैं। इन सबके बीच रेड कलर काफी ट्रेंड में है। अगर आप इसके दो कोट लगाना पसंद नहीं करतीं तो एक कोट पिंक आईलाइनर का लगाकर इसके ऊपर दूसरा कोट ब्लैक आईलाइनर का लगा सकती हैं।

तुरंत बदलेगा लुक

पिंक एक सॉफ्ट कलर है और सभी को पसंद होता है। अगर आईलाइनर की बात करें तो इससे आंखों में अलग चमक आ जाती है। जो गर्ल्स ग्लिटर युक्त मेकअप करना पसंद करती हैं, वे भी पिंक आईलाइनर के साथ डिफरेंट एक्सपेरिमेंट करके अपना लुक बढ़ा सकती हैं। यह ब्रंच या नाइट आउट के लिए आपका लुक तुरंत बदल देगा। इसके साथ कंट्रास्ट कलर की लिपस्टिक भी सूट होती है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Use pink eyeliner to enhance the beauty of eyes on this special day.

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/beauty/news/valentines-day-eye-makeup-pink-eyeliner-will-make-your-look-more-gorgeous-126751557.html

वेलेंटाइन डे के दिन डेट पर जा रही हैं तो इन 5 ड्रेसेज से पाएं ग्लैमरस लुक


लाइफस्टाइल डेस्क.अगर आप डेट पर जा रही हैं तो अपनी खूबसूरती को फ्लॉन्ट करने के लिए स्टाइिलश ड्रेस के साथ ही सही फैब्रिक का सिलेक्शन भी जरूर करें।

है।

शिमर वन पीस

अगर आप ग्लैमरस लुक पाना चाहती हैं, तो रेड या ब्लैक जैसे डार्क कलर से अपनी वन पीस ड्रेस का आकर्षण बढ़ाएं। इसे आप डिनर डेट के लिए भी कैरी कर सकती हैं। इसका लुक बढ़ाने के लिए स्टेटमेंट ज्वेलरी पहन सकती हैं।

शिमरी वन पीस ड्रेस।

एसिमेट्रिकल कुर्ते

इस तरह के कुर्ते डिफरेंट कॉम्बिनेशन वाले चूड़ीदार या लेगिंग्स के साथ पहन सकती हैं। कुर्ते का लुक बढ़ाने के लिए बॉटम से मैच करती हुई पाइपिंग लगाई जा सकती है। इसके साथ आप सिल्वर, गोल्ड या ऑक्सीडाइज्ड ईयरिंग्स पहनें।

एसिमेट्रिक कुरता

साड़ी गाउन

आप अगर गाउन को डिफरेंट स्टाइल में ट्राय करना चाहती हैं, तो साड़ी गाउन स्टाइल अपनाएं। इस ड्रेस के किनारों को छोटे-छोटे मोती लगाकर आकर्षक बनाया जा सकता है। इस पर लॉन्ग स्लीव्स ब्लाउज भी अच्छा लगता है।

साड़ी गाउन।

मैक्सी ड्रेस

इसके अलग-अलग ऑप्शंस ट्राय करके देखें। ये ड्रेस ब्राइट कलर बेल्ट के साथ भी पसंद की जाती है। बोहो लुक के लिए आप इस ड्रेस के साथ फेदर या मेटल ज्वेलरी मैच कर सकती हैं। वहीं काफ्तान ड्रेस में स्ट्राइप्स यूनिक स्टाइल स्टेटमेंट देंगे।

फुल लेंथ मेक्सी ड्रेस।

क्रॉप टॉप

प्रिंटेड लॉन्ग लाइन श्रग के साथ क्रॉप टॉप और पलाजो का कॉम्बिनेशन सूट हो रहा है। इसके साथ कोल्हापुरी चप्पल से अपने लुक को कंप्लीट करें। क्रॉप टॉप के साथ सिंपल हेयर स्टाइल भी अच्छी लगती है। आप कानों में पर्ल या व्हाइट डिजाइन के लॉन्ग ईयरिंग्स पहनकर ब्यूटी बढ़ा सकती हैं। क्रॉप टॉप की पेयरिंग जींस के साथ भी काफी सूट करती है।

क्रॉप टॉप के साथ डेनिम।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Wear These 5 Beautiful Dresses In Valentine's Day Date

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/fashion/news/valentines-day-these-5-dresses-will-make-you-look-gorgeous-in-date-126751554.html

अपने पार्टनर की ड्रेस से ट्वीन करके आप भी बनाइए अपना वेलेंटाइन्स डे स्पेशल


लाइफस्टाइल डेस्क. वेलेंटाइन डे पर देश-विदेश के टॉप फैशन डिजाइनर्स कपल की एक जैसी ड्रेस को बढ़ावा देने के लिए शानदार आउटफिट्स डिजाइन कर रहे हैं। आप इनकी एक से बढ़कर एक डिजाइन चुन हर अवसर को खास बना सकते हैं।

कैजुअल मैचिंग

अपने पार्टनर की ड्रेस से मैच करता हुआ शर्ट आप पर खूब जंचेगा। इन दाेनों ने एक जैसे कलर कॉम्बिनेशन से अपने लुक को खास बनाया है। लड़की की वन पीस ड्रेस से लड़के ने अपने शर्ट को मैच किया है। इस तरह की ड्रेस के साथ मैचिंग एसेसरीज भी अच्छी लगती है।

कैजुअल पार्टी में एक जैसे कपड़े पहने हुए कपल्स।

कॉरपोरेट वियर हो ऐसा

एक जैसे कलर कॉम्बीनेशन वाली यह ड्रेस बिजनेस वियर के तौर पर खूब पसंद की जाती है। अगर आप इस तरह के आउटफिट्स पहनना पसंद नहीं करते तो अपने पार्टनर के कपड़े से मैच करती हुई टाई या मफलर भी पहन सकते हैं।

ऑफिस लुक में ट्वीन करते हुए कपल्स।

एथनिक वियर हो ऐसा

पिंक कलर बंधगले के साथ व्हाइट कुर्ते पजामे का कॉम्बिनेशन दूल्हे के लुक को खास बनाएगा। इसी से मैच दुल्हन के लहंगे व दुपट्‌टे को बखूबी डिजाइन किया गया है। इसके साथ कुंदन की ज्वेलरी खूब जंचेगी।

एक जैसे रंग की ड्रेस में कपल्स।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
make your Valentine's Day special by tweaking your partner's dress.

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/fashion/news/valentines-day-special-look-for-couples-126751555.html

न्यूज एंकर को खबर पढ़ते-पढ़ते खुद को अवाॅर्ड मिलने का पता चला, स्पीचलेस हुईं: वीडियो वायरल


कोच्चि. केरल की एक न्यूज एंकर का अवॉर्ड मिलने से जुड़ा एक वीडियो वायरल हो रहा है। दरअसल, बुधवार को मलयालम चैनल में न्‍यूज एंकर और चीफ सब एडिटर श्रीजा श्‍याम की तरह बुलेटिन पढ़ रही थीं। इस दौरान वह उन लोगों के बारे में बता रही थीं, जिन्‍हें केरल सरकार के मीडिया अवॉर्ड्स 2019 के लिए चुना गया था। तभी श्रीजा को प्रॉम्‍पटर पर अपना नाम दिखा तो वो असमंजस में पड़ गईं और कुछ सेकंड के लिए स्पीचलेस हो गईं।

उन्‍हें बेस्‍ट न्‍यूज एंकर अवॉर्ड के लिए चुना गया है। पूरे बुलेटिन के दौरान श्रीजा श्‍याम अपनी हंसी और खुशी को छिपाती नजर आईं। बाद में उन्होंने बताया कि मैं उस वक्त अचंभित रह गई थी। सामने न्यूज डेस्क पर सभी लोग मुझे देखकर हंस रहे थे। वाकई वहलम्हामेरे लिए बहुत यादगार था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
श्रीजा श्‍याम मलयालम न्यूज चैनल मातृभूमि में न्‍यूज एंकर और चीफ सब एडिटर हैं।

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/interesting/news/news-anchor-revealed-in-live-bulletin-news-of-himself-getting-award-speechless-video-goes-viral-126743339.html

नौकरी छोड़कर बच्चों की जिंदगी में रंग भरने वाली ऋचा, खाना, पढ़ाई और यूनिफॉर्म का उठाती हैं खर्च


लाइफस्टाइल डेस्क. दिल्ली में रहने वाली ऋचा प्रशांत नौकरी छोड़कर गरीब बच्चों की परवरिश की जिम्मेदारी उठा रही हैं। 10 सालों में वह हज़ारों बच्चों के बचपन में रंग भर चुकी हैं। 2009 से लेकर अब तक 1 लाख बच्चों को मिड डे मील, 1500 कंबल और 1000 यूनिफॉर्म डोनेट कर चुकी हैं। ऋचा सुनय फाउंडेशन चलाती हैं जिसकी मदद से 300-400 गरीब बच्चों की पढ़ाई, स्टेशनरी, मिड-डे-मील, स्कूल यूनिफॉर्म और कंबल का खर्च उठाती हैं। इस फाउंडेशन में 8 से 80 साल तक के लगभग 100 वॉलंटियर जुड़े हैं जो सामान से लेकर फंडिंग तक उनकी मदद करते हैं। ऋचा ने कई गरीब बच्चों का दाखिला प्राइ‌वेट स्कूल में भी करावाया है।

ऐसे बच्चों की करती हैं मदद
ऋचा ऐसे बच्चों की जिम्मेदारी उठाती हैं जिनके मां-बाप या तो बेहद गरीब हैं या मज़दूरी करने के कारण उनकी शिक्षा और परवरिश में ध्यान नहीं दे पाते। इन बच्चों को रोजाना ऋचा 3 से 4 घंटो के लिए अपने सस्थांन में रखकर पढ़ाती हैं। सुनय फाउंडेशन का लक्ष्य है कि वो ज़रूरतमंद बच्चों को सही शिक्षा और स्किल ट्रेनिंग देकर उनका भविष्य संवार सकें।

बच्चों को पढ़ाती हईं ऋचा।


महिलाओं को कर रहे सशक्त
ऋचा प्रशांत ने 2009 में नौकरी को हमेशा के लिए अलविदा कहा और सुनय फाउंडेशन की नींव रखी। धीरे-धीरे लोग मदद के लिए सामने आते गए और इसका दायरा बढ़ता गया। फाउंडेशन के तहत जरूरतमंदर महिलाओं को स्किल डेवलपमेंट की ट्रेनिंग दी जाती है ताकि वो अपने पैरों पर खड़ी हो सकें। कुछ महिलाएं ऐसी भी हैं जो ट्रेनिंग लेकर उन्हीं के संस्थान में गरीब बच्चों की टीचर, ट्रेनर और कोऑर्डिनेटर का काम संभाल रही हैं।

सही राह के लिए कोशिश जरूरी
शिक्षा के साथ-साथ बच्चों को ज़रूरी सेमिनार और वर्कशॉप्स में भी शामिल किया जाता है। बच्चों को नशे और लिंग भेदभाव की जानकारियों देकर जागरुक करते हैं। फाउंडेशन से जुड़े एक्सपर्ट कहानियों और मोटिवेशनल बातें भी सुनाई जाती है जिससे सही मार्ग पर आगे बढ़ें।

सुनय फाउंडेशन के बच्चों के साथ ऋचा प्रशांत।

प्राइवेट स्कूलों में 500 बच्चों का दाखिला कराया
फाउंडेशन अब तक ईडब्लूएस कोटे से 500 बच्चों का प्राइवेट स्कूलों में एडमिशन करवा चुका है। कुछ गरीब बच्चे शहर के नामी स्कूलों में भी पढ़ रहे हैं। दिल्ली, कोलकत्ता और बिहार के 300 से 400 बच्चों को मदद मिल रही है। दिल्ली के वसंत कुंज के तीन सेंटरों में 300 से 350 बच्चे हैं वहीं बिहार में केवल 50 हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Richa Prashant; Meet Delhi Inspiring Women Richa Prashant Sunaayy Foundation Who Support For Poor Children

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/meet-delhi-inspiring-women-richa-prashant-sunaayy-foundation-who-support-for-poor-children-126704464.html

कामकाजी महिलाएं प्रेग्नेंसी में ऐसे रखें अपनी सेहत का ख्याल


लाइफस्टाइल डेस्क. इंटरनेशन जर्नल ऑफ कम्यूनिटी मेडिसिन एंड पब्लिक हेल्थ (IJCMP) की रिपोर्ट के अनुसार विश्व में तकरीबन 5,29,000 महिलाओं की मौत प्रेग्नेंसी के दौरान होती है जिनमें एक कारण हाई रिस्क प्रेग्नेंसी भी है। वहीं भारत में हाई रिस्क प्रेग्नेंसी की दर 20-30% है। बात अगर कामकाजी महिलाओं की हो तो भागदौड़ के बीच उनके लिए अपनी सेहत का ख्याल रखना मुश्किल होता है। ऐसे में कुछ उपाय अपनाए जा सकते हैं।

जरूर करें नाश्ता

ऑफिस जाने की जल्दबाजी में अधिकांश कामकाजी महिलाएं ब्रेकफास्ट इग्नोर कर देती हैं। लेकिन प्रेग्नेंसी के दौरान आपकी यह लापरवाही समस्या पैदा कर सकती है। ब्रेकफास्ट को दिन का सबसे महत्वपूर्ण भोजन माना जाता है। प्रेग्नेंसी के दौरान इसका महत्व और बढ़ जाता है। नाश्ता न करने से गर्भ में पल रहे शिशु पर भी बुरा असर पड़ता है। इसलिए सुबह का नाश्ता स्किप न करें। ध्यान रखें कि ब्रेकफास्ट में तरल पदार्थ जैसे जूस, शेक आदि लेने से बचें। इससे मतली आ सकती है।

खुद को रखें हाइड्रेट

प्रेग्नेंसी के दौरान हर महिला को पर्याप्त पानी पीना जरूरी है और कामकाजी महिलाओं को खासतौर पर इस बात का ख्याल रखना चाहिए। प्रेग्नेंसी में कम पानी पीना खतरनाक साबित हो सकता है। दरअसल प्रेग्नेंसी के दौरान आपके शरीर में हो रहे बदलावों की जरूरतों को पूरा करने के लिए अधिक पानी पीने की आवश्यकता पड़ती है। यह आपको डिहाइड्रेशन से बचाता है।

न खाएं जंक फूड

ऑफिस में ज्यादा समय रहने के दौरान आपको भूख लगना स्वाभाविक है, ऐसे में ज्यादातर गर्भवती महिलाएं भूख लगने पर जंक और पैकेज्ड फूड या फिर अनहेल्दी चीजें खाने लगती हैं। ऐसे भोजन में कार्बोहाइड्रेट/वसा तो भरपूर होती ही है, लेकिन पोषक पदार्थों की कमी होती है। एक नए शोध में पाया गया है कि गर्भावस्था के दौरान चिप्स, नूडल्स और बर्गर जैसे जंक फूड का सेवन होने वाले बच्चे के लिए उसी तरह घातक हो सकता है, जैसा कि धूम्रपान। इसीलिए जंक फूड को नजरअंदाज करें।

ब्रेक है जरूरी

प्रेग्नेंसी के दौरान ऑफिस की कुर्सी पर 8 से 9 घंटे न बैठें। ऐसा करने से आपके बॉडी पोश्चर और पीठ में दर्द की शिकायत बढ़ सकती है। इस परेशानी से बचने के लिए काम के बीच में ब्रेक जरूरी है। पानी पीने के लिए उठें या फिर कॉरिडोर में टहलें। इन दिनों आप ऐसा कोई काम न करें, जिसमें भागदौड़ ज्यादा हो। ऐसा करने से आपको कॉम्प्लीकेशंस भी हो सकते हैं। हमेशा धीमे-धीमे चलें और बार-बार सीढ़ी चढ़ने- उतरने से बचें।

रेडिएशन से बनाएं दूरी

कोशिश करें कि उन चीजों से दूर रहें, जिनसे रेडिएशन का खतरा ज्यादा बढ़ जाता है। सोते समय मोबाइल को खुद से दूर रखें। गोद में लैपटॉप लेकर काम न करें और ऑफिस में सर्वर रूम के आस-पास भी न जाएं। इसके अलावा ऑफिस में कुर्सी पर बैठकर काम करते समय पैरों को लटकाकर न रखें। अपनी टेबल के नीचे स्टूल या लेग सपोर्ट रखवा लें। जब भी कुर्सी पर बैठें तो पैरों को सपोर्ट के ऊपर ही रखें। इससे पैरों में सूजन और एड़ियों में दर्द नहीं होता है। इसके अलावा डॉक्टर से चेकअप करवाती रहें।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Working women should take care of their health in pregnancy

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/working-women-should-take-care-of-their-health-in-pregnancy-like-this-126743241.html

दुनिया की सबसे फिट महिला, हफ्ते में 32 घंटे जिम और 10 मील साइक्लिंग करने वाली जिमनास्ट बाइल्स के पास 25 मेडल


लाइफस्टाइल डेस्क. दुनिया की सबसे सफल जिम्नास्ट सिमोन बाइल्स वर्ल्ड चैम्पियनशिप में 25 मेडल जीत चुकी हैं। इनकी उपलब्धियों की डायरी में एक और अवॉर्ड जुड़ा है। अमेरिका की 66 साल पुरानी मैग्जीन स्पोर्ट्स इलस्ट्रेटेड ने दुनिया के टॉप-50 फिट खिलाड़ियों की लिस्ट जारी की। इसमें 25 पुरुष और 25 महिला खिलाड़ी हैं। दुनिया की टॉप 25 महिला खिलाड़ियों में बाइल्स ने लगातार तीसरी बार सबसे फिट महिला का खिताब जीता है।

वर्कआउट :हफ्ते में दो दिन लगातार 5-5 घंटे जिम और दिन में चार बार खाना
22 साल की बाइल्स हफ्ते में 32 घंटे जिम करती हैं। वे सोमवार और बुधवार को लगातार 5-5 घंटे जिम करती हैं। बाइल्स हफ्ते में छह दिन जिम करती हैं। वे 10 मील साइक्लिंग करती हैं। किसी दिन साइक्लिंग नहीं करतीं तो रनिंग करती हैं। बैलेंसिंग के लिए लीपिंग, जंपिंग और बाउंडिंग करती हैं। उनकी पसंदीदा एक्सरसाइज बॉक्स जंप है। वे लगभग 15 मिनट तक दो से तीन सेट इसे करती हैं। बाइल्स दिन में चार बार खाना खाती हैं।

डाइट : हाई प्रोटीन डाइट पर फोकस लेकिन चीट डे भी एंजॉय करती हैं
ब्रेकफास्ट : बाइल्स अपना ब्रेकफास्ट खुद बनाती हैं। एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया, वह नाश्ते में रेड बेरी, व्हाइट एग से दिन की शुरुआत करती हैं। इसे खाने के बाद ही जिम का रुख करती हैं।
लंच : वर्कआउट के बाद 9-12 बजे तक प्रैक्टिस करती हैं इसके बाद दोपहर के खाने में प्रोटीन अधिक लेती हैं। इसके लिए लंच में चिकन और फिश शामिल करती हैं।
डिनर : बाइल्स रात का खाना पोस्ट वर्कआउट के बाद फैमिली मेंबर्स के साथ ही खाती हैं। उनके डिनर में पॉर्क, चावल, फिश और सब्जियां शामिल होती है।
चीट डे : वीमेन हेल्थ मैग्जीन को दिए इंटरव्यू के मुताबिक, बाइल्स कहती हैं आपको दो बातें जानने की जरूरत है, पहली खाना कितना खाना है और कब खाना है। बाइल्स कहती हैं, मैं चीट डे भी एंजॉय करती हूं और पिज्जा खाना पसंद है।

सिलेक्शन :इस आधार पर सिमोन को चुना गया
मैग्जीन में दुनिया के जो 50 खिलाड़ियों चुनते समय कुछ खास ध्यान रखा है। इसमें उनके पिछले 12 महीने का प्रदर्शन, खेल की डिमांड यानी संबंधित खेल की फिजिकल स्ट्रेंथ की जरूरत, ट्रेनिंग और उनकी डाइट शामिल हैं। इसके अलावा उनके फिजिकल बेंचमार्क जैसे- पावर, स्पीड, स्ट्रेंथ, स्फूर्ति, एंड्यूरेंस, फ्लेक्सिबिलिटी, स्टेमिना को भी आधार बनाया गया है।

करियर : पिछले सात साल मेंपांच बार वर्ल्ड चैंपियन का खिताब जीता
बाइल्स पांच बार वर्ल्ड चैंपियन (2013-15,18,19) रही हैं। बाइल्स पांच बार वर्ल्ड फ्लोर एक्सरसाइज चैंपियन, तीन बार वर्ल्ड बैलेंस बीम चैंपियन, दो बार वर्ल्ड वॉल्ट चैंपियन और छह बार यूनाइटेड स्टेट्स नेशनल ऑल अराउंड चैंपियन रही हैं।

6 साल की उम्र में नाना ने लिया था गोद

ब्राइल्स चार भाई-बहन हैं। बचपन में आर्थिक स्थिति ठीक न होने के कारण इनकी परवरिश फोस्टर केयर में हुई। लेकिन 2003 में जब इनके नाना रॉन बाइल्सको इसकी जानकारी हुई तो उन्होंनेआधिकारिक तौर पर ब्राइल्स को अडॉप्ट किया। पढ़ाई से लेकर जिम्नास्ट बनने तक की तैयारियों को पूरा करने मेंनाना ने आर्थिक मदद की।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
worlds most fit women Gymnast Simone Biles sports illustrated magazine released most fittest men and women in the world

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/worlds-most-fit-women-gymnast-simone-biles-sports-illustrated-magazine-released-most-fittest-men-and-women-in-the-world-126727027.html

देश की पहली ट्रांसजेंडर न्यूज़ एंकर हैं पद्मिनी प्रकाश, सामाज कल्याण के लिए उठा रही हैं कदम


लाइफस्टाइल डेस्क. तमिलनाडू की रहने वाली पद्मिनी प्रकाश ने साल 2014 में अपनी किस्मत पूरी तरह से बदल दी। पद्मिनी ने लोटस न्यूज़ चैनल में सात बजे आने वाले प्रोग्राम में न्यूज़ एंकरिंग कर देश की पहली ट्रांसजेड़र न्यूज़ एंकर बनने का इतिहास रचा था। समाज की ट्रांसजेंडरों के प्रति हीन सोच होने के कारण उन्होंने बचपन से ही कई सारी प्रताड़नाओं का सामना किया है। थक हार कर जब पद्मिनी ने सुसाइड करके अपनी जिंदगी को खत्म करने का सोचा तो उन्हें बचाकर एक नई जिंदगी दी गई। पद्मिनी ने ना केवल खुदको अपनाया बल्कि उन्होंने देश के सामने एक मिसाल भी कायम कर दी है। आइए जानते हैं पद्मिनी का प्रेरणादायक सफर...

ट्रांसजेंडर होने के कारण परिवार ने ठुकराया
पद्मिनी बचपन से ही देखने और बोलने में बाकी बच्चों से काफी अलग थीं। जब घरवालों को उनके ट्रांसजेंडर होने का अंदाज़ा हुआ तो उनपर कई सारी पाबंदियां लगा दी गईं। समाज के डर से घरवालों ने उन्हें स्कूल भेज़ने से इनकार कर, बाकी बच्चों के साथ खेलने और बाहर लोगों से मिलने पर भी रोक लगा दी गई थी। अपने घरवालों का ऐसा रवैया देखकर पद्मिनी को अपने अस्तित्व पर ही शर्म आने लगी जिसके बाद उन्होंने घर छोड़कर आत्महत्या करने की कोशिश तक की थी। 13 साल की उम्र में आत्महत्या की नाकाम कोशिश के बाद उनके दोस्तों के परिवार ने उनकी जिम्मेदारी लेने का फैसला किया।

पद्मिनी प्रकाश।

ओपरेशन से बनीं हैं महिला, एक बच्चे को लिया है गोद
सुसाइड से बचने के बाद पद्मिनी को जिंदगी जीने की एक अलग चाह मिली, लेकिन परेशानियां और जिल्लतें उनके सामने बार-बार आती रहीं। पैसों की तंगी के कारण वो अपना ग्रेजुएशन तक पूरा नहीं कर पाईं।साल 2004 में उन्होंने अपना ओपरेशन करवाकर खुद को पूरी तरह महिला बना लिया। इसी साल उनकी शादी पुराने दोस्त नागराज प्रकाश के साथ हो गई, बाद में दोनों ने एक बेटे को गोद लेकर अपना परिवार पूरा कर लिया।

बेटे और पति के साथ पद्मिनी।

टीवी सीरियल में काम से पहले जीता ब्यूटी कोन्टेस्ट
पद्मिनी एक ट्रेंड क्लासिकल डांसर हैं, उन्होंने कई लोगों को भरतनाट्यम की ट्रेनिंग दी है। कुछ तमिल टीवी सीरियल में बतौर एक्ट्रेस काम करने के अलावा पद्मिनी साल 2007 में मिस ट्रांसजेंडर तमिलनाडू और मिस ट्रांसजेंडर इंडिया 2009 भी बन चुकी हैं।

मिस ट्रांसजेंडर इंडिया कोन्टेस्ट की ताजपोशी के बाद पोज़ करती हुईं।

ऐसे रच दिया इतिहास
जब साल 2014 में ट्रांसजेंडर्स को सुप्रीम कोर्ट द्वारा थर्ड जेंडर की मान्यता दी गई तो ट्रांसजेंडरों को नौकरी मिलनी शुरू हो गई थी। कोएंबटूर के लोटस न्यूज़ चैनल में शाम 7 बजे का शो होस्ट करने के लिए किसी ट्रांसजेंडर की ज़रुरत थी। नौकरी की तलाश में दर-दर भटक रहीं पद्मिनी ने इस नौकरी के लिए अर्जी दी। पहले तो उन्हें डर था कि समाज उनकी आ‌वाज़ और उनके अस्तित्व को स्वीकार करेगा या नहीं, मगर दो महीने की ट्रेनिंग के बाद सारे डरों को पीछे छोड़ पद्मिनी एक माहिर एंकर बन गईं। साल 2014 में स्वतंत्रता दिवस के दिन पद्मिनी ने पहली बार टेलीप्रॉम्पटर पर खबर पढ़ी थी जिस दिन के बाद वो देश की पहली ट्रांसजेंडर एंकर बनीं। उनके शो को दर्शकों का खूब प्यार मिला जिससे उनका आत्मविश्वास काफी बढ़ गया।

न्यूज़ एंकरिंग करते हुए पद्मिनी प्रकाश।

नौकरी के बाद मिला सम्मान, आज भी समाज से कर रही हैं लड़ाई
पद्मिनी के हौसले से उन जैसे कई लोगों को नौकरी करने की प्रेरणा मिली है। उनके इस कदम की लोग खूब सराहना करते हैं। अब वो जहां भी जाती हैं लोग उन्हें पहचान कर उनसे ओटोग्राफ मांगते हैं जिससे पद्मिनी को काफी खुशी और सम्मान महसूस होता है। अपने बचपन में समाज द्वारा ठुकराए जाने के कारण पद्मिनी अब अपने जैसे ही लोगों की मदद का काम कर रही हैं। सरकार द्वारा थर्ड जैंडर की मान्यता मिलने के बावजूद समाज की सोच ट्रांसजेंडरों के लिए काफी अलग है। ऐसे में पद्मिनी थर्ड जेंडर के लोगों को उनके हक दिलाने और उनका आत्मविश्वास बढ़ाने का काम कर रही हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Padmini Prakash News Anchor | Meet Padmini Prakash, first India's Tamil Nadu first transgender news anchor

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/padmini-prakash-first-indias-tamil-nadu-first-transgender-news-anchor-126735269.html

90 साल की दादी पोटली पर्स बनाकर कर रही हैं ऑनलाइन बिजनेस, दुनिया भर से मिल रहे ऑर्डर


लाइफस्टाइल डेस्क. असम की रहने वाली 90 की बुजुर्ग महिला लतिका चक्रवर्ती ने 2 साल पहले बिजनेस शुरू करके हर किसी को हैरान कर दिया है। लतिका अपनी 66 साल पुरानी मशीन से खुद पोटली बैग बनाकर उन्हें ऑनलाइन बेचने का काम करती हैं। उनके बनाए हुए बैग्स को इंडिया ही नहीं बल्कि दुनिया के कई देशों में पसंद किया जाता है। इन पोटली बैग्स को बनाने के लिए वो देशभर से इकट्‌ठा की हुई अपनी साड़ियों का इस्तेमाल करती हैं।

सिलाई-कढ़ाई के शौक को बिजनेस में बदला
ढुबरी, असम में पैदा हुईं लतिका को हमेशा से ही सिलाई, कढ़ाई और बुनाई करने का शौक था। वह हमेशा से ही अपने बच्चों को अपने हाथों से बने कपड़े पहनाया करती थीं। जब बच्चे बड़े हुए तो उन्होंने कपड़ों के बैग और गुड़िया बनानी शुरू की। अक्सर लतिका अपने हाथों से बनाई हुई चीज़ें परिवार वालों को खास मौकों पर गिफ्ट किया करती थी, जो लोगों का काफी पसंद आती थीं। कुछ सालों पहले उनकी बहू ने उन्हें पोटली बनाकर बेचने का सुझाव दिया जिसके बाद पोते ने वेबसाइट बनाने और प्रमोशन करने में उनकी मदद की। बिजनेस शुरू होते ही उनके बैग काफी लोकप्रिय हो गए।

सिलाई मशीन में बैग बनातीं लतिका जी।

पुरानी साड़ियों से बनाती हैं पोटली
लतिका के स्वर्गीय पति सर्वे ऑफ इंडिया में कार्यरत थे जिसके कारण उन्हें देश के कई शहरों में रहने का मौका मिला। वह हर शहर से कुछ ना कुछ नया खरीदती रहती थीं इस वजह से उनके पास देश के ज्यादातक शहरों की साड़ियां और सूट हैं। उम्र के इस पड़ाव में लतिका को अब इन साड़ियों को पहनने के मौके कम मिलते हैं इसलिए उन्होंने इसे हटाने के बजाय इनसे बैग बनाने का फैसला किया। उनके हाथ से बनाई गई हर पोटली उनकी पुरानी साड़ी से ही बनी होती है। इस काम में उनकी बहू भी उनकी मदद करती हैं।

लतिका जी के हाथों से बनाए गए बैग।

दुनिया भर से पोटली की डिमांड
90 साल की उम्र में भी लतिका काफी स्टाइलिश और फिनिशिंग के साथ बैग बनाती हैं। उनके बनाए बैग को भारत के साथ-साथ जर्मनी, ओमान और न्यूज़ीलैंड जैसे कई देशों में भी खरीदे जाते हैं। इस उम्र में मशक्कत करने के बाद वो कई दिनों में एक बैग बना पाती हैं इसलिए इनकी कीमत थोड़ी ज्यादा है लेकिन उनकी उम्र देखकर ये पैसे भी कम ही लगते हैं। लतिका की वेबसाइट में हर बैग की कीमत 10 डॉलर रखी गई है जिनमें से कई बैग अब तक बिक चुके हैं।

हाथों से सिलाई करती हुईं।

उम्र भी बढ़ी और हौसला भी
अक्सर लतिका की उम्र के लोग बिस्तर में आराम करते हुए ही देखे जाते हैं, ऐसे में उनका यह काम करना लोगों को प्रेरित करने वाला है। आंखों में चश्मा लगाकर लतिका पति की दी गई 66 साल पुरानी सिलाई मशीन से किस तरह बैग बनाती है ये सोच पाना भी मुश्किल है। बुजुर्ग बिजनेस वुमन की का ये ऑनलाइन बिजनेस वाकई कई लोगों के लिए प्रेरणा का काम कर रहा है।

लतिका चक्रवर्ती।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Latika Chakraborty Bags | Meet This 90-Year-Old woman and Online Entrepreneur from Assam

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/latika-chakraborty-meet-this-90-year-old-woman-and-online-entrepreneur-from-assam-126735289.html

बच्चों को खेल-खेल में सिखाएं संतुलन बनाना, ये तीन गेम्स और व्यायाम करेंगे आपकी मदद


लाइफस्टाइल डेस्क.बढ़ते बच्चों में बेहतर खान-पान के साथ-साथ शारीरिक संतुलन भी उतना ही ज़रूरी है। इससे शरीर मज़बूत बनता है।संतुलन बनाने के लिए उन्हें खेल-खेल में रोचक व्यायाम करा सकते हैं। 6 साल की उम्र तक के बच्चों के लिए रोचक व्यायाम बता रहे हैं। बच्चों के साथ-साथ इन्हें आप भी कर सकते हैं।

कोन जमाना
लगभग 6 से 9 छोटे-छोटे कोन एक कतार में थोड़ा-सा आगे-पीछे रखें। अब बच्चे को एक टांग पर खड़े होकर सभी कोनों को कतार में जमाना है। शुरुआत में हो सकता है कि बच्चे थोड़ा लड़खड़ाएं पर धीमे-धीमे शरीर का संतुल सम्भालना सीख जाएंगे। कोन नहीं हैं तो गेंद या कोन जैसी अन्य चीज़े भी इस्तेमाल में ले सकते हैं।

बैलेंस बनाना सीखते हुए।

गेंद संभाल
एक हाथ में रैकेट पकड़ें और इसका समतल हिस्सा ऊपर की ओर रखें। अब इस पर एक गेंद रखें। अब बच्चे को चलते हुए गेंद का संतुलन बनाने के लिए कहें। जब वह रैकेट और गेंद के बीच संतुलन बनाना सीख जाए, तो इस अभ्यास को दौड़ा-दौड़ाकर कराएं।

रैकेट में बॉल का संतुलन बनाती बच्ची।

लंगड़ी टांग
ये खेल बचपन में सभी ने खेला है। ये संतुलन को बेहतर बहनाने में मददगार है। चॉक या खड़िया से दो कतार में कई खाने बनाएं। अब बच्चे को एक टांग पर खड़ा होना है। दूरी टांग से उचकते हुए एक खंड से दूसरे खंड के अंदर जाना है। ये खंड कई तरह से बना सकते हैं।

गेम में बैलेंस बनाती बच्ची।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
These Simple Games And Excersize Can Improve Your Kids Balance

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/easy-balance-game-excersixe-for-your-children-126735034.html

बालों को रेशमी बनाने और त्वचा में ग्लो के लिए अपनाएं विटामिन-ई कैप्सूल


लाइफस्टाइल डेस्क. पोषण की कमी और गड़बड़ दिनचर्या के कारण त्वचा में रूखापन आ जाता है इसके साथ ही बाल भी झड़ने लगते हैं। ऐसे में विटामिन-ई कैप्सूल इन्हें सेहतमंद रखने में मददगार होते हैं। इसके हाइड्रेटिंग और एंटी-एजिंग गुण त्वचा और बालों के लिए बहुत असरदार हैं। इस कैप्सूल के और भी क्या-क्या फ़ायदे हैं और इसे कैसे इस्तेमाल करना है, इसे समझें...

बालों में लगाने के फ़ायदे जानें

  • एंटीऑक्सीडेंट्स:विटामिन-ई बालों को एंटीऑक्सीडेंट प्रदान कर तनाव से पैदा होने वाले विषैले पदार्थों के असर को कम करता है। यह केवल बालों के लिए ही नहीं बल्कि इसके नियमित इस्तेमाल से रक्त संचार भी सुचारू रहता है।
  • बालों कीबढ़त में मददगार:विटामिन-ई ऑयल बालों को लम्बा करने में मदद करता है। यह कमज़ोर बालों को पोषक-तत्व प्रदान करता है और बालों को सेहतमंद रखता है।
  • बालों की सफ़ेदी रोके:एंटीऑक्सीडेंट्स को नुक़सान पहुंचने के कारण बाल उम्र से पहले सफ़ेद होने लगते हैं। ऐसे में विटामिन-ई का इस्तेमाल इस समस्या से बचाव करता है।
  • रूसी में कमी:विटामिन-ई डैंड्रफ को रोकने और उसे ख़त्म करने में कारगर है। सिर में विटामिन-ई तेल लगाने से सिर की त्वचा नम रहती है और डैंड्रफ पर रोक लगती है।
  • बालों को चमकदार बनाए: नियमित रूप से विटामिन-ई ऑयल लगाने से बालों की गहराई से कंडीशनिंग होती है। इससे बाल पहले की तुलना में स्वस्थ और चमकदार बनते हैं।

इस्तेमाल कैसे करें

  1. बालों की बढ़त के लिए नारियल तेल में विटामिन-ई ऑयल मिलाकर बालों की जड़ों में लगाएं। महीनेभर तक इस मिश्रण को लगाने से बालों की लम्बाई काफ़ी अच्छी हो जाएगी।
  2. सप्ताह में दो बार विटामिन-ई ऑयल से बालों की मसाज करें। इससे बाल सफ़ेद नहीं होंगे।
  3. विटामिन-ई कैप्सूल को शैम्पू, हेयर मास्क, कंडीशनर के साथ मिलाकर इस्तेमाल करें। सिर धोने के पहले तेल में मिलाकर मालिश करें।
विटामिन ई कैप्सूल।

त्वचा पर लगाने के फ़ायदे जानें
काले घेरों से छुटकारा:विटामिन-ई ऑयल को लगाने से चेहरे और शरीर के अन्य हिस्सों पर काले धब्बे दूर होते हैं। इसके अतिरिक्त, आंखों के आसपास पड़ने वाले काले घेरों को दूर करने में भी यह असरदार है। यह त्वचा का रंग निखारने में भी लाभदायक है।
झुर्रियां दूर करे:विटामिन-ई ऑयल कैप्सूल झुर्रियों से लड़ने में मददगार है। यह कोशिकाओं को दुरुस्त करता है और त्वचा को गहराई से मॉइश्चराइज़ करता है।
फेस क्लींज़र:विटामिन-ई ऑयल एक बेहतरीन क्लींज़र का काम करता है। यह त्वचा पर जमी गंदगी और अन्य अशुद्धियों से छुटकारा दिलाता है।
दाग-धब्बों से राहत: विटामिन-ई में एंटीऑक्सिडेंट गुण होते हैं। यह कोलेजेन को बढ़ाता है और दाग-धब्बों को हल्का करता है।
होंठ बनाए ख़ूबसूरत:यह होंठों को फटने से रोकता है। साथ ही रूखेपन से छुटकारा दिलाकर उन्हें मुलायम बनाने में मदद करता है।

इस्तेमाल कैसे करें

  1. विटामिन-ई ऑयल कैप्सूल को रात को लगाए जाने वाले मॉइश्चराइज़र के साथ मिलाएं। इस लोशन को लगाने से शुष्क और क्षतिग्रस्त त्वचा दूर होती है।
  2. आंखों के नीचे काले घेरे हटाने के लिए विटामिन-ई कैप्सूल का ऑयल रात को सोने से पहले काले घेरों पर लगाएं।
  3. विटामिन-ई ऑयल में एक चम्मच शहद या एलोवेरा जैल मिलाकर सोने से पहले होंठों पर लगाएं। इस मिश्रण को चेहरे पर भी लगा सकते हैं। विटामिन-ई ऑयल से त्वचा की मालिश भी कर सकते हैं।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Vitamin E capsules makes hair silky and Skin Glow

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/beauty/news/follow-vitamin-e-capsules-to-make-hair-silky-and-glow-from-skin-126735010.html

छोटे कमरे को बड़ा दिखाने के लिए आज़माएं ये आसान होम डेकोर टिप्स


लाइफस्टाइल डेस्क. छोटे कमरे को सजाना बड़ी चुनौती होती है। ख़ासकर ये समझना मुश्किल होता है कि किस चीज़ को कहां रखा जाए या किस सामान को हटा दिया जाए। अगर कमरे में बदलाव लाने के लिए कुछ नया आज़माना चाहें तो वो भी मुमकिन नहीं होता। ऐसे में कुछ आसान तरीक़े छोटे कमरे को बड़ा दिखने में मददगार होते हैं। इन्हें आप भी अपनाकर देख लीजिए।

मर्फी डेस्क
मर्फी बेड का चलन काफ़ी पुराना है। इस तरह के बेड को कमरे में जगह बचाने के लिए उपयोग में लिया जाता था। इसी की तर्ज पर इन दिनों मर्फी डेस्क काफ़ी पसंद की जा रही हैं। इनके अंदर सामान रखा जा सकता है और खोलकर इसका इस्तेमाल स्टडी टेबल, कपड़ों पर आयरन आदि के लिए कर सकते हैं।

मर्फी टेबल।

माउंट रैक
कपड़े सुखाने की पर्याप्त जगह नहीं है तो इस तरह के रैक का इस्तेमाल कर सकते हैं। रोज़मर्रा के कपड़े सुखाने का यह बेहद आसान तरीक़ा है। ये फोल्डिंग रैक होती है जिसे किसी भी दीवार के कोने पर लगा सकते हैं। ज़रूरत अनुसार छोटा-बड़ा लगा सकते हैं।

माउंट रेक

दर्पण लगाए
जब कमरा छोटा होता है तो रोशनी ख़ुद-ब-ख़ुद कम लगती है। ऐसे में कमरे को बड़ा दिखाने के लिए यह सबसे पसंदीदा तरीक़ों में शामिल है। छोटे कमरे में किसी भी कोने पर लंबाई में दर्पण रखें। इससे कमरे का आकार बड़ा लगेगा साथ ही लाइट भी अधिक लगेगी।

लंबे दर्पण।

कंसोल टेबल
सजावट की जगह की कमी है तो सोफे के पीछे एक कंसोल टेबल रख सकते हैं। इसमें फोटो फ्रेम व पसंदीदा शो पीस रख सकते हैं। ये टेबल बेहद कम जगह लेती है। अगर टेबल और सोफ़ा एक ही ऊंचाई पर है तो इनके बीच थोड़ी-सी दूरी बनाकर रख सकते हैं।

कंसोल टेबल।

हैंगिंग टेबल
यदि कमरे में टेबल रखने लायक़ जगह नहीं है तो ख़ूबसूरत से लकड़ी के टुकड़े को लटकाकर हैंगिंग टेबल बनाएं। इस पर किताबें, मोबाइल, पौधे आदि आराम से रख सकते हैं। इससे कमरा काफ़ी हदतक बड़ा लगेगा। साथ ही नयापन भी नज़र आएगा।

हैंगिंग टेबल।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Try these simple tips to make a small room look bigger

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/home-decor/news/home-decor-tips-try-these-simple-tips-to-make-a-small-room-look-bigger-126735066.html

छोटे कमरे को बड़ा दिखाने के लिए आज़माएं ये आसान होम डेकोर टिप्स


लाइफस्टाइल डेस्क. छोटे कमरे को सजाना बड़ी चुनौती होती है। ख़ासकर ये समझना मुश्किल होता है कि किस चीज़ को कहां रखा जाए या किस सामान को हटा दिया जाए। अगर कमरे में बदलाव लाने के लिए कुछ नया आज़माना चाहें तो वो भी मुमकिन नहीं होता। ऐसे में कुछ आसान तरीक़े छोटे कमरे को बड़ा दिखने में मददगार होते हैं। इन्हें आप भी अपनाकर देख लीजिए।

मर्फी डेस्क
मर्फी बेड का चलन काफ़ी पुराना है। इस तरह के बेड को कमरे में जगह बचाने के लिए उपयोग में लिया जाता था। इसी की तर्ज पर इन दिनों मर्फी डेस्क काफ़ी पसंद की जा रही हैं। इनके अंदर सामान रखा जा सकता है और खोलकर इसका इस्तेमाल स्टडी टेबल, कपड़ों पर आयरन आदि के लिए कर सकते हैं।

मर्फी टेबल।

माउंट रैक
कपड़े सुखाने की पर्याप्त जगह नहीं है तो इस तरह के रैक का इस्तेमाल कर सकते हैं। रोज़मर्रा के कपड़े सुखाने का यह बेहद आसान तरीक़ा है। ये फोल्डिंग रैक होती है जिसे किसी भी दीवार के कोने पर लगा सकते हैं। ज़रूरत अनुसार छोटा-बड़ा लगा सकते हैं।

माउंट रेक

दर्पण लगाए
जब कमरा छोटा होता है तो रोशनी ख़ुद-ब-ख़ुद कम लगती है। ऐसे में कमरे को बड़ा दिखाने के लिए यह सबसे पसंदीदा तरीक़ों में शामिल है। छोटे कमरे में किसी भी कोने पर लंबाई में दर्पण रखें। इससे कमरे का आकार बड़ा लगेगा साथ ही लाइट भी अधिक लगेगी।

लंबे दर्पण।

कंसोल टेबल
सजावट की जगह की कमी है तो सोफे के पीछे एक कंसोल टेबल रख सकते हैं। इसमें फोटो फ्रेम व पसंदीदा शो पीस रख सकते हैं। ये टेबल बेहद कम जगह लेती है। अगर टेबल और सोफ़ा एक ही ऊंचाई पर है तो इनके बीच थोड़ी-सी दूरी बनाकर रख सकते हैं।

कंसोल टेबल।

हैंगिंग टेबल
यदि कमरे में टेबल रखने लायक़ जगह नहीं है तो ख़ूबसूरत से लकड़ी के टुकड़े को लटकाकर हैंगिंग टेबल बनाएं। इस पर किताबें, मोबाइल, पौधे आदि आराम से रख सकते हैं। इससे कमरा काफ़ी हदतक बड़ा लगेगा। साथ ही नयापन भी नज़र आएगा।

हैंगिंग टेबल।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Try these simple tips to make a small room look bigger

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/home-decor/news/home-decor-tips-try-these-simple-tips-to-make-a-small-room-look-bigger-126735164.html

हरी प्याज़ के इन स्वादिष्ट व्यंजनों से करिए अपने घरवालों को खुश


लाइफस्टाइल डेस्क. हरा प्याज़ यानी प्याज़ के पत्तों का स्वाद अन्य हरी सब्ज़ियों और भाजियों से काफ़ी अलग होता है। आमतौर पर आलू के साथ इसकी सब्ज़ी बनाई जाती है। पर प्याज़ के इन पत्तों को और भी कई तरीकों से बनाया जा सकता है। आज़माइए, कुछ नई रेसिपीज़।

प्याज़ थोरन
क्या चाहिए— हरे प्याज़ के पत्ते- 1 कप, नारियल- कप कद्दूकस किया हुआ, प्याज़- 4 (पत्तों के साथ वाली गांठ), हरी मिर्च-4, हल्दी- 1 चुटकी, कढ़ी पत्ते - 4-5, नमक- स्वादानुसार, राई- छोटा चम्मच, तेल- 2 बड़े चम्मच।
ऐसे बनाएं— हरा प्याज़ बारीक़ काट लें। मिक्सर जार में नारियल, हरी मिर्च, प्याज़, हल्दी और नमक पीसकर मसाला तैयार करें। कड़ाही में तेल गर्म करके राई तड़काएं। फिर कढ़ी पत्ते तड़काएं। इसमें प्याज़ के पत्ते और पीसा हुआ मसाला डालकर मध्यम आंच पर ढककर पकाएं। फिर क़रीब 10 मिनट तक चलाते हुए भूनें। इसे रोटी और रायते के साथ परोसें।

प्याज़ थोरन।

प्याज़ करी
क्या चाहिए— हरा प्याज़- 2 कप कटा हुआ, टमाटर- 1 कटा हुआ, इमली का गूदा- 1 छोटा चम्मच, हल्दी पाउडर- छोटा चम्मच, नमक- स्वादानुसार, राई- 1 छोटा चम्मच, हींग- 1 चुटकी।
मसाले के लिए— नारियल- 1 कप कद्दूकस किया हुआ, उड़द दाल- 2 छोटे चम्मच, चना दाल- 1 छोटा चम्मच, मेथी दाना- छोटा चम्मच, जीरा- छोटा चम्मच, सफ़ेद तिल- 1 छोटे चम्मच, खड़ी लाल मिर्च- 4-8, तेल- 2 बड़े चम्मच।
ऐसे बनाएं— कड़ाही में एक बड़ा चम्मच तेल गर्म करें। नारियल और तिल छोड़कर मसाले की सभी सामग्री डालकर सुनहरा भूनें। फिर नारियल डालकर एक मिनट और भूनें। मिश्रण को निकालकर ठंडा करें, फिर मिक्सर जार में डालें। एक कड़ाही में तिल सुनहरे होने तक रोस्ट करें और मिक्सर जार में डालकर मिश्रण के साथ पीसकर मसाला तैयार करें। कड़ाही में एक बड़ा चम्मच तेल गर्म करें। इसमें हरा प्याज़ और टमाटर 3-5 मिनट तक भूनें। हल्दी, नमक, इमली और मसाला पेस्ट डालकर कुछ देर चलाते हुए भूनें। जब ये थोड़ी पक जाए तो आधा कप पानी डालें और गाढ़ा होने दें। जब ये तेल छोड़ दे और रंगत आ जाए तो आंच बंद करें। ऊपर से राई का तड़का डालकर परोसें।

प्याज़ करी।

प्याज़ पराठा
क्या चाहिए— मैदा- कप, गेहूं आटा- 5 बड़े चम्मच, तेल-2 छोटे चम्मच, हरा प्याज़- 1 कप (प्याज़ की गांठ समेत कटा), तेल- 1 बड़ा चम्मच।
भरावन के लिए - लहसुन- 2 छोटे चम्मच बारीक कटा हुआ, हरी मिर्च- 1 छोटा चम्मच बारीक कटी हुई, नमक- स्वादानुसार।
ऐसे बनाएं— बड़े बोल में मैदा, आटा, तेल और नमक डालकर थोड़ा गीला आटा गूंधे। इसे ढककर एक तरफ़ रखें। कड़ाही में तेल गर्म करें। इसमें लहसुन और हरी मिर्च डालकर सुनहरा करें। फिर हरा प्याज़ और नमक डालकर मध्यम आंच पर 1-2 मिनट तक भूनें। ठंडा होने के लिए एक तरफ़ रख दें। अब आटे की लोईयां बनाकर इनमें हरे प्याज़ का मिश्रण भरें। इसे हल्के हाथों से बेलते हुए पराठा बनाएं। तवे पर दोनों तरफ़ तेल लगाते हुए सेकें। हरी चटनी या सब्ज़ी के साथ पराठे परोसें।

हरी प्याज़ से बने पराठे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Make your family happy with these delicious onions

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/green-onion-dishes-recipes-126734998.html

ब्रेन ट्यूमर की आखिरी स्टेज पर गुजरात की सुरुचि ने लगाए 30 हजार से अधिक पेड़ ताकि अगली पीढ़ी को कैंसर से बचा सकें


लाइफस्टाइल डेस्क. गुजरात के सूरत शहर में रहने वाली सुरुची वडालिया ब्रेन ट्यूमर की आखिरी स्टेज में हैं। जीवन के इस पड़ाव पर सुरुचि आने वाली पीढ़ियों के लिए को कैंसर से बचाने के लिए पेड़ लगा रही हैं। वह अब तक 30 हजार से ज्यादा पौधरोपण कर चुकी हैं। कैंसर के कारणों में से वायु प्रदूषण भी अहम फैक्टर है, इसे रोकना ही उनकी पहल का लक्ष्य है। प्रदूषण घटाने की इस मुहिम में लोग उनसे जुड़ भी रहे हैं।

ऐसे हुई शुरुआत
सुरुची को एक दिन सिर में तेज दर्द हुआ। डॉक्टरों को दिखाने के बाद पता चला कि उन्हें आखिरी स्टेज का ब्रेन ट्यूमर है। इलाज़ के दौरान तबीयत सुधरने के बजाय और खराब होने लगी। खाली समय में सुरुची ने अपनी ना सही पर दूसरों की जिंदगी को बचाने के लिए पहल शुरु की। उनका कहना है कि भले ही कैंसर का इलाज संभव नहीं है लेकिन इस बीमारी के कारण पर तो रोक लगाने की कोशिश की जा सकती है। सुरुची ने वायू प्रदूषण के खिलाफ अपनी जंग शुरू कर दी। दो साल के अपने सफर में उन्होंने लगभग 30 हज़ार पौधे लगाए। उनका कहना है कि उन्हें नहीं पता कि वो कितने दिन तक जिंदा रहने वाली हैं, लेकिन वह चाहती हैं कि पौधे लगाकर लोगों की सांसों में हमेशा रहें।

स्कूल के बच्चे को गोद में ली हुईं सुरुचि वडालिया।

डॉक्टरों ने दे दिया जवाब
बीमारी का पता लगते ही उन्होंने कई बार जांच करवाई थी, मगर हर डॉक्टर ने जवाब दे दिया। ट्रीटमेंट के दौरान अब तक 36 कीमोथेरेपी और उतनी ही रेडिएशन थेरेपी भी हो चुकी हैं। उन्हें रोजाना कई बार दवाइयां लेनी पड़ रही हैं। एक समय लंबे बाल रखने वाली सुरुची के सिर पर कीमोथैरेपी के कारण बाल भी नहीं है। उनके इस साहस को देख लोगों को ना केवल प्रेरणा मिल रही है बल्कि लोग उनकी इस मुहिम में शामिल भी हो रहे हैं।

स्कूल के बच्चों के साथ सुरुचि।


स्कूली बच्चों को दे रहीं पर्यावरण की जानकारी
सुरुची ज्यादा से ज्यादा समय लोगों को वायु प्रदूषण के खतरों से आगाह कर रही हैं। वह अक्सर गांव और स्कूलों में जाकर लोगों को ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाने के लिए प्रोत्साहित करती हैं। उनका मानना है कि सिर्फ पौधे लगाकर वायू प्रदूषण पर नियंत्रण पाया जा सकता है।

लोगों को पौधे बांटती सुरुचि।

क्लीन इंडिया, ग्रीन इंडिया की एंबेसेडर बनीं
सूरत शहर के एनजीओ हार्ट एट वर्क ने कुछ समय पहले क्लीन इंडिया, ग्रीन इंडिया मूमेंट की शुरुआत की है। इस संस्था ने एक बार में 2,500 पौधे लगाने का लक्ष्य बनाया था। जब एनजीओ को पता चला कि सुरुचि की आखिरी इच्छा ज्यादा से ज्यादा पौधे लगाने की है तो उन्होंने उन्हें अपना ब्रांड एंबेसेडर बनाया। सुरुची की सेहत को देखते हुए डॉक्टरों ने उन्हें ज्यादा चलने और ट्रेवल करने में सावधानी बरतने को कहा था लेकिन उन्होंने संस्था के लोगों के साथ पौधे लगाने का अभियान रुकने नहीं दिया।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Suruchi Vadalia Meet Gujarat Woman Who Has Planted Over 30000 Trees In

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/suruchi-vadalia-meet-gujarat-woman-who-has-planted-over-30000-trees-in-2-years-126727203.html

हॉलीवुड सिंगर बिली पोर्टर ने बताया वो क्यों पहनते हैं अजीबोगरीब कपड़े, बोले; यह समाज के स्टीरियोटाइप बदलने की जंग


लाइफस्टाइल डेस्क. बॉलीवुड से रनवीर सिंह और हॉलीवुड से एक्टर-सिंगर बिली पोर्टर अक्सर अपने ड्रेसिंग सेंस से चौकाते हैं। लेकिन बिली एक कदम और भी आगे हैं। गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड्स से लेकर मेट गाला तक बिली ने हमेशा एकदम अलग लुक अपनाया। तारीफ से ज्यादा वो ट्रोलर्स के निशाने पर आए। बिली ने कपड़ों पर उठे ट्रोलर्स के सवालों को नजरअंदाज नहीं किया और जवाब दिया। बिली को क्यों पसंद हैं अतरंगी कपड़े और हर इवेंट में क्यों अपनाते हैं यूनिक लुक, पढ़िए इसके पीछे की कहानी....

कब क्या पहना
गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड्स :
गोल्डन ग्लोब की अवॉर्ड सेरेमनी में बिली ने एलेक्स विनेश के व्हाइट फेदर्स गाउन के साथ हाई हील पहनकर सुर्खियां बटोरीं। यह पहली मौका नहीं था जब वह महिलाओं की तरह ड्रेस पहनकर किसी इवेंट में पहुंचे।

गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड।

मेट गाला : मेट गाला 2019 में 24 कैरेट गोल्ड हैडपीस और 10 फूट लंबे विंग्स और कैटसूट के साथ रेड कार्पेट पर वॉक किया था। इस ड्रेस को कई सारे क्रिस्टल, चेन और मोतियों से बनाया गया था।

मेट गाला 2019।

ऑस्कर अवॉर्ड : लॉस एंजलिस में बीते दिन हुए ऑस्कर अवॉर्ड में बिली ने गाइल्स डैकेन की डिज़ाइनर ड्रेस पहनी थी जिसकी प्रेरणा रॉयल केनसिंग्टन पैलेस से ली गई है। गोल्डन पंख के वर्क और लंबी बोरोक ड्रेस के साथ बिली ने जिम्मी चू की गोल्डन स्ट्रेपी हाई हील्स पहनी थी।

ऑस्कर अवॉर्ड में ऐसे पहुंचे थे बिली।

ग्रैमी :साल की शुरुआत में हुए ग्रैमी अवॉर्ड में बिली ने हल्के नीले रंग का टर्कोइस जंपसूट और जैकेट पहना था। जंपसूट के साथ पेयर की गई क्रिस्टल फ्रिंज वाली केप को काफी खास तकनीक के साथ बनाया गया था। इस केप से बिली का चेहरा पूरी तरह ढ़का हुआ था। रेड कार्पेट में पोज़ करने के दौरान तकनीक से केप पर लगी क्रिस्टल फ्रिंज को स्लाइड करवाया गया था।

ग्रैमी अवॉर्ड की रेड कार्पेट में बिली पोर्टर।

'मुझमें अपने स्टेटस को आगे बढ़ाने का साहस'
वोग मैग्जीन को दिए इंटरव्यू में बिली ने बताया, मुझमें अपने स्टेटस को आगे बढ़ाने का साहस है। मैं चाहता हूं जब भी दिखूं एक आर्ट की तरह लगूं, मस्कुलैरिटी क्या है, इसका मतलब क्या होता है, महिलाओं को रोजाना पेंट पहने हुए देखा जाता है लेकिन जिस दिन लड़का स्कर्ट पहन ले सब बदल जाता है। लोगों की सोच बदल जाती है, ऐसा क्यों? बिली कहते हैं कि मैं चाहता हूं कि लोग ये समझें कि आपको लोगों को समझना और उनसे राज़ी होने की जरूरत नहीं है। हमें एक दूसरे की इज्जत करनी चाहिए। लोग मेरे लुक से काफी असहज महसूस करेंगे मगर ये दूसरों के लिए नहीं है।

बिली के लुक पर ट्रोलर्स के सवाल
अलग-अलग इवेंट्स में बिली के लुक पर ट्रोलर्स ने तारीफ भी की और नाराजगी भी जताई।

## ## ## ##

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Billy Porter Oscars 2020 Awards | US Hollywood Billy Porter Oscars 2020 Awards Red Carpet Latest News and Updates On Her Dress Sense

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/fashion/news/us-hollywood-billy-porter-oscars-2020-awards-red-carpet-latest-news-and-updates-on-her-dress-sense-126727181.html

दक्षिण एशिया का सर्वाधिक घूमा जाने वाला डेस्टिनेशन है सिंगापुर, यहां का चांगी सी-बीच और क्लार्क क्वे बनाएगा यात्रा को यादगार


लाइफस्टाइल डेस्क. सिंगापुर में टूरिज्म एक प्रमुख इंडस्ट्री है। हर साल ये लाखों की संख्या में पर्यटकों को आकर्षित करता है। इसके सांस्कृतिक आकर्षण का श्रेय इसकी सांस्कृतिक विविधता को दिया जाता है, जो इसके औपनिवेशिक इतिहास और चीनी, मलय, भारतीय और अरब जातीयता को दर्शाता है। यहां पर्यावरण का पूरा ख्याल रखा जाता है और प्रकृति तथा विरासत संरक्षण संबंधी कई कार्यक्रम चलाए जाते हैं। यहां जिन चार भाषाओं को आधिकारिक दर्जा प्राप्त है उनमें अंग्रेजी सबसे ज्यादा प्रचलित है। ऐसा इसलिए है क्योंकि अंग्रेजी पूरी दुनिया में बोली और समझी जाने वाली भाषा है। जब कोई पर्यटक सिंगापुर पहुंचता है और वहां के स्थानीय लोगों से बातचीत करता है, खासकर जब कुछ खरीदारी करता है तब उसे काफी सुविधा होती है। आइए इंदौर के गुलशन मंडलोई से जानते हैं क्या है सिंगापुर में खास।

ओपन जू में देखें विचरण करते जीव

सिंगापुर में घूमने फिरने की बात करें तो ये ऑर्चर्ड रोड डिस्ट्रिक्ट का नाम अग्रणी है। यहां बहुमंजिला शॉपिंग सेंटर्स और होटलों की भरमार है। सिंगापुर के दूसरे आकर्षक पर्यटन स्थलों में सिंगापुर चिड़ियाघर और नाइट सफारी को शामिल किया जा सकता है, जहां पर्यटकों को एशियाई, अफ्रीकी और अमेरिकी जीवों को रात के अंधेरे में देखने का मौका मिलता है। खास बात ये है कि यहां पर्यटक इन जंगली जानवरों को पिंजरे के अंदर नहीं बल्कि आमने-सामने देख सकते हैं। सिंगापुर चिड़ियाघर एक खास तरह का ओपन जू है, जहां जानवरों को पिंजरे के बजाए एक ऐसे घेरे में रखा जाता है जिनके चारों ओर गहरी खाई बनी है। ये खाइयां सूखी अथवा पानी से भरी हो सकती हैं। जूरोंग बर्ड पार्क एक अन्य जूलॉजिकल गार्डन है जो पक्षियों पर केंद्रित है। यहां पर्यटकों को एक हजार फ्लैमिंगों पक्षियों के झुंड के अलावा दुनिया भर में पाए जाने वाले पक्षियों की विभिन्न प्रजातियों और किस्मों को देखने का मौका मिलता है।

हर साल दुनियाभर के 50 हजार पर्यटक विजिट करते हैं इस खूबसूरत द्वीप पर

सेंटोसा द्वीप भी पर्यटकों के आकर्षण का एक महत्वपूर्ण केंद्र है, जहां हर साल पचास लाख से ज्यादा पर्यटक पहुंचते हैं। ये द्वीप सिंगापुर के दक्षिण में स्थित है और यहां फोर्ट सिलोसो जैसे 20-30 प्रसिद्ध स्थान हैं; फोर्ट सिलोसो को दूसरे विश्व युद्ध के दौरान जापानी हमले से बचाव करने के लिए एक किले के रूप में बनाया गया था। फोर्ट सिलोसो में पर्यटकों को दूसरे विश्व युद्ध में इस्तेमाल की गई छोटी बंदूकों से लेकर 16 पाउंड यानी करीब सात किलो वजनी बंदूकें भी देखने को मिल सकती हैं। इसके अलावा इस द्वीप पर टाइगर स्काई टावर बनाया गया है जहां से पूरे सेंटोसा द्वीप के साथ-साथ सेंटोसा ल्यूज का नजारा भी देखा जा सकता है; सेंटोसा ल्यूज में एक या दो लोग पैरों को सीधा आगे करके लेटते हैं और फिसलने का मजा लेते हैं। अपने वजन को इधर-उधर करके या लगाम को खींचकर इसे चलाया जाता है। सिंगापुर में मरिना बे सैंड्स और रिसॉर्ट्स वर्ल्ड सेंटोसा नामक दो एकीकृत रिसॉर्ट्स भी हैं जहां कैसिनो यानी जुआ खेलने के अड्डे भी मौजूद हैं।

अन्य आकर्षक केंद्र

क्लार्क क्वे: क्लार्क क्वे सिंगापुर नदी के किनारे स्थित एक ऐतिहासिक जहाजी घाट और सिंगापुर का एक प्रमुख पार्टी सेंटर है। ये बोट क्वे के मुकाबले सिंगापुर नदी के मुहाने के ऊपर स्थित है। फिलहाल यहां जिन पांच वेयरहाउस का फिर से निर्माण किया गया है, उनमें कई रेस्त्रां और पुराने जमाने की चीजों की दुकानें मौजूद हैं। क्लार्क क्वे में 50 से भी ज्यादा होटल हैं, जहां 20 तरह के पकवान परोसे जाते हैं। इसके अलावा यहां बीस से ज्यादा बार, क्लब और पब हैं। दुनिया के सबसे अच्छे पबों में से कुछ क्लार्क क्वे में स्थित हैं।

बोट क्वे: सिंगापुर नदी के मुहाने पर स्थित बोट क्वे सिंगापुर का एक ऐतिहासिक जहाजी घाट है। यहां की दुकानों को खास तरीके से संरक्षित किया गया है और अब यहां कई पब और रेस्त्रां भी बन गए हैं। इनमें सबसे लोकप्रिय वे डाइनिंग बार हैं जो नदी के किनारे स्थित हैं। वहां भारतीय पर्यटकों को लुभाने के लिए खास इंतजाम किए गए हैं। वहां हिंदी म्यूजिक लाउंज काफी लोकप्रिय है। ऐसे हिंदी म्यूजिक लाउंज में बॉलीवुड गीत भी सुनने को मिलते हैं।, क्लब कोलाबा, तराना, घुंघरू, क्रिश, टेबल, हल्दी जैसे नाम लोकप्रिय हैं।

चांगी सी-बीच: यह सिंगापुर का सबसे मशहूर सी-बीच है। यदि आप सिंगापुर के ट्रिप पर हैं तो आपको चांगी बीच जरूर जाना चाहिए। इस जगह पर एक समुद्र तट पार्क है जो सिंगापुर के सबसे पुराने तटीय पार्कों में से एक है। 28 किलोमीटर के समुद्र तट पर एक शांत परिवेश, चांगी बीच में लगभग 3.3 किमी लंबा पार्क है, जो चांगी प्वाइंट और चांगी फेरी रोड (Changi Ferry Road) के बीच स्थित है। परिवार के साथ पिकनिक मनाने के लिए यह बेहतर जगह है। यहां आप सूर्यास्त का अद्भुत नजारा भी देख सकते हैं। इसके अलावा अगर आप ऊंचाई से सिंगापुर की खूबसूरती को देखना चाहते हैं, तो सिंगापुर फ्लायर से भी बेस्ट जगह है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
South Asia's most visited destination: Singapore

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/singapore-is-most-visited-place-in-south-asia-for-tourist-126726949.html

महिला आंत्रप्रन्योर के लिए इन 7 स्कीमों से लिया जा सकता है लोन


लाइफस्टाइल डेस्क. महिलाएं अपने पैरों पर खड़ी हो सकें, इसके लिए सरकार की तरफ से कई योजनाएं चलाई जाती हैं। बिजनेस चाहे घर से शुरू किया जाए या बाकायदा ऑफिस बनाकर, सबसे बड़ी समस्या पैसों की होती है। ऐसे में देश के विभिन्न बैंकों द्वारा चलाई जा रही फाइनेंशियल स्कीम्स काफी काम आ सकती हैं। कई बैंक्स महिलाओं के लिए घर से या घरे से बाहर बिजनेस शुरू करने के लिए वित्तीय सहायता देते हैं। यहां ऐसी ही कुछ योजनाएं दी जा रही हैं।

सिंडिकेट बैंक सिंड महिला शक्ति: इसमें बिजनेस कर रही महिला नए या पुराने बिजनेस की वर्किंग कैपिटल की जरूरत पूरी करने के लिए 5 करोड़ रुपए तक का कैश क्रेडिट लोन पा सकती हैं। रिपेमेंट का समय 7 से 10 साल तक का होता है। महिलाएं इससे माइक्रो, स्मॉल या मीडियम इंटरप्राइज स्थापित कर सकती हैं। इसमें आवेदन के लिए टेक्निकल एजुकेशन में डिप्लोमा या ग्रैजुएट डिग्री होना जरूरी है।

देना बैंक की शक्ति स्कीम: अगर आपका रिटेल ट्रेड बिजनेस है, तो यह सरकारी बैंक 20 लाख रुपए तक का लोन देता है। इसके अलावा 20 लाख का एजुकेशन लोन और हाउसिंग लोन व छोटी यूनिट स्थापित करने के लिए 50 हजार रुपए का लोन देता है। ब्याज दर सेक्टर और बैंक गाइडलाइन पर निर्भर करती है।

एसबीआई स्त्री शक्ति पैकेज: स्टेट बैंक ऑफ इंडिया महिला आंत्रप्रेन्योर्स को कई तरह की छूट देता है। रिटेल ट्रेड, मैन्यूफैक्चरिंग या सर्विसेस के क्षेत्र में बिजनेस कर रही महिलाएं इनकी पात्र होती हैं। साथ ही चार्टेड एकाउंटेंट्स, डॉक्टर्स, आर्किटेक्ट, ब्यूटीशियन जैसी प्रोफेशनल्स भी स्त्री शक्ति पैकेज में लोन पा सकती हैं। रिटेल ट्रेडर्स और बिजनेस एंटरप्राइज को 50 हजार से 2 लाख रुपए और प्रोफेशनल्स व लघु उद्योंगों को 50 हजार से 25 लाख रुपए तक लोन मिल सकता है।

पीएनबी महिला उद्यम निधि स्कीम: पंजाब नेशनल बैंक भी महिला उद्यमियों को सहायता देता है। अधिकतम लोन अवधि 10 साल है। यह स्कीम महिलाओं के लिए स्मॉल स्केल सेक्टर में नया काम शुरू करने या मौजूदा वेंचर को बेहतर बनाने में मदद करने के उद्देश्य से शुरू की गई है। जैसे आधुनिकीकरण, टेक्नोलॉजी अपग्रेड आदि।
सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया सेंट कल्याणी: इस बिजनेस लोन को 18 वर्ष से ज्यादा उम्र की महिलाएं ले सकती हैं। इसमें असिस्टेंस के लिए कोई आय की कोई सीमा नहीं है। साथ ही कोलैटरल सिक्योरिटी या गारंटर की जरूरत नहीं होती और प्रोसेसिंग फीस भी नहीं है। लोन वर्किंग कैपिटल या टर्म लोन के रूप में ले सकती हैं। अधिकतम 1 करोड़ रुपए तक लोन मिल सकता है।

ओबीसी ओरिएंट महिला विकास योजना स्कीम: ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉर्मर्स की इस स्कीम में महिला आंत्रप्रेन्योर्स लोन ले सकती हैं। हालांकि उनका किसी प्रॉपर्टी में अकेले या संयुक्त रूप से 51% शेयर कैपिटल होना जरूरी है। बिना कोलैटरल के 10 से 25 लाख रुपए तक का लोन 7 साल के लिए ले सकती हैं।


स्टेट बैंक ऑफ मैसूर अन्नपूर्णा लोन स्कीम: यह फूड कैटरिंग का बिजनेस शुरू करने की इच्छुक महिलाओं को दिया जाता है। बिजनेस घर से या बाहर शुरू किया जा सकता है। अधिकतम 50 हजार रुपए का लोन मिल सकता है। रेट बाजार पर आधारित होगा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
These 7 schemes can be availed loan for female entrepreneur

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/bank-loan-scheme-for-female-entrepreneur-126726879.html

168 हज़ार क्रिस्टल से बनी ड्रेस और 5 करोड़ की डायमंड जूलरी पहनकर रेड कार्पेट पर उतरीं सिंगर जैनेल


लाइफस्टाइल डेस्क. लॉस एंजलिस में हुए 92वां एनुअल एकेडमिक अवॉर्ड में सेलेब्रिटीज खूबसूरत अंदाज़ में रेड कार्पेट पर उतरे लेकिन चर्चा में आईं सिंगर जैनेल मोने। जैनेल ने 168 हजार क्रिस्टल से बनीं शिमरी ड्रेस पहनी। 5 करोड़ की वाइट गोल्ड और फॉरेवरमार्क की डायमंड जूलरी ने उनकी खूबसूरती में चार चांद लगाए।

रॉल्फ लॉरेन ने डिजाइन किया था गाउन
जैनेल ऑस्कर अवॉर्ड समारोह के खास हिस्सा थीं। उनकी परफॉर्मेंस के साथ ऑस्कर अवॉर्ड की शुरुआत हुई। 34 वर्षीय जैनेल ने सिल्वर एलाइन ड्रेस पहनी। इसे रॉल्फ लॉरेन ने डिजाइन किया था। इसकी खासियत है कि ड्रेस पर ज्यादातर हैंडवर्क किया गया है।

रॉल्फ की डिज़ाइनर ड्रेस में सिंगर जैनेल मोने। साभार- रॉयटर्स


ड्रेस के साथ 60 कैरेट जूलरी
सिल्वर ड्रेस के साथ जैनेल ने चोकर नेकपीस और खूबसूरत फिंगर रिंग पेयर किया था जो 60 कैरेट फॉरेवरमार्क डायमंड जूलरी थीं। इनकी कीमत 5 करोड़ रुपए है। गले में पहने गए चोकर को 18 कैरेट के वाइट गोल्ड से डिज़ाइन किया गया है। हाथों में जैनेल को वेरो अमोर डायमंड (7.04 कैरेट), फ्लोवर डायमंड सेट (4.31 कैरेट) और डायमंड एटरनिटी बैंड्स सेट (18 कैरेट) पहना। उनकी स्टाइलिंग एलेक्सज़ैंडर मॉल्कोन ने की थी।

क्रिस्टल लुक में जैनेल मोने। साभार- डेविड फिशर

मेकअप में भी सिल्वर थीम
जैनेल ने जूलरी से मिलता-जुलता मेकअप किया। सिल्वर जूलरी के साथ मेकअप की थीम भी सिल्वर रखी। जैनेल की मेकअप आर्टिस्ट जैसिका स्मॉल्स ने उनके लुक को ड्रामेटिक और क्रिस्टली बनाने के लिए उनकी आंखों में सिल्वर टच दिया है। उनकी आंखों में अलग- अलग लग्जरी आई लैशेज़ का इस्तेमाल करके लुक को निखारा गया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Janelle Monae Oscars Performances 2020 | Oscars 2020 African-American singer Janelle Monae Opening Act Latest News and Updates

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/janelle-monae-oscars-performances-2020-african-american-singer-opening-act-latest-news-and-updates-126719134.html

इंडियन स्टाइल में वेस्टर्न म्यूज़िक का तड़का लगाने वाली देश की पहली महिला बैगपाइप आर्टिस्ट


लाइफस्टाइल डेस्क. दिल्ली की 26 साल की आर्ची जे अपने टैलेंट से आज लाखों लोगोंको अपना दीवाना बना चुकी हैं। आर्ची भारत की पहली महिला बैगपाइप आर्टिस्ट हैं। भारत में बैगपाइप यंत्र का ज्यादा प्रचलन ना होने के कारण यहां इसे सिखाने वाले ट्रेनर तक नहीं हैं। आर्ची ने कुछ किताबों और ऑनलाइन वीडियोज़ के जरिए इसेबजाना सीखा। इंडियन स्टाइल में वेस्टर्न म्यूज़िक का तड़का लगाने वाली आर्ची के वीडियोज़ को दुनियाभर में सुना जाता है। उनके इस टैलेंट के कारण उन्हें राष्ट्रपति द्वारा भारत की पहली महिलाओं के लिए अवॉर्ड से सम्मानित भी किया जा चुका है।


ऐसे तोड़ा स्टीरियोटाइप
आर्ची को हमेशा से ही म्यूजिक में दिलचस्पी थी। उन्होंने पहली बार परेड के दौरान बैगपाइप यंत्र को सुना था जिसके बाद उन्हें इसकी आवाज़ काफी पसंद आई थी। आर्ची ने इस इंस्ट्रूमेंटके बारे में जानकारी हासिल करनाशुरू किया। जब आर्ची के अंदर बैगपाइप सीखने की इच्छा जागी तो उन्हें उन्होंनेदुनियाभर के कई प्रोफेशनल आर्टिस्ट्स को मेल भेजकर उनसे मदद लेने की ठानी।प्रोफेशलन बैगपाइप आर्टिस्ट सीन फोलसोम ने आर्ची को जवाब देते हुए उन्हें सिखाने के लिए हां कह दिया। कुछ ज़रूरी जानकारियों के साथ सीन ने उन्हें सीखने के लिए सही किताबों की भी जानकारी दी थी, जिससे आर्ची को सीखने में काफी मदद मिली।

आर्ची के कंपोज़ किए गाने नगीना की एक झलक।


यूएस की कंपनी छोड़ आर्ची बनीं प्रोफेशनल आर्टिस्ट
नोएडा के एशियन स्कूल ऑफ मीडिया से मास कम्यूनिकेशन की पढ़ाई पूरी करने के बाद आर्ची ने यूएस आधारित एक कंपनी में नौकरी शुरू कर दी थी। उन्होंने नौकरी करने के साथ-साथ अपने जुनून को भी जिंदा रखा और किताबों की मदद से बैगपाइप इंस्ट्रूमेंटबजाना सीखा। दो सालों तक अकेले सीखने के बाद आर्ची एक हफ्ते के लिए स्कॉटलैंड के ग्लासग्लो गई थीं। यहां उन्होंने अपने अध्ययन को और बारीकी से करते हुए प्रोफेशनलस सेबैगपाइप बजाना सीखा। एक हफ्ते बाद ग्लासग्लो से वापस आने के बाद आर्ची ने अपने जुनून को ही अपना करियर बनाने का फैसला कर अपनी नौकरी को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया।

बैगपाइप के साथ पोज़ करती हुईं आर्ची जे।


पहले ही वीडियो से मिली कामयाबी
आर्ची बैगपाइप बजाने वाली पहली भारतीय महिला होने के अलावा बेहतरीन फ्यूज़न बनाने के लिए भी काफी मशहूर हैं। उन्होंने साल 2014 में ऑस्ट्रेलिया के फैमस बैंड एसी डीसी के थंडरस्ट्रक गाने की धुन को बैगपाइप यंत्र से बजाकर अपनी वीडियो शेयर की थी। खुद में एक अलग तरह की धुन के कारण ये वीडियो तेज़ी से वायरल हुई थी। इसके बाद लगातार गेम्स ऑफ थ्रोन, स्टार वॉर्स और गॉडफादर के गानों को अपनी धुन देकर आर्ची ने काफी लोकप्रियता हासिल की थी। फिलहाल वो खुद के बनाए हुए गानों के कंपोज़िशन की ओर बढ़ चुकी हैं। साल 2019 में आए गाने आसमां से को उन्होंने म्यूज़िक के साथ पहली बार अपनी आ‌वाज़ भी दी है।


स्नेक चार्मर नाम से हैं मशहूर
भारतीय संस्कृति से जुड़ा होने के कारण आर्ची ने स्नैक चार्मर नाम को अपना आर्टिस्टिक नाम चुना था। स्नेक चार्मर को भारत में सपेरों के लिए इस्तेमाल किया जाता है, जो बीन बजाकर सांप को अपने वश में करते हैं। आर्ची ने अपने यू ट्यूब चैनल को भी द स्नेक चार्मर नाम दिया है। भारत और दुनिया भर के 79 देशों द्वारा उनके इस चैनल को फॉलो किया जाता है। उनके यूट्यूब चैनल के महज़ पांच सालों में ही 4.50 लाख सबस्क्राइबर बन चुके हैं।


राष्ट्रपति से मिल चुका है सम्मान
साल 2018 में भारत की 100 ऐसी महिलाओं को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गौरवपूर्ण सम्मान दिया गया था जो कुछ अलग करने वाली पहली महिलाएं हैं। इन महिलाओं में आर्ची जे ने भारत की पहली प्रोफेशनल बैगपाइपर आर्टिस्ट होने के लिए सम्मान हासिल किया था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Archie J Bagpiper Artist | Delhi's Archie J becomes India's first female bagpipe artist to change Indian thinking

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/url-delhis-archy-j-becomes-indias-first-female-bagpipe-artist-to-change-indian-thinking-126719145.html

रफ्तार से प्यार करने वाली भारत की सबसे तेज़ फॉर्मुला रेसर स्नेहा शर्मा, 16 साल की उम्र में पॉकेटमनी से ली थी रेसिंग की ट्रेनिंग


लाइफस्टाइल डेस्क. मुंबईमें रहने वाली स्नेहा शर्मा अपने जज़्बे से भारत की सबसे तेज़ रेसर का खिताब हासिल कर चुकी हैं। स्नेहा पेशे से पायलट हैं। स्नेहा ने 16 साल की उम्र से रेसिंग की शुरुआत की थी। आज वहमहीने के 15 दिन विमान उड़ाती हैं और 15 दिन अपनीरेसिंग के जुनून को पूरा करती हैं। स्नेहा अबतक 40 इंटरनेशनल रेसिंग में अपनी रफ्तार से कई कप और जीत हासिल कर चुकी हैं।

10वीं क्लास में ली थी प्रोफेशनल ट्रेनिंग
कोलकाता में जन्मीं स्नेहा शर्मा की परवरिश मुंबई में हुई है। बचपन से ही तेज़ रफ्तार में दौड़ती गाड़ियों को चलाने का शौक होने के कारण10वीं क्लास से ही पॉकेटमनी से प्रोफेशनल रेसिंग देखने जाया करती थीं। एक दिन उन्होंने दो प्रोफेशनल रेसर से ट्रेनिंग देने की अपील की। पॉकेटमनी से रेसिंग की ट्रेनिंग पूरी की।रेसिंग सीखने के बाद स्नेहा ने सिटी लेवल रेस में हिस्सा लिया था, इसके बादउन्हें नेशनल रेसिंग टीम ने चुना।

स्नेहा शर्मा, फॉर्मुला 4 रेसर।

परिवार ने रेसिंग को नहीं दी थी मंंजूरी
कम उम्र में ही रेसिंग कोकरियर बनाने वालीं स्नेहा के परिवार वाले उनके इस जुनून के खिलाफ थे। माता-पिता का मानना था कि स्नेहा का ये शौक खतरनाक है और उन्हें इस उम्र में सिर्फ पढ़ाई पर ही ध्यान देना चाहिए। स्कूल के बाद स्नेहा को फैमिली ने पायलट ट्रेनिंग के लिए सैन फ्रांसिस्को भेजा।ट्रेनिंग के दौरान स्नेहा अपने बैच की अकेले प्लेन उड़ाने वाली ट्रेनी बनीं थी। साल 2011 में लाइसेंस लेने के बाद स्नेहा भारत आईं। पायलट बनने के बाद भी रेसिंग में रुचि होने के कारण उन्होंने रेसिंग ट्रेक पर मैकेनिक, रेसर्स के सामान उतारने और ट्रेनिंग देने जैसे काम किए।

20 साल में उड़ाने लगीं थी विमान
पायलट लाइसेंस लेने के बाद स्नेहा इंडिगो एयलाइन्स में बतौर पायलट शामिल हुईं। जब पहली बार विमान उड़ाया तो वो मात्र 20 साल की थीं। नौकरी मिलने के बाद फिर एक बार स्नेहा ने छोटी- छोटी रेसिंग में हिस्सा लेना शुरू कर दिया। 2010 में उन्होंने भारत के 20 चुनिंदा रेसरों के साथ चेन्नई और कोयम्बटूर के रेसिंग ट्रैक में अपनी रफ्तार दिखाई। वो ऐसी पहली हैं जो फॉक्सवैगन सोलो कप और टोयोटाईएमआर में हिस्सा ले चुकी हैं। इसी साल स्नेहा ने मर्सडीज़ यंग स्टार ड्राइवर प्रोग्राम की टॉप 5 रेसर बनी थीं। इस रेस में स्नेहा ने 270 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से ड्राइव करके हर किसी को हैरान कर दिया था। स्नेहा से खुश होकर फॉर्मुला 1 के रेसर माइकल शुमाकार ने उन्हें अपना साइन की हुई मॉडल कार गिफ्ट की थी।

600 महिला रेसर्स के बीच इकलौती भारतीय रेसर
बीते साल मलेशिया में हुए लेड़ीज़ कप इंटरनेशनल में दुनिया भर की 600 महिला रेसर शामिल हुई थीं। स्नेहा इस रेस में अकेली भारतीय रेसर थीं। अपने बेहतरीन प्रदर्शन से स्नेहा ने इस रेस में दूसरा स्थान हासिल कर फिर एक बार अपनी रफ्तार साबित की थी।


उड़ाती हैं 320 एयरबस, साल 2018 में मिली कमांड
स्नेहा शर्मा 21 साल की उम्र से एयरबस 320 उड़ा रही हैं। इस एयरबस की कीमत 700 करोड़ रुपए है। साल 2018 में स्नेहा को इस एयरबस की कमांड भी मिल चुकी है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Sneha Sharma: Meet Mumbai Sneha Sharma India's fastest woman F4 racer

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/women/lifestyle/news/sneha-sharma-mumbai-indias-fastest-woman-f4-racer-126719142.html

Danik Bhaskar Rajasthan Danik Bhaskar Madhya Pradesh Danik Bhaskar Chhattisgarh Danik Bhaskar Haryana Danik Bhaskar Punjab Danik Bhaskar Jharkhand Patrika : Leading Hindi News Portal - Bhopal Patrika : Leading Hindi News Portal - Jaipur The Hindu Nai Dunia Latest News Hindustan Hindi Danik Bhaskar National News Danik Bhaskar Himachal+Chandigarh Patrika : Leading Hindi News Portal - Entertainment Danik Bhaskar Uttar Pradesh Patrika : Leading Hindi News Portal - Mumbai Patrika : Leading Hindi News Portal - Astrology and Spirituality Patrika : Leading Hindi News Portal - Lucknow Nai Dunia Madhya Pradesh News News 18 onlinekhabar.com Patrika : Leading Hindi News Portal - Varanasi NDTV News - Latest Patrika : Leading Hindi News Portal - Miscellenous India Danik Bhaskar Delhi Danik Bhaskar Technology News Orissa POST Danik Bhaskar Health News Scroll.in ET Home NDTV Top Stories NDTV News - Top-stories Patrika : Leading Hindi News Portal - Sports Patrika : Leading Hindi News Portal - Business Patrika : Leading Hindi News Portal - Education Bharatpages India Business Directory Patrika : Leading Hindi News Portal - World NDTV Khabar - Latest hs.news Patrika : Leading Hindi News Portal - Bollywood Telangana Today Moneycontrol Latest News NDTV News - India-news India Today | Latest Stories ABC News: International Business Standard Top Stories Danik Bhaskar International News Danik Bhaskar Madhya Pradesh NDTV News - Special The Dawn News - Home Patrika : Leading Hindi News Portal - Mobile Jammu Kashmir Latest News | Tourism | Breaking News J&K Bollywood News and Gossip | Bollywood Movie Reviews, Songs and Videos | Bollywood Actress and Actors Updates | Bollywoodlife.com NYTimes.com Home Page (U.S.) Nagpur Today : Nagpur News NSE News - Latest Corporate Announcements Stocks-Markets-Economic Times DDNews Feeds Stocks Baseerat Online Urdu News Portal View All
Directory Listing in Advertising Agency in BIHAR NGO in MADHYA PRADESH Home Textile and Furnishings in TAMIL NADU Industrial Goods and Products in BIHAR Courier Services in BIHAR Astrology in CHANDIGARH Job Consultancy in BIHAR WEDDING in BIHAR security services in HIMACHAL PRADESH Automobile and Automative in PUNJAB Books and Stationery in ORISSA common service centre in JAMMU & KASHMIR Industrial Goods and Products in TAMIL NADU common service centre in MANIPUR security services in MAHARASHTRA Event Mangement in BIHAR Car Dealers in BIHAR Event Mangement in ANDAMAN & NICOBAR Service Centre in TAMIL NADU Institution in GOA Institution in MADHYA PRADESH Entertainment & Fun in DELHI FASHION SHOP in RAJASTHAN Electronics And Electrical Goods in UTTAR PRADESH Doctor in DELHI SALES & MARKETING in DELHI Institution in DELHI Hardware and Software in UTTAR PRADESH IT FIRM in TAMIL NADU Computer and Internet in KARNATAKA College in HARYANA FASHION SHOP in DELHI Service Centre in MAHARASHTRA Hotels and Resorts in UTTAR PRADESH Computer Sales And Services in UTTAR PRADESH PHOTO/VIDEO in CHANDIGARH Astrology in TAMIL NADU service provider company in KARNATAKA Automotive & Transport in RAJASTHAN service provider company in MADHYA PRADESH Electrical and Electronic in UTTAR PRADESH Meical Related Services in GOA Hostel in MADHYA PRADESH Telecommunication Products in MAHARASHTRA Electronics And Electrical Goods in DELHI Food & Drink in TAMIL NADU Education & Jobs in DELHI College in ANDHRA PRADESH Architect in DELHI Electronics And Electrical Goods in BIHAR